scorecardresearch
 

Ayodhya : जहां बनना था राम वन गमन चित्रण पार्क, वहां हो गई अवैध प्लॉटिंग

अयोध्या के जमथरा से गोलाघाट तक की दूरी लगभग 4 किलोमीटर के करीब है. एडीए के प्रस्तावित पार्क के साथ सीता झील का भी निर्माण किया जाना है. अयोध्या के आध्यात्मिक विकास की परिकल्पना कुछ इस तरह तैयार की गई है कि राम वन गमन का चित्रण करने वाला पार्क आकर्षण और वैभवशाली अयोध्या की तस्वीर पेश करेगा.

X
अयोध्या में बन रहे राम मंदिर का मॉडल ( फाइल फोटो - PTI ) अयोध्या में बन रहे राम मंदिर का मॉडल ( फाइल फोटो - PTI )

राम जन्मभूमि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होते ही यहां पर जमीनों के भाव में तेजी से उछाल आया है. साथ ही अवैध प्लॉटिंग का धंधा भू-माफियाओं ने शुरू कर दिया है. अयोध्या डेवलपमेंट प्राधिकरण ( ADA) का प्रस्तावित पार्क की जमीन को भू-माफियाओं ने बेच दिया है. पार्क 14 कोसी परिक्रमा मार्ग और सरयू नदी के बीच बनाया जाना था. पार्क की जमीन बेचे जाने के बाद ADA एक्शन में आ गया है.

जानकारी के मुताबिक, 14 कोसी परिक्रमा मार्ग और सरयू नदी के बीच एक हाईटेक पार्क तैयार किया जाना था. पार्क में राम वन गमन का चित्रण के दृश्य तैयार किए जाने थे. अयोध्या में देश-विदेश से आने वाले दर्शनार्थियों को श्री राम के जीवन चरित्र और आदर्शों को दर्शाने वाले प्राकृतिक और कृतिम दृश्य इस पार्क में तैयार किए जाने थे. लेकिन एडीए को जानकारी ही नहीं लगी और भू-माफियाओं ने पार्क को बेच दिया. एडीएनए पार्क के रूप में प्रस्तावित इस पार्क को अयोध्या डेवलपमेंट के मास्टर प्लान में शामिल किया गया था.

अयोध्या के जमथरा से गोलाघाट तक की दूरी लगभग 4 किलोमीटर के करीब है. एडीए के प्रस्तावित पार्क के साथ सीता झील का भी निर्माण किया जाना है. अयोध्या के आध्यात्मिक विकास की परिकल्पना कुछ इस तरह तैयार की गई है कि राम वन गमन का चित्रण करने वाला पार्क आकर्षण और वैभवशाली अयोध्या की तस्वीर पेश करेगा.

अधिकांश भूमि  पर अवैध प्लाटिंग

अयोध्या आने वाले श्रद्धालु सरयू के किनारे से होते हुए श्री राम के मानव रुप जीवन से विदा लेने वाले स्थान  गुप्त हरि घाट, गुप्तार घाट तक भ्रमण कर सकेंगे और मनोरम दृश्यों का अवलोकन भी कर सकेंगे. देखते ही देखते इस योजना की अधिकांश भूमि  पर अवैध प्लाटिंग और अनऑथराइज्ड कॉलोनी विकसित कर दी गई. पार्क बेचे जाने की खबर के बाद अयोध्या विकास प्राधिकरण की आंखे खुली हैं. एडीए ने अब डूब क्षेत्र के अंदर आने वाली जमीनों पर बसायी जा रही अवैध कॉलोनियों को ध्वस्त करने का अभियान शुरू किया है.

क्या बोले एडीए उपाध्यक्ष

अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह का कहना है कि, शहर में विकसित की गईं अवैध कॉलोनियों और अवैध प्लॉटिंग पर किसी भी कीमत पर निर्माण नहीं करने दिया जाएगा. 14 कोसी परिक्रमा मार्ग और सरयू के बीच एक हाईटेक पार्क प्रस्तावित है. अयोध्या के मास्टर प्लान में इस पार्क को विकसित करने की पूरी योजना का खाका खींचा गया है. इसीलिए इस पर अवैध कॉलोनियों और अवैध प्लाटिंग को विकसित नहीं होने दिया जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें