scorecardresearch
 

राजस्थानः दलित युवक के साथ मारपीट का वीडियो वायरल, 36 घंटे में 5 आरोपी गिरफ्तार

एसपी श्याम सिंह के मुताबिक घटना का वीडियो वायरल होने की सूचना मिलने पर एएसपी अनुकृति उज्जैनिया ने तत्परता दिखाई और पीड़ित जितेन्द्र बामणिया पुत्र तेजपाल बामणिया (26) के रामदेव कॉलोनी स्थित आवास पर जाकर उनके बयान दर्ज किए और मुकदमा दर्ज कराया.

वीडियो वायरल होने के बाद स्थानीय पुलिस तुरंत हरकत में आ गई थी वीडियो वायरल होने के बाद स्थानीय पुलिस तुरंत हरकत में आ गई थी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रविवार को सामने आया था पिटाई का वीडियो
  • पुलिस ने दलित युवक के घर जाकर दर्ज किए बयान
  • ASP के नेतृत्व में गठित की गई थी विशेष टीम

राजस्थान के जालोर में दलित युवक के साथ मारपीट किए जाने का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होते ही पुलिस हरकत में आ गई. पुलिस ने इस मामले में तेजी दिखाते हुए महज 36 घंटों में 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. एक आरोपी को जालोर से अरेस्ट किया गया. जबकि अन्य 4 आरोपी जोधपुर से पकड़े गए हैं.

जालोर के पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए आरोपियों की पहचान जितेन्द्र सिंह पुत्र जबर सिंह राव, हेम सिंह पुत्र रूप सिंह, नरपत सिंह पुत्र हिम्मत सिंह, दिलीप वैष्णव पुत्र बद्री दास और पिंटू उर्फ जीतू पुत्र लहरा राम के रूप में की गई है. इस मामले को लेकर गठित की गई विशेष टीम ने मंगलवार की सुबह को संदिग्ध स्थानों पर दबिश देकर जोधपुर और जालोर से इन पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

एसपी श्याम सिंह के मुताबिक घटना का वीडियो वायरल होने की सूचना मिलने पर एएसपी अनुकृति उज्जैनिया ने तत्परता दिखाई और पीड़ित जितेन्द्र बामणिया पुत्र तेजपाल बामणिया (26) के रामदेव कॉलोनी स्थित आवास पर जाकर उसके बयान दर्ज किए और उसकी तहरीर पर मारपीट और एससी एसटी एक्ट के तहत कोतवाली थाने पर मुकदमा दर्ज कराया. फौरन पीड़ित का मेडिकल भी करवाया गया. साथ ही मौके पर पहुंचकर चश्मदीद गवाहों से पूछताछ भी की गई.

इसे भी पढ़ें--- लखीमपुर कांडः गृह राज्यमंत्री के बेटे आशीष मिश्रा को रिमांड पर लेकर पुलिस ने शुरु की पूछताछ

पीड़ित ने पुलिस को दिए गए अपने बयान में बताया कि 1 अक्टूबर की शाम करीब 4 बजे कस्बे के मामाजी की उण में वह अपने दोस्त गुलाब सिंह, नवीन चौहान और अशरफ खां के साथ बैठा था. इतने में गुलाब सिंह के दो दोस्त जितेन्द्र सिंह और नरपत सिंह वहां आए और गुलाब सिंह के साथ गाली गलौच करने लगे. इसके बाद वे वहां से चले गए. आधा घंटे बाद जितेन्द्र सिंह, दिलीप वैष्णव, नरपत सिंह, पिंटू उर्फ जीतु और हेम सिंह वापस आ गए. आते ही उन्होंने पीड़ित का रास्ता रोका ओर मारपीट करने लगे. साथ ही जातिगत शब्दों से अपमानित भी किया और उसका वीडियो भी बनाया.

इस मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. अनुकृति उज्जैनिया को सौंपी गई थी. उनके नेतृत्व में थानाधिकारी लक्ष्मण सिंह और थाना कोतवाली से गठित टीम ने मंगलवार की सुबह पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें