scorecardresearch
 

उम्र छोटी कारनामा बड़ा, 14 साल की उम्र में बन गया सीईओ, करता है गूगल के लिए काम

झारखंड के जमशेदपुर जिले में रहने वाले रोहित सिन्हा 14 साल की उम्र में सीईओ बन गए हैं. गूगल ने रोहित को यंगेस्ट प्रोफेशलन का खिताब दिया और वो अब गूगल के लिए के लिए काम कर रहे हैं.

रोहित सिन्हा (Photo Aajtak) रोहित सिन्हा (Photo Aajtak)

  • 14 साल की उम्र में बन गया सीईओ
  • रोहित गूगल के लिए कर रहा है काम

क्या आप यकीन कर सकते हैं कि 14 साल की उम्र में कोई सीईओ यानी चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर बन सकता है. शायद नहीं, लेकिन झारखंड के जमशेदपुर जिले में रहने वाले रोहित सिन्हा ने ये कारनामा कर दिखाया है. गूगल ने रोहित सिन्हा को न सिर्फ सीईओ बनाया है बल्कि उसे यंगेस्ट प्रोफेशनल का खिताब भी दिया है.

10वीं में पढ़ता है रोहित सिन्हा

जिस उम्र में बच्चे खेल-कूद में मशगूल रहते हैं उस उम्र में रोहित ने एक बड़ा कारनामा किया है. रोहित सिन्हा अब गूगल के लिए काम करते हैं. गूगल को तकनीकी सहायता देते हैं. रोहित ने बताया कि गूगल को यूजर फ्रैंडली कैसे बनाया जाए. यानी जिस गूगल का इस्तेमाल लोग किसी भी जानकारी हासिल करने के लिए करते हैं उस जानकारी को आसानी से कैसे हासिल किया जा सकता है ये सब गूगल को बताते हैं.

दो साल पहले रोहित ने बनाई खुद की आईटी कंपनी

रोहित सिन्हा का टैलेंट देख गूगल अब उनकी सहायता लेता है. बता दें कि रोहित ने दो साल पहले 2018 में खुद की एक आईटी कंपनी बनाई थी. इसी साल 16 दिसंबर को रोहित सिन्हा टेक मास्टरिंग नाम की इस कंपनी के सीईओ बन गए और अब गूगल भी इस कंपनी से कई प्रोजेक्ट पर काम ले रहा है.

thumbnail_bb_062920055104.jpgरोहित सिन्हा

पिता और स्कूल प्रिंसिपल को रोहित पर गर्व

रोहित सिन्हा की इस कामयाबी पर उनका परिवार, गांव और उसके स्कूल के टीचर गर्व महसूस कर रहे हैं. रोहित के पिता संतोष कुमार सिन्हा कहते हैं कि वो अपने बेटे की उपलब्धि से काफी खुश हैं और वो चाहते हैं कि रोहित अब झारखंड के लिए भी काम करे. रोहित की प्रिंसिपल जुमजुमी नंदी भी ये कहती हैं कि रोहित पढ़ने में बहुत होशियार है और जिस तरह से गूगल ने रोहित को सम्मानित किया है हमें उस पर गर्व है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें