scorecardresearch
 

धर्म की ख़बरें

कदंब का पेड़

कदंब का वह पेड़, जहां भगवान कृष्ण ने माता यशोदा को कराए ब्रह्माण्ड दर्शन

22 अक्टूबर 2021

मथुरा के गोकुल में करीब 6000 साल पुराना ( ऐसी मान्यता है ) कदंब का वृक्ष है, जिसको लेकर माना जाता है कि इसी स्थान पर भगवान कृष्ण ने माता यशोदा को ब्रह्माण्ड के दर्शन कराए थे.

करवा चौथ का चांद

करवा चौथ का चांद जल्दी निकलेगा या देर से, 5 सालों की टाइमिंग भी देखें

22 अक्टूबर 2021

Karwa Chauth 2021 Moon Sighting Timing: करवा चौथ (Karwa Chauth 2021) का चांद हर सुहागिन स्त्री के लिए बेहद खास होता है. इस दिन निर्जला व्रत रहने के बाद सुहागिनें शाम को चंद्रमा को देखने के बाद व्रत तोड़ती हैं. शाम होने के बाद हर व्रती महिलाएं चंद्रोदय का इंतजार करती नजर आती हैं, तो वहीं करवा चौथ का चांद भी खूब इंतजार कराता है. बादलों की ओट से लुकाछुपी करने के बाद जब चंद्रमा पूर्ण दर्शन देता है, तो सुहागिन महिलाएं अर्घ्य देकर व्रत पूर्ण करती हैं.

दिवाली के बाद लगेगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण

आने वाला है साल का अंतिम चंद्र ग्रहण, जानें तारीख व सूतक काल

22 अक्टूबर 2021

Chandra Grahan November 2021 Date & Timing in India: दिवाली के बाद साल का अंतिम चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2021) लगने जा रहा है. ये चंद्र ग्रहण 19 नवंबर 2021, शुक्रवार को लगेगा. चंद्र ग्रहण के दौरान नए काम करने की मनाही होती है. इसके अलावा, ग्रहण के दौरान घर के अंदर रहने की सलाह दी जाती है. आइए जानते हैं कि ये चंद्र ग्रहण कैसा होगा और किस समय लगेगा.

Mangal Rashi Parivartan 2021

मंगल कर रहे तुला राशि में प्रवेश, इन 5 राशियों की चमकेगी किस्मत

21 अक्टूबर 2021

Mangal Rashi Parivartan 2021: मंगल ग्रह का गोचर तुला राशि में होने जा रहा है. 22 अक्टूबर 2021 दिन शुक्रवार को मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. ज्योतिष के अनुसार कन्या राशि से निकलने के बाद मंगल का तुला राशि में प्रवेश सभी 12 राशियों को प्रभावित करेगा.

आर्थिक मोर्चे पर आज किन राशि वालों के लिए शुभ रहेगा दिन?

मेष-मिथुन को करियर-कारोबार में लाभ, जानें आपके लिए आज कैसा रहेगा दिन

21 अक्टूबर 2021

Arthik Rashifal Today 21 october 2021: आर्थिक पक्ष की ओर से आज का दिन कई राशियों के लिए बेहद शुभ रहने वाला है. हालांकि व्यापार, निवेश और पैसों के लेन-देन के मामले में कुछ राशियों को सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है. आइए जानते हैं सभी राशियों का हाल.

महर्षि वाल्मीकि जयंती शरद पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है

वाल्मीकि जयंती आज, जानें डाकू से महर्षि बनने की पूरी कहानी

20 अक्टूबर 2021

वाल्मीकि जयंती शरद पूर्णिमा तिथि पर मनाई जाती है. पूर्णिमा तिथि के लिए पूजा का समय 19 अक्टूबर को शाम 7 बजकर 3 मिनट से शुरू है और आज रात 8 बजकर 26 मिनट पर समाप्त होगा. वाल्मीकि जयंती को परगट दिवस के रूप में भी जाना जाता है.

आज का पंचांग

पंचांग 20 अक्टूबर 2021, जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल

20 अक्टूबर 2021

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आश्विन शुक्ल पूर्णिमा तिथि दिन है. सूर्य तुला राशि में और चन्द्रमा अक्टूबर 20, 02:02 PM तक मीन राशि उपरांत मेष राशि में संचरण करेंगे.

Sharad Purnima 2021: (Photo Credit: Getty Images)

शरद पूर्णिमा पर बरसेगा अमृत, चांद की रोशनी में खीर रखने के ये लाभ

19 अक्टूबर 2021

Sharad Purnima 2021: ऐसी मान्यताएं हैं कि प्रेम और कलाओं से परिपूर्ण भगवान कृष्ण ने इसी दिन महारास रचाया था. ज्योतिषविदों के मुताबिक, इस दिन चंद्रमा संपूर्ण सोलह कलाओं से युक्त होता है और चंद्रमा से अमृत की वर्षा होती है. ये अमृतवर्षा जीवन में धन, प्रेम और स्वास्थ्य तीनों का सुख लेकर आती है.

Dhanteras 2021 (Photo Credit: Getty Images)

धनतेरस पर बन रहे 2 शुभ योग, इस मुहूर्त में खरीदारी से होगा लाभ

19 अक्टूबर 2021

Dhanteras 2021: धनतेरस पर बाजार से बर्तन, सोने-चांदी की चीजें, मिट्टी के दीये या घर का सामान खरीदना बेहद मंगलकारी होता है. धनतेरस का पर्व इस बार मंगलवार, 2 नवंबर का मनाया जाएगा. ज्योतिषाचार्य डॉ. अरुणेश कुमार शर्मा के मुताबिक, इस साल धनतेरस पर बन रहे दो शुभ योग त्योहार की प्रमुखता बढ़ा रहे हैं.

ईद मिलाद उन-नबी पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है

ईद मिलाद-उन-नबी आज, जानें इस दिन का इतिहास और महत्व

19 अक्टूबर 2021

इस्लाम धर्म के लोग पैगंबर हजरत मोहम्मद के जन्मदिन को ईद-ए-मिलाद-उन-नबी या ईद-ए-मिलाद के रूप में मनाते हैं. इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, ये त्योहार तीसरे महीने रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन मनाया जाता है. . इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार इस्लाम के तीसरे महीने यानि मिलाद उन-नबी की शुरुआत हो चुकी है. मोहम्मद साहब के जन्मदिन (Prophet Muhammad birth anniversary) पर लोग उनकी याद में जुलूस निकालते हैं. इस दिन जगह-जगह बड़े आयोजन भी किए जाते हैं.

आज का पंचांग

पंचांग 19 अक्टूबर 2021, जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल

19 अक्टूबर 2021

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आश्विन शुक्ल चतुर्दशी तिथि दिन है. सूर्य तुला राशि में और चन्द्रमा मीन राशि में संचरण करेंगे.

Diwali 2021: दिवाली की सफाई में घर से बाहर निकाल फेंके ये 7 अशुभ चीजें (Photo Credit: Getty Images)

दिवाली से पहले घर से निकाल फेंकें ये 7 अशुभ चीजें, तभी आएंगी लक्ष्मी

18 अक्टूबर 2021

Diwali 2021 home vastu tips: क्या आपको मालूम है दिवाली की सफाई में घर से कुछ चीजों को निकालना बहुत जरूरी होता है. कुछ अशुभ चीजों के घर में रहने से मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है और हमेशा धन की कमी रहती है.

Photo Credit: Getty Images

60 साल बाद खरीदारी का शुभ मुहूर्त, दिवाली से पहले घर लाएं ये चीजें

18 अक्टूबर 2021

Guru pushya nakshatra sayog for shopping: ज्योतिषविदों के मुताबिक, दिवाली से पहले खरीदारी के लिए महामुहूर्त गुरु पुष्य नक्षत्र 60 साल बाद शनि-गुरु की युति में आ रहा है. 28 अक्टूबर को मकर राशि में शनि-गुरु की युति रहेगी और पुष्य नक्षत्र की शुभता को बल मिलेगा.

आज का पंचांग

पंचांग 18 अक्टूबर 2021, जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल

18 अक्टूबर 2021

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आश्विन शुक्ल त्रयोदशी तिथि दिन है. सूर्य तुला राशि में और चन्द्रमा मीन राशि में संचरण करेंगे.

आज का पंचांग

पंचांग 17 अक्टूबर 2021, जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल

17 अक्टूबर 2021

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आश्विन शुक्ल द्वादशी तिथि दिन है. सूर्य अक्टूबर 17, 01:18 PM तक कन्या राशि, उपरांत तुला राशि में और चन्द्रमा अक्टूबर 18, 04:33 AM तक कुंभ राशि उपरांत मीन राशि में संचरण करेंगे.

पंचांग 16 अक्टूबर 2021 शनिवार

पंचांग: जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल

16 अक्टूबर 2021

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आश्विन शुक्ल एकादशी तिथि दिन है. सूर्य कन्या राशि में और चन्द्रमा कुंभ राशि में संचरण करेंगे. जानें आज का शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल के बारे में.

Vrash Rashifal 16 October 2021

आज का वृष राशिफल 16 अक्टूबर 2021 (Taurus): जोखिम क्षमता बढ़ेगी, चर्चाओं में रहेंगे सफल

16 अक्टूबर 2021

Vrash Rashifal 16 October 2021: वृष (Taurus) राशि के जातक प्रबंधन प्रशासन के कार्याें में आगे रहेंगे. योजनागत कार्याें को गति मिलेगी. कारोबारी चर्चाओं में सफल रहेंगे. जोखिम क्षमता बढ़ेगी. आत्मविश्वास से कार्य करेंगे. पद प्रतिष्ठा को बल मिलेगा. अधिकारियों से भेंट होगी. सभी के लिए श्रेष्ठता का भाव रहेगा. परस्पर सहयोग बढ़ेगा. प्रियजनों भेंट होगी. हर्ष आनंद से समय बीतेगा.

रावण को लेकर श्रीलंका के लोगों का मत अलग है

रावण राक्षस था या हीरो? क्या सोचते हैं श्रीलंका के लोग

15 अक्टूबर 2021

पूरे देश में आज दशहरे (Dussehra 2021) का त्योहार मनाया जा रहा है. आज ही के दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था. भारत में इस त्योहार को बुराई पर अच्छाई की जीत की तरह देखा जाता है. इससे लोगों को सत्य के मार्ग पर चलने की सीख मिलती है लेकिन हर कहानी को दो पहलुओं की तरह इस कहानी का भी एक दूसरा हिस्सा है. रावण को लेकर श्रीलंका (Sri Lanka) के लोगों की राय दूसरी है.

रावण ने अपने दम पर हासिल की थी स्वर्णिम लंका

हमेशा से लंका पर नहीं था रावण का राज, ऐसे हासिल की थी सोने की लंका

15 अक्टूबर 2021

रामायण (Ramayana)में स्वर्ण नगरी लंका का अद्भुत वर्णन किया गया है. कहा जाता है कि इसकी भव्यता से लक्ष्मण इतने मुग्ध हो गए थे कि उन्होंने रावण पर विजय प्राप्त करने के बाद लंका पर शासन करने का सुझाव दिया था. तब राम ने लक्ष्मण को कहा था कि अपनी मां और मातृभूमि वास्तव में स्वर्ग से भी बड़ी होती है. उत्तरकाण्ड रामायण (Uttarkand Ramayan) में बताया गया है कि आखिर रावण को स्वर्णिम लंका कैसे मिली.

 रावण के पुतले का ही दहन क्यों होता है?

रावण के पुतले का ही दहन क्यों होता है, किसी अन्य राक्षस का क्यों नहीं?

15 अक्टूबर 2021

Dussehra 2021: प्रतिवर्ष दशहरे पर रावण के पुतले का दहन किया जाता है. इसके पीछे की मुख्य वजह क्या है. मान्यता है कि असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में ये परंपरा शुरू हुई. दशहरे के दिन भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था. इसी तरह भगवान श्रीकृष्ण ने दुष्ट कंस का भी वध किया था. इसी प्रकार भगवान विष्णु के कई अवतार हुए और दुष्टों के संहार का क्रम चलता रहा, लेकिन रावण के पुतले के दहन के पीछे की बड़ी वजह है.

रामायण का सबसे शक्तिशाली योद्धा था मेघनाद

रावण-कुम्भकर्ण नहीं, ये था रामायण का सबसे शक्तिशाली राक्षस

15 अक्टूबर 2021

Dussehra 2021: रामायण भगवान राम, हनुमान, रावण, बाली और कुंभकरण जैसे बड़े योद्धाओं से भरी हुई है. लेकिन रामायण (Ramayana) में एक योद्धा इन सबसे ज्यादा शक्तिशाली था. ये शक्तिशाली योद्धा मेघनाद था. अगस्त्य मुनि ने प्रभु श्रीराम को बताया था कि रावण का पुत्र मेघनाद (Meghnad in Ramayana)ही इस संग्राम का सबसे ताकतवर योद्धा यानी सबसे शक्तिशाली राक्षस है.