scorecardresearch
 

Make In India: भारत बनेगा इलेक्ट्रिक व्हीकल का मैन्युफैक्चरिंग हब, ये प्लांट बना रही सबसे बड़ी कार कंपनी

टोयोटा मोटर कॉर्प भारत में मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाने की तैयारी में है. कंपनी इस हब में ई-ड्राइव यानी इलेक्ट्रिक पावरट्रेन बनाएगी, जिसका इस्तेमाल बैटरी ईवी, प्लग-इन हाइब्रिड और अन्य हाइब्रिड मॉडलों समेत अलग-अलग प्रकार के इलेक्ट्रिक व्हीकल्स में किया जाता है.

X
प्लांट लगाने जा रही टोयोटा प्लांट लगाने जा रही टोयोटा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारत से कई देशों में एक्सपोर्ट करेगी टोयोटा
  • टोयोटा करेगी हजारों करोड़ का निवेश

दुनिया की सबसे बड़ी कार कंपनी टोयोटा मोटर कॉर्प (Toyota Motor Corp) भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल के कल-पुर्जों (EV Parts) का मैन्युफैक्चरिंग हब (Manufacturing Hub) बनाने जा रही है. इससे न सिर्फ मोदी सरकार के 'मेक इन इंडिया (Make In India)' इनिशिएटिव को सपोर्ट मिलेगा, बल्कि अरबों रुपये का इन्वेस्टमेंट (Investment) भी आएगा. कंपनी इस हब से स्थानीय डिमांड (Local Demand) को पूरा करेगी और इसके साथ ही जापान (Japan) व कई आसियान (ASEAN) देशों को एक्सपोर्ट भी करेगी.

भारत में बनेंगे इन कारों के कल-पुर्जे

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में कंपनी के एक्सीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट विक्रम गुलाटी के हवाले से कहा गया है कि टोयोटा मोटर कॉर्प भारत में मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाने की तैयारी में है. कंपनी इस हब में ई-ड्राइव (E-Drive) यानी इलेक्ट्रिक पावरट्रेन (Electric Powertrain) बनाएगी, जिसका इस्तेमाल बैटरी ईवी (Battery EV), प्लग-इन हाइब्रिड (Plug-In Hybrid) और अन्य हाइब्रिड मॉडलों (Hybrid Models) समेत अलग-अलग प्रकार के इलेक्ट्रिक व्हीकल्स में किया जाता है. उन्होंने कहा, 'कंपनी भारत को क्लीनर टेक्नोलॉजीज के लिए मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाना चाहती है. यह बिल्डिंग ब्लॉक तैयार करने के लिए है.'

अरबों डॉलर का प्रोत्साहन दे रही सरकार

हालांकि गुलाटी ने यह नहीं बताया कि टोयोटा भारत से किन आसियान देशों को एक्सपोर्ट करने की योजना बना रही है. इससे पहले टोयोटा ने कहा था कि वह इलेक्ट्रिक व्हीकल के सप्लाई चेन (EV Supply Chain) को लोकलाइज करने के लिए भारत में 4,800 करोड़ रुपये (621 मिलियन डॉलर) इन्वेस्ट करने वाली है. यह इन्वेस्टमेंट कंपनी के 2050 तक कार्बन न्यूट्रल (Carbon Neutral) बनने की योजना का हिस्सा है. भारत सरकार अभी देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल और इनके कल-पुर्जे बनाने पर अरबों डॉलर का इन्सेन्टिव दे रही है. टोयोटा के इस कदम को सरकारी प्रोत्साहन का फायदा उठाने से भी जोड़ा जा रहा है.

हाइब्रिड मॉडल लॉन्च करने की तैयारी

कंपनी ज्यादातर इन्वेस्टमेंट अपनी लोकल यूनिट टोयोटा किर्लोस्कर मोटर और टोयोटा किर्लोस्कर ऑटो पार्ट्स (Toyota Kirloskar Auto Parts) के जरिए करेगी. ये दोनों स्थानीय कंपनियां टोयोटा मोटर कॉर्प, Aisin Seiki Co और किर्लोस्कर सिस्टम्स (Kirloskar Systems) की ज्वाइंट वेंचर (Joint Venture) हैं. टोयोटा भारत में पहले हाइब्रिड मॉडल लॉन्च करने की तैयारी में है. टोयोटा का मानना है कि फॉसिल फ्यूएल्स (Fossil Fuels) पर निर्भरता कम करने और कार्बन उत्सर्जन (Carbon Emission) घटाने के भारत के टारगेट के हिसाब से हाइब्रिड कारें ज्यादा उपयुक्त हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें