scorecardresearch
 

'मयखाने को मयखाना तो कहती है दुनिया, उन झील सी आंखों को भी मयखाना कहा जाए'

साहित्य के सबसे बड़े महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' के मंच से तीसरे दिन मशहूर शायर नवाज़ देवबंदी ने भी महफिल जमाई. देखें वीडियो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें