scorecardresearch
 

ABG Group Bank Fraud Case: कंपनी के चीफ ऋषि अग्रवाल गिरफ्तार, 23 हजार करोड़ के सबसे बड़े बैंक फ्रॉड का मामला

जांच एजेंसी सीबीआई ने देश के सबसे बड़े बैंक धाेखाधड़ी के मामले में एबीजी ग्रुप के फाउंडर और चेयरमैन ऋषि अग्रवाल को गिरफ्तार किया है. ये बैंक घोटाला करीब 23 हजार करोड़ रुपये का है. ऋषि अग्रवाल की गिरफ्तारी बुधवार को हुई है.

X
एबीजी ग्रुप के फाउंडर ऋषि अग्रवाल (File Photo)
एबीजी ग्रुप के फाउंडर ऋषि अग्रवाल (File Photo)

देश के अब तक के सबसे बड़े बैंक धोखाधड़ी मामलों (India's Biggest Bank Fraud Case) में शुमार एबीजी शिपयार्ड मामले (ABG Shipyard Bank Fraud Case) में जांच एजेंसी सीबीआई ने कंपनी के फाउंडर और चेयरमैन ऋषि अग्रवाल को गिरफ्तार किया है. एबीजी शिपयार्ड बैंक धोखाधड़ी का मामला 22,842 करोड़ रुपये का है. ऋषि अग्रवाल को भारतीय दंड संहिता (IPC) के साथ-साथ मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून की अलग-अलग धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है.

सीबीआई ने ऋषि अग्रवाल को आपराधिक साजिश रचने, धोखाधड़ी करने, अपने पद का दुरुपयोग करने और भरोसा तोड़ने जैसे आरोपों को लेकर गिरफ्तार किया है.

2013 में NPA बना एबीजी का लोन

जांच एजेंसी के मुताबिक एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड साल 2001 से भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के साथ लेनदेन कर रही है. जबकि आईसीआईसीआई बैंक की लीडरशिप में 28 बैंकों के एक समूह (Bank Consortium) ने 2005 से 2012 के बीच सबसे ज्यादा पैसा उनकी कंपनी को दिया. इसमें एसबीआई भी शामिल रहा.

अप्रैल 2019 से मार्च 2020 के बीच कंसोर्टियम के अधिकतर बैंकों ने एबीजी शिपयार्ड के खाते को धोखाधड़ी वाला खाता करार दे दिया था. कंपनी के लोन का खाता 30 नवंबर 2013 से नॉन-परफॉर्मिंग एसेट (NPA) में तब्दील हो गया था. सीबीआई ने अपनी जांच के बाद फरवरी में कंपनी और उसके एक्जीक्यूटिव्स पर 28 बैंकों के साथ कुल 22,842 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था. इस संबंध में 7 फरवरी  2022 को एफआईआर दर्ज की गई थी.

जहाज मरम्मत करती है एबीजी शिपयार्ड

15 मार्च 1985 में शुरू हुई एबीजी शिपयार्ड जहाज बनाने और मरम्मत करने का काम करती है. इसका रजिस्टर्ड ऑफिस गुजरात के अहमदाबाद में है. एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड एबीजी ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी है. इसका शिपयार्ड गुजरात के दाहेज और सूरत में है.ऋषि अग्रवाल शशि रुइया और रवि रुइया के भांजे हैं. रुइया बंधू एस्सार ग्रुप (Essar Group) के मालिक हैं.

एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड देश की सबसे बड़ी निजी शिपयार्ड फर्म रही है. कंपनी 16 साल में 165 से ज्यादा जहाज बना चुकी है, जिसमें से 45 दूसरे देशों के लिए बनाए हैं. ये नौसेना और कोस्टगार्ड के लिए भी जहाज बना चुकी है. कंपनी के सूरत शिपयार्ड में 18,000 डेड वेट टन और दाहेज शिपयार्ड में 1,20,000 डेड वेट टन की क्षमता है.

किस बैंक की कितनी रकम बकाया?

एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड पर 28 बैंकों से करीब 23 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है. इसमें 7 हजार 89 करोड़ रुपये ICICI बैंक, 3 हजार 634 करोड़ IDBI, 2 हजार 925 करोड़ SBI, 1 हजार 614 करोड़ बैंक ऑफ बड़ौदा, 1 हजार 244 करोड़ PNB और 1 हजार 228 करोड़ इंडियन ओवरसीज के बकाया हैं. यानी, इन 6 बैंकों के ही 17 हजार 734 करोड़ रुपये बकाया है. इनके अलावा 22 और बैंकों के 5 हजार 108 करोड़ रुपये बकाया है.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें