scorecardresearch
 

Google Pay यूजर्स का डेटा दूसरी कंपनियों के साथ शेयर करता है: पेटीएम

पेटीएम के इस लेटर के बाद गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा है, ‘गूगल किसी भी शख्स का UPI ट्रांजैक्शन डेटा पैसे कमाने जैसे विज्ञापनों के लिए नहीं करता है’

Google Pay Google Pay

भारत की सबसे बड़ी पेमेंट कंपनी पेटीएम ने वॉट्सऐप के बाद अब गूगल पर निशाना साधा है. पेटीएम ने नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) को गूगल पेमेंट सिस्टमGoogle Pay के प्राइवेसी से जुड़े इस मामले को जल्दी देखने को कहा है. पेटीएम का इल्जाम है कि गूगल की प्राइवेसी पॉलिसी में दिक्कत है और इससे भारतीय कस्टमर का पेमेंट डेटा गूगल एफिलिएट कंपनी और थर्ड पार्टी यूजर्स को मिलता है.

पेटीएम ने गूगल पेमेंट सिस्टम की प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में कहा है कि गूगल भारतीय यूजर्स का पेमेंट डेटा दूसरों के साथ शेयर कर रहा है.

ET की एक रिपोर्ट के मुताबिक पेटीएम ने NPCI को लिखे लेटर में कहा है, ‘गूगल पे अनरेग्यूलेटेड प्लेटफॉर्म है जहां उनके कस्टमर डेटा को पैसों के लिए यूज करने की संभावना है जो यूजर की प्राइवेसी पर हमला है’. पेटीएम का ये भी कहना है कि गूगल यूजर का डेटा भारत के बाहर स्टोर कर रहा है और शेयर कर रहा है जो डेटा ब्रीच पर सुरक्षा से जुड़े सवाल खड़े करता है.

गौरतलब है कि वॉट्सऐप भारत में पेमेंट सर्विस लॉन्च करने का ट्रायल शुरू कर चुका है. लेकिन पेटीएम ने वॉट्सऐप पेमेंट पर निशाना साधा है. पेटीएम के मुताबिक वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस सिक्योर नहीं है और इसकी एक वजह वॉट्सऐप में लॉग इन और लॉग आउट ऑप्शन का न होना है.

पेटीएम के इस नोटिस के बाद NPCI के सीईओ और एनपीसीआई के मैनेजिंग डायरेक्टर दिलीप आस्बे ने कहा है, ‘हाल ही में वॉट्सऐप को अपनी पेरेंट कंपनी फेसबुक के साथ यूजर डेटा शेयर करने से मना किया गया था. ऐसे में अगर Google Pay अपनी पॉलिसी के तहत यूजर का पर्सनल डेटा गूगल ग्रुप की कंपनियों के साथ शेयर करता है तो ये चिंताजनक है. क्योंकि इनमें थर्ड पार्टी कंपनियां भी शामिल हैं. गूगल के पास पहले से हमारा सोशल डेटा है और उम्मीद है वो अब हमारा पेमेंट डेटा भी ऐक्सेस कर रही है जिसे पैसो के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. इससे भारतीय यूजर की प्राइवेसी और देश की सुरक्षा पर भी असर पड़ेगा’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें