scorecardresearch
 

बंगाल: चौथे चरण का प्रचार थमा, हिंदू-मुस्लिम से लेकर ढोकला-रसगुल्ला से वोटरों को पैगाम

पश्चिम बंगाल के चौथे चरण में 5 जिलों की 44 सीटों पर शनिवार को वोट डाले जाएंगे, जिसके लिए चुनाव प्रचार गुरुवार को खत्म हो गया है. इस चरण के चुनाव प्रचार में हिंदू-मुस्लिम से लेकर गुजराती ढोकला और कोलकत्ता के रसगुल्ला तक का जिक्र रहा.

नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बंगाल के चौथे चरण की 44 सीटों पर शनिवार को वोटिंग
  • चौथे चरण में हिंदू-मुस्लिम पर जमकर वार पलटवार हुए
  • ममता बनर्जी ने सीआरपीएफ पर गंभीर आरोप लगाए

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए 44 सीटों पर प्रचार शोर गुरुवार शाम थम गया है. इस फेज की 44 सीटों पर 373 उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य का फैसला 10 अप्रैल यानि शनिवार को होना है. इस चरण में टीएमसी की ओर से ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी ने प्रचार की कमान संभाल रखी थी तो बीजेपी की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अमित शाह, जेपी नेड्डा और योगी आदित्यनाथ ने मोर्चा संभाल रखा था. लेकिन, बंगाल के चौथे चरण के चुनाव प्रचार में भी कांग्रेस की ओर से सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी नहीं उतरे जबकि टीएमसी के पक्ष में सपा नेता जया बच्चन ने रोड शो और रैलियां की. 

बंगाल के चौथे चरण में 5 जिलों की 44 सीटों पर शनिवार को वोट डाले जाएंगे. इनमें हावड़ा जिले की 9 सीट, दक्षिण 24 परगना जिले की 11 सीट, हुगली जिले की 10 सीट, अलीपुरद्वार की 5 सीट और कूच बिहार की सभी 9 सीटों पर वोटिंग होगी. ममता बनर्जी की टीएमसी के साथ-साथ लेफ्ट-कांग्रेस गठबंधन की भी अग्निपरीक्षा होनी है तो बीजेपी इस इलाके में लोकसभा चुनाव जैसा नतीजा दोहराने की आस लगाए हुए है. 

पश्चिम बंगाल का चरण दर चरण चुनाव जैसे-जैसे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे सियासी तापमान बढ़ने के साथ हिंदू-मुस्लिम वोटों पर सियासी दलों के नेताओं के बीच जुबानी जंग तल्ख होती दिखी. ममता के मुस्लिम वोटों के एकजुट होने की अपील पर चुनाव आयोग ने नोटिस जारी किया. पीएम मोदी ममता पर दीदी... वो.... दीदी कह कर तंज कसते नजर आए तो अमित शाह चुनाव प्रचार के बीच एक रिक्शा चालक के घर भोजन कर सियासी संदेश दिया. वहीं, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ हिंदुत्व के एजेंडे को धार देने में जुटे रहे. 

हिंदू-मुस्लिम की एंट्री
टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने रायदिघी की चुनावी जनसभा में मुस्लिम वोटरों को बीजेपी का खौफ दिखाते हुए असदुद्दीन ओवैसी और अब्बास सिद्दीकी की बजाय टीएमसी के पक्ष में एकजुट होकर वोट देने की अपील की थी. ममता बनर्जी ने जनसभा में मौजूद लोगों से कहा कि अगर आप एनआरसी-एनपीआर नहीं चाहते हैं तो उन्हें (ओवैसी और अब्बास) वोट मत करें. उन्हें वोट करने का मतलब है कि बीजेपी को वोट देना. मुख्यमंत्री ने कहा था कि हमारी संस्कृति है कि हिंदू और मुस्लिम एक साथ चाय पीते हैं. एक साथ दुर्गा पूजा और काली पूजा मनाते हैं. हमारे गांवों में अशांति होने पर बीजेपी को फायदा होगा. ऐसे में एकजुट होकर टीएमसी को वोट करें. 

 

ममता के इस अपील पर पीएम मोदी ने बंगाल के कूचबेहार में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि ममता बनर्जी को खुलेआम मुस्लिमों के वोट मांगने पड़ रहे हैं, यह दिखाता है कि मुस्लिम वोट बैंक आपके हाथ से छिटक गया है. लेकिन ममता बनर्जी को चुनाव आयोग का नोटिस अभी तक नहीं आया. मोदी ने कहा कि अगर हमने कहा होता कि सारे हिन्दू एक हो जाओ और बीजेपी को वोट दो, तो हमें चुनाव आयोग का नोटिस आ जाता और हमें आठ दस दिन के लिए बैन कर दिया जाता. दीदी को तिलक लगाने वालों, भगवा पहनने वालों से दिक्कत है. हालांकि, चुनाव आयोग ने ममता के बयान को संज्ञान में लिया और उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा है तो ममता ने चुनाव आयोग को बीजेपी के इशारे पर काम करने का आरोप लगा दिया. 

गुजरात का ढोकला कोलकत्ता का रसगुल्ला
ममता बनर्जी ने कहा कि तुमको क्या लगता है, बंगाल का रसगुल्ला और गुजरात का ढोकला एक है? बंगाल का रसगुल्ला और गुजरात के ढोकला में बहुत फर्क है वो कभी एक नहीं हो सकते हैं. तुम ढोकला खाओ, मैं रसगुल्ला खाऊंगी. लेकिन दिल्ली का लड्डू यहां मत दिखाओ. बंगाल में गुजराती का राज नहीं होगा. ममता ने नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा और गुजराती बनाम बंगाली करने की कवायद करती नजर आई. ममता बनर्जी लगातार बीजेपी को बाहरी बताने में जुटी है. ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने कूच बिहार के तुफानगंज में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि बंगाल की जनता को यह तय करना होगा कि वो बाहर के नेता चाहते हैं कि बंगाल की बेटी ममता बनर्जी को नेता बनाना चाहते हैं. 

अमित शाह का रिक्शा चालक के घर भोजन
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह लगातार बंगाल चुनाव की कमान संभाले हुए है. चौथे चरण में कई रैलियां और रोड शो करके बीजेपी उम्मीदवारों की जिताने की अपील की. इस दौरान डोमजूर में बुधवार को गृहमंत्री अमित शाह ने एक रिक्शा चालक के घर भोजन भी किया, उनके साथ बीजेपी प्रत्याशी राजीव बनर्जी भी मौजूद थे. इस दौरान उन्होंने ममता बनर्जी पर जमकर हमले किए और कहा कि दीदी नंदीग्राम में चुनाव हार रही है. हम बंगाल में 200 सीटें जीतने जा रहे हैं. वहीं, ममता बनर्जी ने डोमजूर के लोगों से राजीव बनर्जी के लिए माफी मांगी और कहा कि जिन्होंने टीएमसी छोड़कर भाजपा ज्वाइन किया वो मीर जाफर हैं. 

ममता ने सीआरपीएफ को निशाने पर लिया
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने  कूचबिहार की एक रैली में कहा था, 'गृह मंत्री अमित शाह के आदेश पर सीआरपीएफ कर्मी मतदाताओं को परेशान कर रहे हैं. टीएमसी के लोगों को वोट डालने से रोका जाता है, लेकिन वो डराने-धमकाने के इस प्रकार के हथकंडों से नहीं घबराएंगी. ममता ने कहा कि इस बावजूद मैं कहती हूं बीजेपी तुम जीतने वाले नहीं हो बल्कि तुम बंगाल में बुरी तरह हारोगे. ममता ने कहा कि बीजेपी का एक ही काम है कि उसे पता है  लोगों का वोट नहीं मिलेगा इसलिए लोगों को वोट देने से रोकना, डराना धमकाना. ममता ने कहा कि बीजेपी बाहर के लोगों को लाकर गुंडागर्दी कर रही है. 

बीजेपी के पैसे लेकर टीएमसी को वोट दो- अभिषेक
वहीं, अलीपुरद्वार जिले के कुमारग्राम में एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी पर वोट खरीदने के लिए कैश बांटने का आरोप लगाया. अभिषेक बनर्जी ने कहा था कि बीजेपी के लोग अगर पैसे दे रहे हैं तो उन पैसों को अपने पास रख लें पर वोट सिर्फ टीएमसी को हीं दें. इसके साथ ही अभिषेक बनर्जी ने कहा कि वोट देने के लिए अलग पैसे मिलते हैं तो मोलभाव करें. अगर 500 रुपये मिलते हैं तो पांच हजार रुपये मांगे, पर वोट सिर्फ टीएमसी को दें. अभिषेक बनर्जी ने कहा कि कमल से पैसे ले लो और जुड़वां फूल में वोट दे. क्योंकि अगर बीजेपी जनता को धोखा दे सकती है तो फिर जनता बीजेपी को धोखा क्यों नहीं दे सकती है.

हिंदुत्व के एजेंडे पर खेलते नजर आए योगी
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बंगाल के चौथे चरण में हिंदुत्व के एजेंडे को धार देते नजर आए. उन्होंने सीएए का मुद्दा उठाते हुए कहा कि ममता बनर्जी हिंदुओं को नागरिकता देने के खिलाफ है. सीएए विरोधी टीएमसी के वोट बैंक हैं. दीदी उन्हें कभी नहीं भगाएंगी. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनों के दौरान टीएमसी के लोग हिंसा भड़काने में उनकी मदद कर रहे थे जबकि उत्तर प्रदेश में हमने दंगाइयों के पोस्टर लगवाए और उनकी संपत्ति जब्त कर ली. ममता दीदी ऐसा कभी नहीं कर सकतीं, क्योंकि वह उन्हें टीएमसी के वोट बैंक के रूप में देखती हैं. योगी ने कहा कि बहनों-बेटियों की सुरक्षा के लिए बंगाल में भी उत्तर प्रदेश की तरह एंटी-रोमिया स्क्वायड चलाया जाएगा. सभी रोमियो जेल की सलाखों के पीछे भेजे जाएंगे और दो मई के बाद तो दीदी भी जय श्रीराम बोलने लगेंगी.

चौथे चरण में इन दिग्गजों की साख दांव पर

बता दें, चौथे चरण की 44 सीटों पर कुल 373 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं. इस चरण में अपनी किस्मत आजमा रहे बंगाल रणजी के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी (शिबपुर सीट, तृणमूल कांग्रेस) और राज्य के शिक्षा मंत्री और बेहला पश्चिम सीट से वर्तमान विधायक पार्थ चटर्जी शामिल हैं. इसके अलावा टॉलीगंज सीट पर भाजपा के केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का मुकाबला राज्य के खेल मंत्री अरूप बिस्वास से है. बेहला पूर्व सीट पर भाजपा की उम्मीदवार पायल सरकार का मुकाबला रत्ना चटर्जी से है जो शहर के पूर्व महापौर और अग्निशमन मंत्री शोभन चटर्जी की पत्नी हैं. राज्य के पूर्व वन मंत्री राजीव बनर्जी हाल ही में भाजपा में शामिल हुए हैं और वह दोमजुर सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं. हुगली के चिन्सुराह सीट पर भाजपा सांसद और अभिनेत्री लॉकेट चटर्जी चुनावी मैदान में हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें