scorecardresearch
 

दिल्ली दंगा मामले में राष्ट्रपति से मिले विपक्ष के नेता, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

दिल्ली हिंसा मामले में कांग्रेस नेता अहमद पटेल, सीपीआई नेता डी राजा, डीएमके की कनिमोझी और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने राष्ट्रपति से गुरुवार को मुलाकात की.

दिल्ली दंगा मामले में राष्ट्रपति से मिले विपक्ष के नेता दिल्ली दंगा मामले में राष्ट्रपति से मिले विपक्ष के नेता
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विपक्षी नेताओं ने राष्ट्रपति से की मुलाकात
  • जांच में पुलिस की भूमिका पर सवाल
  • दिल्ली पुलिस ने दायर की है चार्जशीट

दिल्ली हिंसा में पुलिस की जांच पड़ताल को लेकर विपक्ष के नेता गुरुवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिले. कांग्रेस नेता अहमद पटेल, सीपीआई नेता डी राजा, माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी, डीएमके की कनिमोझी और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने राष्ट्रपति से मुलाकात की. विपक्षी दलों के नेताओं दिल्ली दंगा मामले में राष्ट्रपति को अपना अपना पत्र भी सौंपा.

बहरहाल, दिल्ली हिंसा में पुलिस जांच और चार्जशीट को लेकर सवाल उठ रहे हैं. वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, सईदा हामिद और कविता कृष्णन भी दिल्ली पुलिस पर लोगों को फंसाने का आरोप लगा चुके हैं. प्रशांत भूषण का कहना था कि दिल्ली पुलिस हिंसा की जांच नहीं कर रही है, बल्कि लोगों को फंसा रही है. 

बता दें कि दिल्ली हिंसा को लेकर बुधवार को दिल्ली पुलिस ने 17,500 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की थी. आरोपपत्र के मुताबिक ताहिर हुसैन समेत 15 लोगों ने अलग-अलग व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर हिंसा कराने का षड्यंत्र रचा. पुलिस ने आरोपपत्र में दावा किया है कि आरोपों को साबित करने के लिए उनके पास पर्याप्त सबूत हैं.

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के मुताबिक नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा केस में दर्ज की गई सारी एफआईआर का गहन अध्ययन किया गया है. पुलिस के मुताबिक सीलमपुर, जाफराबाद के लिए अलग व्हाट्सएप ग्रुप था, ये CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन के लिए बनाया गया था, इस तरह से 25 साइट बनाई गई थी. चार्जशीट कड़कड़डूमा कोर्ट में दाखिल की गई है. वह चार्जशीट 17 हजार 500 पन्नों की है. इसमें 2692 पन्ने चार्जशीट का ऑपरेटिव पार्ट है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें