scorecardresearch
 

वेल्लोर: अंतिम विदाई में भी मुश्किल, पानी में डूबकर शव को ले जाते हैं श्मशान घाट

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में, जहां एक चौंकाने वाली घटना में ग्रामीणों को 90 साल की महिला के शव को अंतिम संस्कार के लिए कूल्हे के बराबर गहरे पानी में से ले जाना पड़ा.

कूल्हे के बराबर पानी में शव को ले जाते ग्रामीण (वीडियो ग्रैब) कूल्हे के बराबर पानी में शव को ले जाते ग्रामीण (वीडियो ग्रैब)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गांव का एकमात्र श्मशान घाट नदी के दूसरी छोर उत्तरकावेरी की ओर
  • पिछले कई दिनों से हो रही भारी बारिश से नदी में पानी काफी बढ़ गया
  • दोनों गांवों को जोड़ने के लिए सड़क की मांग लेकिन प्रशासन बेपरवाह

लगातार बारिश और प्रशासन की लापरवाही की वजह से लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ऐसा ही एक वाकया हुआ तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में, जहां एक चौंकाने वाली घटना में ग्रामीणों को 90 साल की महिला के शव को अंतिम संस्कार के लिए कूल्हे के बराबर गहरे पानी में से ले जाना पड़ा.

यह घटना वेल्लोर जिले के कल्लुट्टई गांव की है. गांव में 100 से अधिक परिवार रहता है और गांव का एकमात्र श्मशान घाट नदी के दूसरी छोर उत्तरकावेरी में ओर है.

श्मशान घाट तक पहुंचने के लिए ग्रामीणों को हर बार नदी पार करनी पड़ती है. दुर्भाग्य से, कल 90 साल की बुजुर्ग की मृत्यु के बाद पट्टाम्मल के ग्रामीणों को दूसरी तरफ पहुंचने के लिए कूल्हे तक गहरे पानी से होकर गुजरना पड़ा.

इसे भी क्लिक करें --- बिजली गिरी पर मंदिर का बाल बांका नहीं, द्वारकाधीश में चमत्कार देख श्रद्धालु नतमस्तक

शव को श्मशान घाट ले जाते ग्रामीण

क्षेत्र में पिछले कई दिनों से हो रही भारी बारिश से नदी में पानी काफी बढ़ गया है. ग्रामीणों की ओर से दोनों गांवों को जोड़ने के लिए सड़क मार्ग की मांग की जा रही की है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

 

ग्रामीणों की शिकायत है कि भारी बारिश के कारण जब भी नदी का पानी ओवरफ्लो होता है तो वे फंस जाते हैं. उनका कहना है कि अगर अस्पताल में कोई आपात स्थिति होती है तो उन्हें नदी के दूसरी तरफ पड़ोस के गांव में जाना पड़ता है. ऐसे में 90 साल की महिला के शव को कूल्हे तक के गहरे पानी में ले जाने का वीडियो और तस्वीरें अब सोशल मीडिया पर वायरल हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें