scorecardresearch
 

500 और 1000 के नोट बैन के बाद अब शॉपिंग वेबसाइट ने बंद किया कैश ऑन डिलिवरी ऑप्शन

ऑनलाइन शॉपिंग करने की तैयारी में हैं तो ध्यान दें, ई-कॉमर्स कंपनियों फिलहाल के लिए कैश ऑन डिलिवरी ऑप्शन बंद कर रही हैं.

कैश ऑन डिलिवरी फिलहाल के लिए बंद कैश ऑन डिलिवरी फिलहाल के लिए बंद

500 और 1000 रुपये बंद होने का असर आम लोगों पर खूब दिख रहा है. कहीं एटीएम पर लंबी कतारे हैं तो कहीं लोग पेट्रोल पंप पर लाइन लगा कर खड़े हैं. इसी बीच ई-कॉमर्स कंपनियों ने मौके को भांपते हुए कैश ऑन डिलिवरी ऑप्शन बंद कर दिया है. कम से कम अभी के लिए तो यह डिसेबल है. यानी अब आप कोई सामान ऑर्डर करेंगे तो आपको डेबिट,क्रोडिट या इंटरनेट बैंकिंग से पेमेंट करना होगा.

स्वदेशी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट पर फिलहाल 2,000 से ऊपर के सामान पर कैश ऑन डिलिवरी का ऑप्शन नहीं मिल रहा है. इसके अलावा स्नैपडील और अमेजॉन ने भी फिलहाल के लिए कैश ऑन डिलिवरी ऑप्शन बंद कर दिया है.

 

 

स्नैपडील ने तो पेमेंट के दौरान यह मैसेज देना शुरू किया है कि सरकार के नए फैसले के बाद कैश ऑन डिलिवरी ऑर्डर के लिए 500 और 1000 रुपये के नोट नहीं लिए जाएंगे.

 

 

ई-कॉमर्स कंपनियों के अलावा अब कैब कंपनियों ने भी नोटिफिकेशन भेजकर लोगों को बताना शुरू कर दिया है कि वो कैश नहीं लेंगे. साथ ही फूड ऑर्डर सर्विसों जैसे जोमैटो और स्वीगी ने भी साफ तौर पर लोगों से इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट करने को कहा है.

 

 

यानी अब ज्यादातर छोटे ट्रांजेक्शन के लिए लोग डिजिटल वॉलेट जैसे पेटीएम और फ्रीचार्ज न चाहते हुए भी यूज करने पर मजबूर होंगे. इसके सीधा फायदा पेटीएम जैसी कंपनियों को होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें