scorecardresearch
 

किसान आंदोलन: गाजीपुर बॉर्डर पर भी सीमेंट के बैरिकेड, लोहे की कीलें भी लगाई गईं

दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए अभूतपूर्व इंतजाम किए हैं. दिल्ली-यूपी का गाजीपुर बॉर्डर अब किसान आंदोलन का नया केंद्र बन गया है, जहां राकेश टिकैत की अगुवाई में हजारों की संख्या में किसान जुट रहे हैं.

गाजीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम गाजीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गाजीपुर बॉर्डर पर अभूतपूर्व सुरक्षा के इंतजाम
  • पुलिस की ओर से सड़कों पर कीलें गाढ़ी गईं
  • 6 फरवरी को होने वाले चक्का जाम की तैयारी

गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा और बीते दिनों सिंघु बॉर्डर पर हुए बवाल के बाद से ही किसानों के आंदोलन के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है. दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए अभूतपूर्व इंतजाम किए हैं. दिल्ली-यूपी का गाजीपुर बॉर्डर अब किसान आंदोलन का नया केंद्र बन गया है, जहां राकेश टिकैत की अगुवाई में हजारों की संख्या में किसान जुट रहे हैं.

अब यहां पर जब किसानों की संख्या बढ़ रही है, तो पुलिस की ओर से भी विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं. पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर के चारों ओर बैरिकेडिंग कर दी है, यहां सीमेंट के बैरिकेड बनाए गए हैं और सड़कों पर कीलें लगाई गई हैं. ताकि अगर किसान प्रदर्शनकारी फिर से ट्रैक्टर दिल्ली में लाना चाहें तो ना ला पाएं.

आपको बता दें कि इससे पहले दिल्ली के टिकरी बॉर्डर और सिंघु बॉर्डर से भी ऐसी ही तस्वीरें सामने आई थीं. जहां दिल्ली पुलिस की ओर से सुरक्षा बढ़ाई गई है, सड़कों पर कीलें ठोक दी गईं और सीमेंट की बैरिकेडिंग की गई.

पुलिस ने की है खास तैयारी.


गौरतलब है कि 26 जनवरी की ट्रैक्टर परेड के दौरान पुलिस को बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा था. अब 6 फरवरी को किसानों ने देशभर में चक्का जाम करने की बात कही है, ऐसे में अब पुलिस को चिंता है कि फिर से 26 जनवरी जैसा माहौल ना बन जाए. यही कारण है कि पुलिस अलग-अलग तरह की व्यवथा करती नजर आ रही है.

देखें: आजतक LIVE TV

सरकार की ओर से पहले ही दिल्ली की सीमाओं पर इंटरनेट की सुविधा को बंद कर दिया गया है. जहां-जहां किसान धरने पर हैं, उन इलाकों के आसपास इंटरनेट नहीं है. इसके अलावा सुरक्षा को बढ़ाया जा रहा है, बॉर्डर भी बंद हैं. ऐसे में प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए सरकार ने पूरी तैयारी की है. हालांकि, इस सब तैयारियों के कारण लोगों को घंटों तक जाम में फंसना पड़ रहा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें