scorecardresearch
 
कोरोना

ब्लैक फंगस के इलाज में हुए डेढ़ करोड़ रुपये खर्च, फ‍िर भी गंवानी पड़ी एक आंख

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 1/8

नागपुर के एक शख्स को कोरोना होने के कुछ महीने बाद म्यूकर माइकोसिस बीमारी हो गई और उस व्यक्ति और उसके परिवार ने इलाज के लिए डेढ़ करोड़ रुपये खर्च किए. दुर्भाग्य की बात है कि इतना पैसा खर्च करने के बाद भी उस व्यक्ति को अपनी एक आंख हमेशा के लिये गंवानी पड़ी.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 2/8

नागपुर के नवीन पॉल जीएसटी विभाग में कार्यरत हैं. कोरोना के बाद उन्हें म्यूकर माइकोसिस बीमारी हो गई और इसके इलाज के लिए उन्हें लगातार 6 अलग-अलग अस्पतालों में इलाज कराना पड़ा. इस इलाज के लिए उन्हें 1 करोड़ 48 लाख रुपये खर्च करने पड़े.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 3/8

नवीन पॉल को पिछले कुछ महीनों पहले कोरोना हो गया था जिससे वो ठीक भी हो गए लेकिन कुछ दिनों बाद उन्हें आंखों में दिक्कत होने लगी, दांत हिलने लगे.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 4/8

जब उन्होंने नागपुर के एक डॉक्टर से इस बारे में पूछताछ की तो उन्हें आगे के इलाज के लिए हैदराबाद जाने की सलाह दी गई लेकिन हैदराबाद में कोई खास इलाज नहीं हुआ तो वे इलाज के लिए मुंबई चले गए.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 5/8

मुंबई में एक महीने तक उनका इलाज चला. उस इलाज से भी उन्हें कोई खास फायदा नहीं मिला तो पॉल इलाज के लिए नागपुर वापस लौट आए. यहीं पर उनका इलाज किया गया और डॉक्टर ने उनकी एक आंख निकालने का फैसला किया. परिजनों की सहमत‍ि के बाद पॉल की एक आंख निकाल दी गई.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 6/8

इन सभी अस्पतालों में इलाज के लिए पॉल को 1 करोड़ 48 लाख रुपये का बिल देना पड़ा. नवीन की पत्नी रेलवे में है इसलिए इन सभी उपचारों के लिए रेल विभाग ने उनकी काफी मदद की और उनका कहना है कि वह बच गए.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 7/8

नवीन की पत्नी संगीता ने अपने पति को बचाने के लिए बहुत प्रयास क‍िए. जैसे-जैसे उनके पत‍ि के लिये इलाज के लिये लागत बढ़ती जा रही थी, उनके रिश्तेदारों ने भी उनकी बहुत मदद की. उनकी जान बचाने के लिए हर कोई उसकी मदद के लिए आगे आ रहा था और नागपुर में डॉक्टरों ने भी बहुत प्रयास किया और नवीन की जान बच गई. नवीन को एक आंख निकालनी थी लेकिन दूसरी आंख अच्छी है और उस आंख की रोशनी बहुत अच्छी है, इसलिए उसकी पत्नी खुश है. पॉल का कहना है कि रेलवे ने एवं उनके दोस्त एवं परिवार ने उनकी बहुत मदद की.

ब्लैक फंगस के इलाज में डेढ़ करोड़ खर्च
  • 8/8

नागपुर और विदर्भ में ब्लैक फंगस का संभवत: यह पहला मामला है लेकिन इस भारी लागत की मदद रेल विभाग और अन्य सहयोगियों और रिश्तेदारों की मदद के बिना संभव नहीं होती लेकिन 1.5 करोड़ रुपये खर्च करने के बाद भी परिवार वाले भी थोड़े दुखी जरूर हैं कि पॉल को एक आंख गंवानी पड़ी.