scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: मॉब लिंचिंग की घटना, रेप के झूठे दावे के साथ वायरल

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने अपनी पड़ताल में पाया कि इस घटना को बलात्कार से जोड़ने वाला दावा झूठा है. अबु कामिल को भीड़ ने चोर समझकर पीटा था.

वीडियो में दिखाया गया पीड़ित शख्स वीडियो में दिखाया गया पीड़ित शख्स

बॉलीवुड अभिनेता एजाज खान ने मॉब लिंचिंग को लेकर एक ट्वीट किया, जिसे लेकर पर सोशल मीडिया पर सवाल उठाए जा रहे हैं. एजाज ने एक घायल आदमी की तस्वीर ट्वीट करते हुए दावा किया कि बिहार के महुआ में भीड़ ने एक मुस्लिम शिक्षक अबु कामिल को बुरी तरह पीटा है. एजाज द्वारा दी गई इस जानकारी को कुछ लोग सोशल मीडिया पर झूठा बता रहे हैं.

प्रशांत पटेल उमराव नाम के एक ट्विटर यूज़र ने एजाज के ट्वीट पर सवाल खड़े करते हुए लिखा है कि अबु कामिल को एक लड़की के साथ बलात्कार करने पर उसी के समाज के लोगों ने पीटा था.

ट्वीट का आर्काइव्ड वर्जन यहां   देखा जा सकता है.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने अपनी पड़ताल में पाया कि इस घटना को बलात्कार से जोड़ने वाला दावा झूठा है. अबु कामिल को भीड़ ने चोर समझकर पीटा था.

प्रशांत के इस ट्वीट को खबर लिखे जाने तक 6,500 से भी ज्यादा लोग रीट्वीट कर चुके हैं. फेसबुक पेज Shankh Naad ने भी एजाज के ट्वीट को शेयर करते हुए दावा किया है कि अबू कालिम को रेप करने पर पीटा गया था.

इंटरनेट पर हमें इस मामले से जुड़ी दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना 22 सितंबर 2019 को बिहार के हाजीपुर शहर के पास हुई थी. रिपोर्ट में बताया गया है कि शादाब उर्फ अबु कामिल पटना में एक कोचिंग संस्था चलाते हैं. रविववार को कोचिंग से अपने घर वैशाली लौटते वक्त अबु कामिल को कुछ लोगों ने लिफ्ट देने के बहाने अपनी कार में बैठा लिया. इसके बाद लोगों ने अबु कामिल के साथ मारपीट की और लूटपाट कर और उसे सड़क किनारे फेंक दिया. बुरा तो तब हुआ जब अबू कालिम की मदद करने की बजाए कुछ ग्रामीणों ने उसे चोर समझ कर बुरी तरह पीटा और लहूलुहान कर दिया. इस पिटाई का वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल है.

इस घटना को GTV नाम की एक वेबसाइट ने भी कवर किया है.  

जानकारी को पुख्ता करने के लिए हमने हाजीपुर के उप संभागीय पुलिस अधिकारी राघव दयाल से भी बात की. उन्होंने हमें बताया कि "मामले को रेप से जोड़ना बेबुनियाद है और यह अफवाह है. अबु कालिम को भीड़ ने चोर समझकर पीटा था. इस मामले में हमने दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है."

इस बारे में पीड़ित के परिवार से बात हुई. उसके भाई ने बताया कि वह अस्पताल में भर्ती है और खतरे से बाहर है. पड़ताल में ये बात साफ़ होती है कि अबु कालिम को भीड़ ने चोर समझकर पीटा था और ये महज़ एक अफवाह है कि उसने एक लड़की के साथ रेप किया.(हाजीपुर से संदीप आनंद के इनपुट के साथ)

फैक्ट चेक

ट्विटर यूजर प्रशांत पटेल उमराव और फेसबुक पेज Shankh Naad

दावा

अबु कामिल नाम के एक आदमी को लड़की के साथ रेप करने पर उसी के समाज के लोगों ने पीटा.

निष्कर्ष

अबु कामिल को भीड़ ने चोर समझकर पीटा था.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
ट्विटर यूजर प्रशांत पटेल उमराव और फेसबुक पेज Shankh Naad
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें