scorecardresearch
 

मुफ्त का राजनीतिशास्त्र! समझें महिलाओं को पैसे बांटने का चुनावी अर्थशास्त्र

मुफ्त का राजनीतिशास्त्र! समझें महिलाओं को पैसे बांटने का चुनावी अर्थशास्त्र

पुरानी कहावत है, मुफ्त का चंदन घिस मेरे नंदन. साल 1972 में राजेश खन्ना-मुमताज की फिल्म दुश्मन का एक गाना भी है. वादे पर तेरे मारा गया, बंदा मैं सीधा साधा! ऐसे ही मुफ्त के वादों का मुफ्त काल अभी पांच राज्यों में चुनाव नजदीक आने के साथ बढ़ता जा रहा है. मुफ्त का चंदन घिसकर सत्ता का तिलक लगाने में आम आदमी पार्टी सबसे आगे चल रही है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब, गोवा, उत्तराखंड, यूपी में मुफ्त बिजली के बाद अब पंजाब में हर महिला को एक-एक हजार रुपए प्रति महीने देने का ऐलान किया है. यानी मुफ्त के वादे के लिए जनता का ही करीब 940 करोड़ रुपए हर महीने जनता को ही देने का दांव चला गया है. देखिए 10 तक का ये एपिसोड.

The Aam Aadmi Party (AAP) will give Rs 1,000 per month to each woman in Punjab if voted to power in the 2022 Assembly polls, Arvind Kejriwal said on Monday. In this episode of 10 Tak we will understand the inside economics of this big promise of Kejriwal and how much will it cost the taxpayers. Watch.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×