scorecardresearch
 

बंगाल: ट्रेन इंजन के पेंट्रोग्राफ को छूने से बुरी तरह झुलस गया शख्स, अस्पताल में भर्ती

प्रशासन भी ये सोच परेशान हो रहा है कि कोई शख्स ट्रेन के इंजन तक कैसे पहुंचा और अगर वो पहुंचा भी तो ड्राइवर की नजर में कैसे नहीं आया.

ट्रेन इंजन की वजह से झुलस गया शख्स ट्रेन इंजन की वजह से झुलस गया शख्स
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पश्चिम बंगाल की दिल दहला देने वाली घटना
  • ट्रेन इंजन की वजह से झुलस गया शख्स
  • हादसा या लापरवाही, जांच का विषय

पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है जहां पर एक शख्स बुरी तरह इसलिए झुलस गया क्योंकि उसने ट्रेन इंजन के पेंट्रोग्राफ को छू दिया. ये ट्रेन नॉर्थ बंगाल एक्सप्रेज थी जो कोचबेहार से सीलदाह तक का सफर तय कर रही थी. लेकिन फालाकाटा रेलवे स्टेशन पर ये भंयकर मंजर देखने को मिला और ट्रेन सेवा भी एक घंटे के लिए बाधित हो गई.

ट्रेन इंजन की वजह से झुलस गया शख्स

प्रशासन भी ये सोच परेशान हो रहा है कि कोई शख्स ट्रेन के इंजन तक कैसे पहुंचा और अगर वो पहुंचा भी तो ड्राइवर की नजर में कैसे नहीं आया. खैर क्योंकि वो शख्स किसी की नजर में नहीं आया और उसने गलती से इंजन के पेंट्रोग्राफ को छू दिया, इस वजह से उसकी 90 प्रतिशत बॉडी झुलस गई. उसे गंभीर स्थिति में फालाकाटा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में एडमिट करवाया गया. लेकिन मरीज की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए उसे नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया.

जानकारी मिली है कि जब नॉर्थ बंगाल एक्सप्रेज फालाकाटा स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 1 की ओर बढ़ रही थी, तब करीब दोपहर चार बजे लोगों को एक धमाके की आवाज सुनाई दी और उनकी आंखों के सामने वो खौफनाक मंजर आ गया. शुरुआती जांच के बाद पता चला है कि वो शख्स असम का रहने वाला था. उसके जूते और कपड़ों को देख ये भी अंदाजा लगाया जा रहा है कि वो सिक्योरिटी फोर्स का हिस्सा था.

हादसा या फिर लापरवाही?

इस घटना के बाद स्टेशन पर भगदड़ मच गई और यात्री आनन-फानन में इधर-उधर भागते दिखे. वहीं स्टेशन मास्टर की तरफ से तुरंत फायर ब्रिगेड को बुला दिया गया था. फिर RPF के जवानों की मदद से उस शख्स को शीट में लपेटकर ट्रेन से नीचे उतारा गया और तुरंत पास के अस्पताल में एडमिट करवाय गया. अभी उस शख्स का नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज जारी है. ये एक ऐसी घटना है जो शायद ही कभी होती दिखी हो. अब क्योंकि ऐसा कम होते दिखता है, इसी वजह से रेलवे पर सवाल भी ज्यादा गंभीर खड़े हो रहे हैं. ये किसके स्तर पर लापरवाही हुई है, ये भी जांच का विषय है.

रिपोर्ट-आशिम दत्ता

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें