scorecardresearch
 

LIC के IPO में पैसे लगाने वालों को तगड़ा नुकसान, 3 दिन में 1500 रुपये से ज्यादा साफ

इश्यू प्राइस के आधार पर एलआईसी का मार्केट कैप 6,00,242 करोड़ रुपये था. आज की गिरावट के बाद यह 5,31,774.18 करोड़ रुपये पर आ गया. इस तरह देखें तो कंपनी की वैल्यू महज 3 दिन में ही 68,468 करोड़ रुपये कम हो चुकी है.

X
LIC IPO ने डूबोए पैसे LIC IPO ने डूबोए पैसे
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इश्यू प्राइस से 100 रुपये नीचे आया भाव
  • हर कैटेगरी के इन्वेस्टर्स को हो चुका घाटा

LIC Share Crash Today: बहुप्रतीक्षित आईपीओ लाने के बाद सरकारी बीमा कंपनी एलआईसी का बाजार में बुरा हाल बना हुआ है. पहले बाजार में एलआईसी के शेयरों की लिस्टिंग (LIC Share Listing) घाटे के साथ हुई. उसके बाद आज एलआईसी के शेयर चौतरफा बिकवाली की चपेट में आ गए. जब बाजार बंद हुआ, तब तक एलआईसी शेयर (LIC Share Price) बीएसई पर 4.05 फीसदी गिरकर 840.75 रुपये पर आ गया. डिस्काउंट पर लिस्टिंग के बाद आई इस गिरावट ने आईपीओ में पैसे लगाने वाले इन्वेस्टर्स का महज 3 दिन में ही तगड़ा नुकसान कर दिया है.

इश्यू प्राइस से इतना नीचे आया भाव

एलआईसी के आईपीओ के लिए 902-949 रुपये का प्राइस बैंड (LIC IPO Price Band) सेट किया गया था. लिस्टिंग से ऐन पहले बीएसई (BSE) पर प्री-ओपन सेशन (Pre-Open Session) में एलआईसी के शेयरों में 13 फीसदी तक की गिरावट आई. इसके बाद अंतत: एलआईसी का शेयर इश्यू प्राइस (LIC IPO Issue Price) की तुलना में 8.62 फीसदी यानी 81.80 रुपये गिरकर 867.20 रुपये पर सेटल हुआ. आज की गिरावट के बाद एलआईसी का शेयर इश्यू प्राइस से 108.25 रुपये नीचे आ चुका है.

इन्वेस्टर्स के डूबे इतने हजार करोड़

इश्यू प्राइस के आधार पर एलआईसी का मार्केट कैप 6,00,242 करोड़ रुपये था. आज की गिरावट के बाद यह 5,31,774.18 करोड़ रुपये पर आ गया. इस तरह देखें तो कंपनी की वैल्यू महज 3 दिन में ही 68,468 करोड़ रुपये कम हो चुकी है. दूसरे शब्दों में कहें तो एलआईसी के आईपीओ में पैसे लगाने वाले इन्वेस्टर्स को इन तीन दिनों में ही 68,468 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है.

हर कैटेगरी के इन्वेस्टर्स को घाटा

सरकारी बीमा कंपनी के मेगा आईपीओ (LIC Mega IPO) के एक लॉट में 15 शेयर थे. इस तरह हर उस इन्वेस्टर को इस आईपीओ में हिस्सा पाने के लिए कम से कम 14,235 रुपये लगाने पड़े, जिन्हें किसी प्रकार का डिस्काउंट नहीं दिया गया. ऐसे इन्वेस्टर्स अब तक हर लॉट पर 1,623.75 रुपये गंवा चुके हैं. बोर्ड ने एलआईसी आईपीओ में कर्मचारियों के लिए 45 रुपये का और एलआईसी के पॉलिसीहोल्डर्स के लिए 60 रुपये का डिस्काउंट तय किया है. जिन्हें 45 रुपये का डिस्काउंट मिला, उन्हें अभी तक एक लॉट पर 948.75 रुपये का नुकसान हो चुका है. इसी तरह 60 रुपये डिस्काउंट पाने वाले इन्वेस्टर्स को 723.75 रुपये का घाटा हो चुका है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें