scorecardresearch
 

भारत का पहला ऐसा ड्रोन तैयार जो इंसानों को बिठाकर उड़ने में सक्षम

भारत का पहला इंसानों को उठाकर उड़ने में सक्षम ड्रोन बनकर तैयार हो गया है. इसे भारतीय नौसेना के लिए बनाया गया है. शुरुआत में इसे सामानों के परिवहन में उपयोग किया जाएगा. फिर इसे इंसानों के परिवहन के लिए उपयोग में लाया जाएगा.

X
ये है भारतीय नौसेना के लिए तैयार किया सागर डिफेंस का ड्रोन. ये है भारतीय नौसेना के लिए तैयार किया सागर डिफेंस का ड्रोन.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • PM नरेंद्र मोदी ने देखी इसकी उड़ान
  • भारतीय नौसेना के लिए किया गया है तैयार
  • जमीनी ट्रायल चल रहे, समुद्री ट्रायल जल्द

भारतीय रक्षा स्टार्टअप सागर डिफेंस ने देश का पहला ड्रोन बनाकर तैयार कर दिया है, जो एक इंसान को लेकर उड़ सकता है. इंसान को सिर्फ इसमें बैठना होगा. इसके अलावा उसे कुछ नहीं करना है. उसे ड्रोन एक जगह से दूसरी जगह ले जाएगा. इसे रिमोटली ऑपरेट किया जाता है. 

सागर डिफेंस के संस्थापक और सीईओ निकुंज पराशर ने बताया कि हमने अपने ड्रोन के परफॉर्मेंस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को दिखाया. यह देश का पहला इलेक्ट्रॉनिक ह्यूमन कैरींग प्लेटफॉर्म (India's First Electronic Human Carrying Platform) है. फिलहाल यह जमीन से दो मीटर ऊपर तक उड़ सकता है.  

ध्यान से देखेंगे तो आपको इस उड़ते हुए ड्रोन के अंदर बैठा हुआ इंसान भी दिखेगा.
ध्यान से देखेंगे तो आपको इस उड़ते हुए ड्रोन के अंदर बैठा हुआ इंसान भी दिखेगा. 

निकुंज पराशर ने कहा कि हमने इसे भारतीय नौसेना (Indian Navy) के लिए बनाया है. ताकि सामानों का परिवहन आसानी से हो सके.  इस ड्रोन का नाम वरुण (Varuna) है. इसमें चार ऑटोपायलट मोड हैं. जो इसे लगातार उड़ने की क्षमता देते हैं अगर इसके कुछ रोटर खराब भी हो जाएं तब भी. जमीन पर इसका ट्रायल हो चुका है, हम अगले तीन महीने में इसका समुद्री ट्रायल करेंगे. 

फिलहाल जो टेस्ट चल रहे हैं, उनमें इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि इस ड्रोन की मदद से एक जहाज से दूसरे जहाज तक इसमें सामान रखकर पहुंचाया जा सकता है. या फिर किसी मरीज को अस्पताल पहुंचाया जा सकता है. इसकी रेंज 25 किलोमीटर है. यह 130 किलोग्राम वजन का पेलोड उठा कर एक जगह से दूसरी जगह जा सकता है. इसकी उड़ान की समय सीमा 25 से 33 मिनट है. सागर डिफेंस को यह प्रोजेक्ट नौसेना की तरफ से मिला था. कंपनी से कहा गया था कि आप इस प्रोजेक्ट डेढ़ साल में पूरा करिए. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें