scorecardresearch
 

झांसा देकर विदेशी लड़कियों को तैयार करती थी पत्नी, फिर पति कराता था देह व्यापार

गिरफ्तार किया गया आरोपी मोमिन उर्फ विजय दत्त दस साल पहले मुंबई आया और दूसरी शादी भी कर ली. वहीं उसकी पहली पत्नी बांग्लादेश में महिलाओं से जुड़ा एक एनजीओ चलाती है. इस एनजीओ के जरिए ही लड़कियां भारत लाई जाती थी.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तीन महिलाओं समेत 8 लोग गिरफ्तार
  • पुलिस ने मुख्य सरगना को भी पकड़ा

बांग्लादेशी लड़कियों की तस्करी करने और उनसे देह व्यापार कराने के आरोप इंदौर पुलिस ने तीन महिलाओं समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने मुख्य सरगना विजय दत्त को भी गिरफ्तार किया है. उसका असली नाम मोमिन है और वह फर्जी डॉक्यूमेंट के सहारे अपना नाम बदलकर भारत में रह रहा था. 

आरोप है कि मोमिन उर्फ विजय दत्त हवाला के जरिये पैसे बांग्लादेश भेजता था. आरोपी ने बांग्लादेश और हिंदुस्तान दोनों जगह शादी की थी. बांग्लादेश में आरोपी की पत्नी भी लड़कियों की स्मगलिंग में शामिल है. इस गैंग ने इंदौर, राजगढ़, खण्डवा, खरगोन समेत कई जिलों में हजारों लड़कियों को बहला फुसलाकर वेश्यावृत्ति के काम में लगाया. 

कैसे हुआ खुलासा

2020 में इंदौर के विजय नगर थाना क्षेत्र में 21 बांग्लादेशी लड़कियों को देह व्यापार के मामले में पुलिस ने पकड़ा था. इसके बाद उनके तार एमडी ड्रग्स मामले से जुड़े पाए गए. नशे और देह व्यापार के अपराध में पुलिस ने लड़कियों के अलावा 33 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. पूछताछ के दौरान पुलिस के सामने विजय दत्त और उज्ज्वल ठाकुर के नाम आए थे.

15 नवंबर इंदौर की विजय नगर पुलिस ने जब एक होटल में कार्रवाई की थी तो देह व्यापार में लिप्त 5 लड़कियों को गिरफ्तार किया गया था, जिनमें से 3 लड़कियों की पहचान को लेकर जांच की जा रही थी. इस दौरान भी विजय दत्त और उज्ज्वल ठाकुर का नाम सामने आया. फिलहाल पुलिस ने 5 आरोपियों व 3 लड़कियों को गिरफ्तार किया है.

इंदौर पुलिस ने एक हफ्ते तक मुंबई में डेरा डाल रखा था. इस दौरान पुलिस ने जब अलग-अलग लोगों से विजय दत्त के बारे में पता लगाया. इसके बाद बांग्लादेशी सेक्स रैकेट का बड़ा सरगना पुलिस गिरफ्त में आया. खुद को विजय दत्त बताने वाला गैंग का सरगना असली नाम मोमिन है और बांग्लादेश के बवान जिले के कसई का रहने वाला है.

पत्नी चलाती है एनजीओ, खुद करता धंधा

दस साल पहले बांग्लादेश छोड़कर वो मुंबई आया और उसने फर्जी राशन कार्ड के जरिये अपना नाम परिवर्तित करवा लिया, जिसके बाद मोमिन न राशन कार्ड पर बल्कि आधार सहित अन्य दस्तावेजों पर विजय दत्त पिता विपुल दत्त बन गया. इतना ही नहीं उसने मुंबई में दूसरी शादी भी कर ली, वहीं उसकी पहली पत्नी महिलाओं से जुड़ा एक एनजीओ चलाती है.

इसके माध्यम से हर साल हजारों लड़कियों को बांग्लादेश से भारत लाया जाता है. मोमिन की बांग्लादेशी पत्नी अनाथ और कमजोर आर्थिक स्थिति वाली लड़कियों को चंगुल में फंसाकर भारत पहुंचाती थी. मोमिन उर्फ विजय दत्त उन लड़कियों से देशभर में देह व्यापार करवाता था. वो लड़कियों को कम पैसा देता था, मोटी कमाई हवाला के जरिये बांग्लादेश पहुंचा देता.

कई प्रदेशों में फैला है नेटवर्क

इंदौर के पूर्वी क्षेत्र के एसपी आशुतोष बागरी ने बताया कि आरोपी मोमिन उर्फ विजय दत्त ने 10 साल में हजारों लड़कियों को देह व्यापार में धकेला है. वो लड़कियों को गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश सहित देश के सभी राज्यों में भेजता था. मध्यप्रदेश के खंडवा, भोपाल , खरगोन, अन्य जिलों में भी इसके दलाल सक्रिय है.

फिलहाल, पुलिस ने गिरोह के 5 पुरुष और 3 महिला आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जिसे इंदौर पुलिस को मिली राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामले में बड़ी कामयाबी माना जा रहा है क्योंकि पुलिस ने अंतर्राष्ट्रीय देह व्यपार गैंग का खुलासा किया है. गैंग के मुख्य सरगना मोमिन और उसके साथियों को पुलिस गिरफ्तार कर इंदौर लाई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें