scorecardresearch
 

एंटीलिया केसः सचिन वाजे ने आयोग से कहा- अनिल देशमुख के निजी सचिव ने कभी नहीं मांगे पैसे

आयोग के समक्ष संजीव पलांडे की ओर से पेश हुए वकील शेखर जगताप ने पूछा, 'क्या संजीव पलांडे ने किसी वजह से पैसे की मांग की थी?' इस पर विटनेस बॉक्स में खड़े सचिन वाजे ने जवाब दिया- नहीं.

सचिन वाजे समेत कई पुलिसकर्मी एंटीलिया मामले में गिरफ्तार किए जा चुके हैं सचिन वाजे समेत कई पुलिसकर्मी एंटीलिया मामले में गिरफ्तार किए जा चुके हैं
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आयोग के समक्ष सचिन वाजे की पेशी
  • बयान में कहा- संजीव ने कभी नहीं मांगे पैसे
  • ईडी को भी बयान दे चुका है सचिन वाजे

एंटीलिया केस के मुख्य आरोपी और मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी सचिन वाजे ने एकल सदस्यीय जांच आयोग को बताया कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे ने उनसे कभी भी पैसे की मांग नहीं की थी. 

सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति के.यू. चांदीवाल की सदस्यता वाले इस आयोग के समक्ष संजीव पलांडे की ओर से पेश हुए वकील शेखर जगताप ने पूछा, 'क्या संजीव पलांडे ने किसी वजह से पैसे की मांग की थी?' इस पर विटनेस बॉक्स में खड़े सचिन वाजे ने जवाब दिया- नहीं.

इससे पहले सचिन वाजे ने प्रवर्तन निदेशालय को दिए एक बयान में उस शपथ पत्र पर भी सवाल उठाए थे, जिसमें उन्होंने देशमुख के बारे में सुना था कि उन्होंने पलांडे के माध्यम से लगभग 20 करोड़ रुपये लिए थे.

इसे भी पढ़ें--- आर्यन खान के खिलाफ रची गई बड़ी साजिश? अब शिकारी खुद हो गया शिकार 

बयान में फर्क
आपको बता दें कि एंटीलिया मामले में फंसने के बाद सचिन वाजे ने महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया था कि उन्होंने उसकी बहाली की एवज में उससे 2 करोड़ रुपये की रकम मांगी थी. उसने NIA को दिए गए लिखित बयान में भी यह आरोप लगाया था. लेकिन अब वाजे ने आयोग से कहा कि अनिल देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे ने उनसे कभी पैसे नहीं मांगे.

यह था पूरा मामला
इसी साल 25 फरवरी को मुंबई में अंबानी परिवार के घर एंटीलिया के बाहर एक संदिग्ध कार बरामद हुई थी. उस कार में जिलेटिन की छड़ें भी रखी गईं थी, जो एक विस्फोटक है. इस मामले की जांच मुंबई की क्राइम ब्रांच, एटीएस, पुलिस और अन्य एजेंसियां कर रही थीं. संदिग्ध कार में जिलेटिन के अलावा एक चिट्ठी भी मिली थी, जिसमें कहा गया था कि ये सिर्फ ट्रेलर है, पूरा इंतजाम हो गया है. इस पूरे मामले में मुंबई पुलिस के एपीआई सचिन वाजे को गिरफ्तार किया गया था. इसी दौरान वसूली कांड का खुलासा भी हुआ था. जिसमें महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री की कुर्सी भी चली गई थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें