scorecardresearch
 

राजस्थान: 20 हजार मोबाइल की डिटेल निकाली, 16 को किया शॉर्टलिस्ट, तब गिरफ्त में आए 14 लाख लूटने वाले

राजस्‍थान (Rajasthan) के औद्योगिक नगर भीलवाड़ा (Bhilwara) में दो दिन पूर्व दिन दहाड़े बैंक में कैश जमा करवाने जा रहे ज्‍वैलर्स कर्मियों को घायल कर 14 लाख रूपये लूटने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है.

पुलिस सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के जरिए अरोपियों तक पहुंची. पुलिस सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के जरिए अरोपियों तक पहुंची.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अन्य जगहों पर भी दिया था लूट को अंजाम
  • पुलिस की गिरफ्त में आए चार आरोपी
  • तंगी के चलते चुना अपराध का रास्ता

राजस्‍थान (Rajasthan) के औद्योगिक नगर भीलवाड़ा (Bhilwara) में दो दिन पूर्व दिन दहाड़े बैंक में कैश जमा करवाने जा रहे ज्‍वैलर्स कर्मियों को घायल कर 14 लाख रूपये लूटने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. पुलिस ने इस मामले में चार लुटेरों को गिरफ्तार किया है. इनकी गिरफ्तारी के लिए 20 हजार मोबाइल नंबर की डिटेल में से 16 को शॉर्टलिस्ट किया गया और फिर जाकर लुटेरों की पहचान हो सकी. पुलिस ने लूट की राशि भी बरामद कर ली है.

भीलवाड़ा के पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा ने कहा कि लूट के आरोपी इन्‍दौर के मोहम्‍मद अबरार व सतीश शाह, उदयपुर के रोशन लखारा और भीलवाड़ा जिले के हमीरगढ़ के मुस्‍ताफा को गिरफ्तार किया है. इनसे लूट की 13 लाख 40 हजार रूपये बरामद कर लिए गए हैं. इन्‍होंने 60 हजार रूपये आने-जाने में खर्च कर दिये थे.


कई जिलों में लूट की वारदात को अंजाम

भीलवाड़ा के एसपी विकाश शर्मा ने बताया कि इन अपराधियों द्वारा पहले भी राजस्‍थान और मध्‍यप्रदेश सहित कई राज्‍यों के कई जिलों में लूट की वारदातों को अंजाम दिया गया है. इनकी आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण इन्‍होंने अपराध का रास्ता चुना. जहां भी भीड़ वाले इलाकों में बैंक व ज्‍वैलर्स शॉ रूम में कैश का आदान-प्रदान रहता है वहां यह लुटेरे दो-तीन दिन की रेकी कर  घटना को अंजाम देते. यह लोग कैश लेकर जाती हुई गाड़ी का पीछा कर अपनी गाड़ी आगे लगाकर उस रोककर  धारदार हथियार से वार कर लूट को अंजाम देते थे. इनसे मध्‍यप्रदेश,राजस्‍थान सहित देश के अन्‍य राज्‍यों में हुई लूट की घटनाओं के बारे में भी पता चलने की संभावना है.

क्लिक करें- दिल्ली: हत्या के बाद रिक्शे पर लादकर लाश को ठिकाने लगाने जा रहा था, ऐसे हुआ गिरफ्तार
 

एसपी विकास शर्मा ने कहा कि एक दिन में ही लूट के आरोपियों तक पहुंचने में पुलिस का सबसे बड़ी सहायता सीसीटीवी कैमरों के फुटेज से मिली. साइबर सेल भीलवाड़ा पुलिस द्वारा घटनास्‍थल एंव संभावित रास्‍तों से बीटीएस सं‍कलित किये  और संदिग्‍ध लोगों की पहचान एवं रूट के संबंध में सूचनाएं जुटाई गई. 20 हजार से अधिक मोबाइल नम्‍बरों की जांच की गई. जिनमें से 16 मोबाइल नम्‍बरों को चिन्हित कर उक्‍त मोबाइल धारकों का सत्‍यापन किया और फिर सीसीटीवी फुटेज के जरिए इन बदमाशों तक पहुंचा जा सका.

(इनपुट- प्रमोद तिवारी)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें