scorecardresearch

बिहार विधानसभा चुनाव

मुजफ्फरपुर में गिरिराज बोले- भारत माता की जय की आवाज चीन तक जाए

बिहार चुनाव में इन चेहरों पर रहेगी सबकी नजर

बिहार चुनाव में इन सीटों पर है कांटे की टक्कर

Bihar Assembly Election 2020

बिहार में चुनावी जंग जारी है. 28 अक्टूबर को पहले चरण में 71 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हुई. दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर और तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होना है. मतगणना 10 नवंबर को होगी. बिहार विधानसभा में सदस्यों की कुल संख्या 243 है. इस चुनाव में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जेडीयू-भाजपा की राज्य सरकार के भविष्य का फैसला होना है. साथ ही राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के जेल में रहते उनके बेटे तेजस्वी यादव की नेतृत्व क्षमता का भी शक्तिपरीक्षण होगा. इस बार बिहार विधानसभा चुनाव वैश्विक महामारी कोरोना (COVID-19) के साये में हो रहे है. इसके मद्देनज़र चुनाव आयोग ने जरूरी दिशानिर्देश भी जारी किए हैं.

कोरोना महामारी के चलते इस बार बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान वर्चुअल और जमीनी, दोनों तरह के चुनाव प्रचार देखने को मिलेंगे. चुनाव आयोग ने चुनाव प्रचार, नामांकन और वोटिंग को लेकर विस्तृत गाइडलाइंस भी जारी किए हैं. आगामी चुनाव के मद्देनजर तमाम सियासी दलों ने अपनी रणनीतियां बनानी शुरू कर दी हैं. इस बार के चुनाव में बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मुद्दा छाया रहने की संभावना है.

इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव में बीते 15 सालों से मुख्यमंत्री के पद पर काबिज नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) (जेडीयू) केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के बैनर तले चुनाव लड़ रही है. अक्टूबर-नवंबर 2015 में हुए पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी महागठबंधन के बैनर तले चुनाव लड़ी थी. जबकि भारतीय जनता पार्टी (BJP) की अगुवाई वाले एनडीए ने लोक जनशक्ति पार्टी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था.

2015 में 243 सीटों पर हुए बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election) में178 सीटों पर जीत के साथ महागठबंधन ने बहुमत हासिल किया था. जबकि एनडीए को 58 सीटों से संतोष करना पड़ा था. राष्ट्रीय जनता दल ने सबसे ज्यादा 80 सीटें जीती थी जबकि जेडीयू 71 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर रही. बीजेपी के खाते में महज 53 सीटें आई थीं.