scorecardresearch
 

HIV का हो सकता है इलाज, जीन एडिटिंग से विकसित दवा कर सकती है AIDS का इलाज 

रिसर्चर्स की टीम ने इंजीनियरिंग-प्रकार बी सफेद रक्त कोशिकाओं द्वारा विकसित एकल टीके के साथ वायरस को निष्क्रिय करने में प्रारंभिक सफलता पा ली है, जो HIV को खत्म करने वाले एंटीबॉडी का उत्पादन करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करता है.

X
फाइल फोटो फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • HIV के इलाज के लिए वैक्सीन विकसित
  • फिलहाल HIV-AIDS का कोई इलाज नहीं है

मेडिकल साइंस को एक बहुत बड़ी कामयाबी मिली है. मेडिकल रिसर्चर्स की एक टीम ने जीन संपादन का यूज करके एक नई वैक्सीन तैयार की है, जो HIV-AIDS का इलाज कर सकती है. HIV शरीर के इम्यून सिस्टम पर अटैक करता है और अगर इसका इलाज नहीं किया जाता है तो ये AIDS का कारण बन जाता है. HIV पहली बार सेंट्रल अफ्रीका में एक प्रकार के चिंपैंजी में खोजा गया था और माना जाता है कि 19वीं सदी की शुरुआत में मानव शरीर में पहुंच गया था. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि फिलहाल HIV-AIDS का कोई इलाज नहीं है और इस स्थिति के लिए जैनेटिक इलाज भी मौजूद नहीं है. 

HIV-AIDS का इलाज? 

रिसर्चर्स की टीम ने इंजीनियरिंग-प्रकार बी सफेद रक्त कोशिकाओं द्वारा विकसित एकल टीके के साथ वायरस को निष्क्रिय करने में प्रारंभिक सफलता पा ली है, जो HIV को खत्म करने वाले एंटीबॉडी का उत्पादन करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करता है. इस रिसर्च को तेल अवीव यूनिवर्सिटी में द जॉर्ज एस वाइज फैकल्टी ऑफ लाइफ साइंसेज में स्कूल ऑफ न्यूरोबायोलॉजी, बायोकैमिस्ट्री और बायोफिजिक्स की एक टीम ने लीड किया था. 

स्टडी के निष्कर्ष नेचर जर्नल में प्रकाशित किए गए हैं, जो एंटीबॉडी को "सुरक्षित, शक्तिशाली और स्केलेबल" के रूप में वर्णित करता है. जो न केवल संक्रामक रोगों पर लागू हो सकता है, बल्कि गैर-संचारी स्थितियों, जैसे कि कैंसर और के उपचार में भी लागू हो सकता है. टीम ने एक नए उपचार विकसित करने का दावा किया है जो रोगियों की स्थिति में जबरदस्त सुधार लाने की क्षमता के साथ एक बार के इंजेक्शन के साथ वायरस को हरा सकता है. 

एंटीबॉडी तैयार करती हैं बी कोशिकाएं

बी कोशिकाएं एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिका होती हैं जो वायरस और बैक्टीरिया के खिलाफ एंटीबॉडी पैदा करती हैं और अस्थि मज्जा में बनती हैं. जब वे परिपक्व हो जाते हैं, तो बी कोशिकाएं रक्त और लसीका प्रणाली में चली जाती हैं और वहां से शरीर के विभिन्न भागों में चली जाती हैं. वैज्ञानिक अब शरीर के अंदर इन बी कोशिकाओं को वायरस से पैदा होने वाले वायरल वाहक के साथ इंजीनियर करने में सक्षम हैं जिन्हें इंजीनियर भी बनाया गया था.  

जब इंजीनियर बी कोशिकाएं वायरस का सामना करती हैं, तो वायरस उत्तेजित करता है और उन्हें विभाजित करने के लिए प्रोत्साहित करता है. शोधकर्ताओं ने इसका मुकाबला करने के लिए इस विभाजन का फायदा उठाया है, और अगर वायरस बदलता है, तो बी कोशिकाएं भी उसी के अनुसार बदल जाएंगी ताकि इसका मुकाबला किया जा सके. 

HIV वायरस को बेअसर करने में प्रभावी

डॉ. बार्जेल बताते हैं, "इस मामले में हम बी सेल जीनोम में वांछित साइट में एंटीबॉडी को सटीक रूप से पेश करने में सक्षम हैं. सभी प्रयोगशाला मॉडल जिन्हें उपचार दिया गया था ने प्रतिक्रिया व्यक्त की, और उनके रक्त में वांछित एंटीबॉडी की उच्च मात्रा थी. हमने ब्लड से एंटीबॉडी का उत्पादन किया और सुनिश्चित किया कि यह वास्तव में लैब डिश में HIV वायरस को बेअसर करने में प्रभावी था." 

टीम ने बैक्टीरियल प्रतिरक्षा प्रणाली पर आधारित एक तकनीक CRISPR का इस्तेमाल किया. वायरस के खिलाफ वायरस को आनुवंशिक रूप से संशोधित करने के लिए और बैक्टीरिया ने वायरल अनुक्रमों का पता लगाने और उन्हें निष्क्रिय करने के लिए उन्हें काटने के लिए आणविक "खोज इंजन" के रूप में CRISPR सिस्टम का उपयोग किया. शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि आने वाले सालों में वे एड्स, संक्रामक रोगों और वायरस की वजह से होने कैंसर के लिए दवा का उत्पादन करने में सक्षम होंगे.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें