scorecardresearch
 
यूटिलिटी

पारस डिफेंस का IPO 3 घंटे में 800% सब्सक्राइब, आम आदमी पैसे लगाने में सबसे आगे!

रिटेल निवेशकों में काफी उत्साह
  • 1/8

डिफेंस और स्पेस इंजीनियरिंग सेक्टर की कंपनी Paras Defence के IPO को जबर्दस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है. निवेशकों को इस IPO से मोटी कमाई की उम्मीद है, खासकर रिटेल निवेशकों में इस IPO को लेकर काफी उत्साह है. Paras Defence का आईपीओ ओपन होते ही चंद मिनटों में पूरी तरह सब्सक्राइब हो गया. 
 

दोपहर 1 बजे तक 8 गुना सब्सक्राइब
  • 2/8

आंकड़ों के मुताबिक आज 10 बजे आईपीओ ओपन होते ही महज तीन घंटे में यानी दोपहर 1 बजे तक 8 गुना से ज्यादा सब्सक्राइब हो चुका है. सबसे ज्यादा रिटेल निवेश का हिस्सा 16 गुना सब्सक्राइब हो चुका है. जबकि नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII) का हिस्सा 100% सब्सक्राइब हुआ है. वहीं जबकि क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशल बायर्स ने अभी बोली लगाने की शुरुआत नहीं की है. 
 

ग्रे मार्केट में बढ़ता प्रीमियम
  • 3/8

पारस डिफेंस के आईपीओ को जोरदार रिस्पॉन्स के पीछे इसके ग्रे मार्केट में बढ़ता प्रीमियम है. पिछले चार दिनों में Paras Defence का ग्रे मार्केट प्रीमियम करीब 100 रुपये बढ़ा है. ग्रे मार्केट में शेयर 385 रुपये ट्रेड कर रहा है. यानी कुल 210 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार हो रहा है. ग्रे मार्केट में डिमांड को देखते हुए शानदार लिस्टिंग का अनुमान लगाया जा रहा है. 

23 सितंबर तक निवेश का मौका
  • 4/8

डिफेंस और स्पेस इंजीनियरिंग सेक्टर की कंपनी Paras Defence का IPO 23 सितंबर को बंद होगा. कंपनी इस इश्यू के जरिये 170.78 करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी में है. आईपीओ के जरिये पारस डिफेंस कंपनी 140.60 करोड़ रुपये का फ्रेश इश्यू जारी करेगी. जबकि 30.18 करोड़ रुपये के शेयर ऑफर फॉर सेल (OFS) के जरिये बेचे जाएंगे. आईपीओ का प्राइस बैंड 165-175 रुपये शेयर है.
 

IPO के बारे में
  • 5/8

आईपीओ का 50% हिस्सा इंस्टीट्यूशनल बायर्स के लिए रिजर्व है. नॉन-इंस्टीट्यूशनल के लिए 15% हिस्सा रखा गया है. जबकि रिटेल इनवेस्टर्स के लिए 35% हिस्सा रिजर्व है. कंपनी के प्रमोटर शरद विरजी शाह और मुंजाल शरद शाह हैं. 

कंपनी का कारोबार
  • 6/8

पारस डिफेंस उन चुनिंदा कंपनियों में से एक है, जो डिफेंस और स्पेस रिसर्च सेक्टर को कस्टमाइज्ड प्रोजेक्ट्स मुहैया कराती है. नवी मुंबई और थाणे में कंपनी के दो मैन्युफैक्चरिंग प्लांट है. कंपनी की शुरुआत 2009 में हुई थी. पिछले 12 साल में कंपनी का कारोबार तेजी से फैला है. 

बड़ी कंपनियां क्लाइंट
  • 7/8

इसकी क्लाइंट लिस्ट में कई बड़ी कंपनियां हैं. जिसमें ISRO, DRDO, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स, हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स, गोदरेज एंड बॉयसे, TCS, किर्लोस्कर ग्रुप, इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया और भारत डायनेमिक्स है. 

शानदार लिस्टिंग का अनुमान
  • 8/8

जानकारों की मानें तो IPO के छोटे साइज, अच्छी वैल्यूएशन और डिफेंस सेक्टर पर कंपनी के फोकस को देखते हुए इस IPO में कई गुना बोलियां देखी जा सकती हैं. कंपनी को ड्रोन को लेकर आई PLI स्कीम से भी फायदा मिल सकता है.