scorecardresearch
 

गौतम बुद्ध नगर

गौतम बुद्ध नगर

गौतम बुद्ध नगर

गौतम बुद्ध नगर 

गौतम बुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar) भारत के राज्य उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का एक जिला है. राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली (National Capital Region NCR) से सटे इस जिले की स्थापना 9 जून 1997 को हुई थी. इसे जिले को बुलन्दशहर एवं गाजियाबाद जिलों के कुछ हिस्सों को काटकर बनाया गया था. यूपी में सत्ता-परिवर्तन होते ही मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के नेतृत्व में आई समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party SP) की सरकार ने इस जिले को भंग कर दिया. यहाँ की जनता इस सरकारी फरमान का जबरदस्त विरोध करते हुए आन्दोलन किया था. बाद में, जनता के दबाव के आगे उत्तर प्रदेश की तत्कालीन सरकार को अपना निर्णय वापस लेना पड़ा और इस जिले की पुनर्बहाली हो गई.

2011 जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक गौतम बुद्ध नगर की जनसंख्या (Population) लगभग 17 लाख है. इस जिले में प्रति वर्ग किलोमीटर (Density) 1,286 लोग रहते हैं और यहां का लिंग अनुपात (Sex Ratio) 851 है. गौतम बुद्ध नगर की 80.12 फीसदी जनसंख्या साक्षर है. इनमें पुरुष 88.06 फीसदी और महिलाओं की साक्षरता दर 70.82 फीसदी है (Gautam Buddha Nagar Literacy).

गौतम बुद्ध नगर भारत का एक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र (Lok Sabha Constituency) है जो 2008 में निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन के बाद अस्तित्व में आया. यहां से लगातार दूसरी बार भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party, BJP भाजपा) के नेता डॉ महेश शर्मा (Dr Mahesh Sharma) सांसद चुने गए हैं. इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में विधानसभा (Assembly Constituency) की पांच सीटें शामिल हैं जिसमें तीन गौतम बुद्ध नगर जिले और दो बुलंदशहर जिले में आते हैं.   

ऐतिहासिक दृष्टि से यहां का दनकौर और बिसरख गांव कई पुरातन स्मृतियाँ संजोये हुए हैं. दनकौर में द्रोणाचार्य और बिसरख में रावण के पिता विश्वेश्रवा ऋषि का प्राचीन मंदिर स्थित है (History).
 
गौतम बुद्ध नगर जिला यूपी की राजस्व (Revenue) प्राप्ति में अहम भूमिका निभा रहा है. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (National Capital Region NCR) दिल्ली से सटे हुए इस जिले का मुख्यालय ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) में स्थित है. इस जिले का महत्व इसकी सीमा में आने वाली प्रमुख औद्योगिक इकाइयों तथा दिल्ली मुम्बई इंडस्ट्रियल कॉरीडोर के अलावा नोएडा, ग्रेटर नोएडा जैसे विकासशील औद्योगिक प्राधिकरणों (NOIDA, GNIDA) के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शामिल किए जाने से और ज्यादा बढ़ गया है.
 

और पढ़ें

गौतम बुद्ध नगर न्यूज़