scorecardresearch
 

पूजापाठ

पूजा घर से जुड़ी ये 5 गलतियां बेहद अशुभ, धन-सुख में आती है कमी

19 सितंबर 2020

घर में मंदिर या पूजा स्थान का लाभ तभी मिल सकता है जब इसकी स्थापना में नियमों का पालन किया जाए. इसके लिए जरूरी है कि सही तरीके से मंदिर की स्थापना की करें और मंदिर या पूजा स्थल में सभी नियमों का पालन करें.

सर्वपितृ अमावस्या आज

सर्वपितृ अमावस्या: पितरों के आशीर्वाद के लिए अंतिम दिन ऐसे करें श्राद्ध

17 सितंबर 2020

आज पितृ पक्ष की सर्वपितृ अमावस्या है. ये श्राद्ध का अंतिम दिन होता है. पितृ पक्ष में अंतिम श्राद्ध को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक श्राद्ध कर्म करने से पितर प्रसन्न होते हैं और अपना आर्शीवाद देते हैं.

कुंडली में शनि कैसे होगा मजबूत?

कुंडली में शनि कैसे होगा मजबूत? ये 3 उपाय करने से कम होंगी समस्याएं

12 सितंबर 2020

अगर शनि कमजोर हो तो व्यक्ति को रोजगार में समस्या जरूर होती है. जीवन में संघर्ष और समस्याएं लम्बे समय तक चलती हैं. व्यक्ति को कानून और शरीर से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

पितृपक्ष की मातृ नवमी आज

पितृपक्ष की मातृ नवमी आज, इस विधि से चुकाएं मातृ ऋण

11 सितंबर 2020

मातृ नवमी के दिन घर की उन सभी महिलाओं का श्राद्ध किया जाता है, जिनका निधन हो चुका है. कहा जाता है कि आज के दिन श्राद्ध करने वाले व्यक्ति की सभी मनोकानाएं पूरी होती हैं. मातृ नवमी के दिन मातृ ऋण से भी मुक्ति पाई जा सकती है.

जीवित्पुत्रिका व्रत आज

जीवित्पुत्रिका व्रत आज, जानें इसकी पूजा-विधि और महत्व

10 सितंबर 2020

जीवित्पुत्रिका व्रत को जिउतिया भी कहते हैं. ये व्रत संतान की लंबी उम्र और सुख-समृद्धि के लिए रखा जाता है. छठ की तरह ये पर्व भी तीन दिनों तक मनाया जाता है. कहा जाता है कि जो भी महिला इस व्रत की कथा सुनती है उसे कभी भी अपनी संतान के वियोग का सामना नहीं करना पड़ता है.

किन 10 बाधाओं से बचाते हैं बजरंगबली?

हनुमान को क्यों कहते हैं संकटमोचन, इन 10 बाधाओं से करते हैं रक्षा

08 सितंबर 2020

हनुमान की पूजा जीवन से जुड़ी समस्याओं को दूर कर विशेष फल प्रदान करती है. आइए आपको उन 10 समस्याओं के बारे में जिनसे संकटमोचन हमारी रक्षा करते हैं.

पितृपक्ष में दान करना बहुत शुभ माना जाता है

पितृपक्ष में करें इन पांच वस्तुओं का प्रयोग, होगी पितरों की कृपा

07 सितंबर 2020

पितृपक्ष में पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए पूजा पाठ किए जाते हैं. कहा जाता है कि इन दिनों दान करने और ब्राम्हण को भोजन कराने से पूर्वजों की कृपा बनी रहती है. पितृपक्ष में पितरों के आशीर्वाद के लिए पांच वस्तुओं का प्रयोग बहुत शुभ माना जाता है.

इस पौधे की पूजा से प्रसन्न होते हैं शनि देव

इस पौधे की पूजा से प्रसन्न होते हैं शनि देव, एक उपाय से दूर होगी हर समस्या

05 सितंबर 2020

शमी पौधे के गुण शनि के मिलते-जुलते हैं. ये पौधा कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी जीवित रहता है. शमी पौधे का स्वभाव कठोर और तीखा होता है. लेकिन इस पौधे से संपन्नता और विजय की प्राप्ति होती है. ये सारे गुण शनि के अंदर पाए जाते हैं.

कोरोना संक्रमण के दौरान कैसे करें श्राद्ध

Pitru Paksh: कोरोना काल में घर बैठे ऐसे करें तर्पण

04 सितंबर 2020

पितृपक्ष में हमारे पूर्वज धरती पर आकर अपने परिजनों को आशीर्वाद देकर उनकी समस्याएं दूर करते हैं. इस बार कोरोना के चलते पवित्र नदियों के किनारे श्राद्ध और पिंडदान नहीं कराया जा रहा है. इस बार ज्यादातर जगहों पर ऑनलाइन पिंडदान की व्यवस्था की गई है.

पितृपक्ष में पांच जीवों को कराएं भोजन

पितृपक्ष में इन पांच जीवों को कराएं भोजन, होगी पितरों की कृपा

03 सितंबर 2020

मान्यता है कि पितृपक्ष में 16 दिनों की अवधि के दौरान सभी पूर्वज अपने परिजनों को आशीर्वाद देने के लिए पृथ्वी पर आते हैं. उन्हें प्रसन्न करने के लिए तर्पण, श्राद्ध और पिंड दान किया जाता है.कहा जाता है कि जो लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान नहीं करते हैं उन्हें पितृ ऋण और पितृदोष लगता है.

श्राद्ध में ये 10 महादान करने से होगा लाभ

श्राद्ध में ये 10 महादान करने से होगा लाभ, पितरों की रहेगी कृपा

03 सितंबर 2020

पितृपक्ष में गीता का पाठ करना और दान करना विशेष लाभकारी होता है. इससे पितरों की आत्मा को निश्चित शान्ति मिलती है और आपके जीवन के समस्त कष्टों का निवारण होता है.