scorecardresearch
 

गुजरात

गुजरात दौरे पर जाएंगे अरविंद केजरीवाल

जमीन मजबूत करने की तैयारी! आज गुजरात जाएंगे केजरीवाल

13 जून 2021

अब अभी के लिए कहा जा रहा है कि इस दौरे के जरिए केजरीवाल गुजरात में जा चुनावी मंथन करने जा रहे हैं. वे अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से तो मुलाकात करेंगे ही, इसके अलावा कई दूसरे नेताओं को भी आप की सदस्यता दिलवाएंगे.

लोकगायिका गीता रबारी (फाइल फोटो)

गुजरात: कच्छ की कोयल नाम से मशहूर लोकगायिका ने घर पर लगवाई वैक्सीन, हुआ विवाद

13 जून 2021

लोक गायिका गीता रबारी ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लोगों से शेयर किया कि उन्होंने अपने घर पर ही कोरोना से बचने के लिए टीका लिया है, इसके साथ ही उन्होंने वैक्सीनेशन की एक फोटो भी अपलोड की. इस फोटो के सामने आने के बाद बवाल मच गया.

बच्चों को भी पानी के लिए कई किलोमीटर तक जाना पड़ता है (फोटो-कौशिक कांठेचा)

आजतक की खबर का असर: गुजरात के 15 गांवों में बूंद-बूंद को तरस रहे ग्रामीणों की मदद के लिए पहुंचे DDO

12 जून 2021

आजतक पर खबर चलने के बाद कच्छ जिला प्रशासन गांव पहुंचा और गांव में पानी की सुविधा मुहैया करवाने के कोशिश शुरू की गई. कच्छ के जिला विकास अधिकारी भव्य वर्मा ने बताया कि सभी गांव में पानी की किल्लत जल्द से जल्द खत्म हो यही हमारी प्राथमिकता है.

गुजरात दौरे पर जाएंगे अरविंद केजरीवाल

गुजरात दौरे पर जाएंगे सीएम केजरीवाल, चुनाव से पहले रणनीति पर मंथन

12 जून 2021

2022 के चुनाव की तैयारियों के तौर पर सोमवार को सीएम अरविंद केजरीवाल अहमदाबाद आ रहे हैं. केजरीवाल अहमदाबाद में बनने वाले उनके प्रदेश कार्यलय का उद्दधाटन करेंगे.

नरेश पटेल

नरेश पटेल बोले- पाटीदार होना चाहिए गुजरात का मुख्यमंत्री

12 जून 2021

यह पहली बार हुआ है कि जब पाटीदार समुदाय के दो गुट कडवा पाटीदार और लेउवा पाटीदार दोनों ही एक साथ एक मंच पर आए हैं. अब तक ये दोनों ही पाटीदार एक-दूसरे के साथ एक मंच पर नहीं आते थे. खोडलधाम ट्रस्ट के अध्यक्ष नरेश पटेल ने आज कहा कि गुजरात की राजनीति में अब तक केशुभाई पटेल जैसे नेता दूसरे नहीं हुए हैं.

बिना वैक्सीन अहमदाबाद ग्रामीण में कारोबार नहीं कर पाएंगे लोग ( पीटीआई)

अहमदाबाद: बिना वैक्सीनेशन धंधा नहीं, चाय वाले, सब्जी विक्रेता, कैब, रिक्शा चालक को फरमान

12 जून 2021

अहमदाबाद जिला कलेक्टर ने शुक्रवार को अहमदाबाद के ग्रामीण इलाकों में कारोबार करने वाले कर्मचारियों और फेरीवालों के लिए एक अधिसूचना जारी कर कोरोना वैक्सीन और निगेटव कोरोना रिपोर्ट को अनिवार्य कर दिया.

श्रद्धालुओं के लिए फिर खुला सोमनाथ मंदिर, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दर्शन शुरू

11 जून 2021

देशभर में कोरोना वायरस महामारी के मामले अब धीरे-धीरे घटने लगे हैं. और साथ में अनलॉकिंग की प्रक्रिया भी जारी है. गुजरात में स्थित विश्वप्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर एक बार फिर से श्रद्धालुओं के लिए खोला गया है. सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दर्शन शुरू हो गया है. 61 दिनों बाद मंदिर भक्तों के लिए खुला है. देखें वीडियो.

सांकेतिक तस्वीर

वडोदरा: रात में दोस्तों के साथ शराब पार्टी, सुबह गैंगरेप का आरोप लगाकर लड़की ने की खुदकुशी

11 जून 2021

19 साल की लड़की ने कल रात को अपने दोस्तों के साथ शराब पार्टी की थी. लड़की ने आरोप लगाया कि उसके दोस्तों ने उसके साथ गैंगरेप किया था. इसके बाद लड़की ने आत्महत्या कर ली.

शादी को बनाती थी लूटने का जर‍िया, 21 की उम्र में हो गई ट्रेंड

10 जून 2021

कहते हैं कि शादी 7 जन्मों का बंधन होता है. शादी करने के बाद दम्पति जीवन भर सुख दुःख में एक दूसरे का साथ निभाते हैं मगर गुजरात के सूरत में ऐसी दुल्हन को पुलिस ने गिरफ़्तार किया है जो शादी करने के बाद दूल्हों को दगा देकर ना सिर्फ़ फ़रार हो जाती थी बल्कि पति के घर से माल-ज़ेवर पर भी हाथ साफ़ कर जाती थी.

मुस्लिम बस्ती में वैक्सीन को लेकर भ्रम क्यों? देखें अहमदाबाद से रिपोर्ट

10 जून 2021

मुस्लिम तुष्टिकरण की सियासत देश में लंबे वक्त तक हुई. नतीजा एक बड़े वर्ग में शिक्षा का अभाव बना रहा. वही अशिक्षा जिंदगी बचाने के लिए जरूरी वैक्सीन पर भ्रम का शिकार बना देती है. गुजरात के ऐसे कई इलाके हैं, जहां कोरोना रक्षक टीके लगवाने से मुस्लिम नागरिक बच रहे हैं. जिस टीके को लेने के लिए देश में लोग तरस रहे हैं. उस कोरोना वैक्सीन को अहमदाबाद के मुस्लिम बहुल इलाके के ये लोग छूने को भी तैयार नहीं हैं. यहां वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में इतनी शंका है कि जिंदगी बचाने वाली वैक्सीन को इन्होंने बीमारी से जोड़ दिया है. देखें ये रिपोर्ट.

गंगा में प्रवाहित शवों पर कविता लिखने वालीं पारुल खाखर

गंगा में प्रवाहित शवों पर लिखी कविता, गुजरात साहित्‍य अकादमी ने कहा-'साहित्‍यिक नक्‍सल'

10 जून 2021

साहित्य अकादमी ने अपने संपादकीय के जरिए उस कविता पर जमकर निशाना साधा है. एक बार के लिए लेख में कहीं भी शव वाहिनी गंगा का उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन इशारा वहीं रहा है.