scorecardresearch
 

अब मुकेश अंबानी इस अमेरिकी कंपनी में करेंगे बड़ा निवेश, सीधे अडानी से मुकाबले की तैयारी!

दुनिया के तीसरे व भारत समेत एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी (Gautam Adani) और रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के चेयरमैन एवं भारत के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) दोनों ही ग्रीन एनर्जी सेक्टर पर काफी जोर दे रहे हैं. दोनों दिग्गज कारोबारी ग्रीन एनर्जी सेक्टर में एक के बाद एक डील कर रहे हैं.

X
दो दिग्गजों में होगी टक्कर दो दिग्गजों में होगी टक्कर

ग्रीन एनर्जी सेक्टर (Green Energy Sector) देश के दो सबसे अमीर कारोबारियों की टक्कर का गवाह बनने जा रहा है. दुनिया के तीसरे व भारत समेत एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी (Gautam Adani) और रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के चेयरमैन एवं भारत के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) दोनों ही ग्रीन एनर्जी सेक्टर पर काफी जोर दे रहे हैं. अब अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली रिलायंस न्यू एनर्जी लिमिटेड (Reliance New Energy Limited) ने अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थित कैलक्स कॉरपोरेशन (Caelux Corporation) में बड़ा निवेश करने की घोषणा की है.

अंबानी खरीदेंगे कैलक्स की इतनी हिस्सेदारी

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने एक बयान में बताया कि उसकी सब्सिडियरी रिलायंस न्यू एनर्जी लिमिटेड (RINL) अगली पीढ़ी की सौर प्रौद्योगिकी (Solar Technology) का विकास करने वाली अमेरिकी कंपनी कैलक्स की 20 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगी. इसके लिए रिलायंस न्यू एनर्जी 1.2 करोड़ डॉलर यानी करीब 100 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. इस निवेश से ‘एडवांस सोलर सेल टेक्नोलॉजी’ में कंपनी को मजबूती मिलने की उम्मीद है, जो आने वाले समय में ग्रीन एनर्जी सेगमेंट में रिलायंस को अपनी पकड़ मजबूत बनाने में मददगार साबित होगा.

कम लागत वाली टेक्नोलॉजी बनाती है कैलक्स

मुकेश अंबानी का यह निवेश कैलक्स को प्रौद्योगिकी के मोर्चे पर विकास के मौके देने के साथ-साथ अमेरिका समेत दुनिया भर के बाजारों में पैर जमाने में मदद करेगा. दोनों कंपनियों ने इसके लिए एक रणनीतिक साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. दरअसल कैलक्स, पेरोव्स्काइट-आधारित सोलर टैक्नोलॉजी के लिए जानी जाती है. कंपनी उच्च दक्षता वाले सौर मॉड्यूल बनाती है, जो 20 फीसदी अधिक ऊर्जा का उत्पादन कर सकती है. कंपनी के सोलर प्रोजेक्ट 25 साल तक बिजली पैदा कर सकने वाली टेक्नोलॉजी बनाती है और उसकी लागत भी काफी कम रहती है.

इसी महीने पूरी हो जाएगी डील

रिलायंस गुजरात के जामनगर में एक विश्वस्तरीय इंटीग्रेटेड फोटोवोल्टिक गीगा फैक्ट्री स्थापित कर रही है. इस निवेश के साथ ही रिलायंस कैलक्स के उत्पादों का भी लाभ उठा सकेगी और अधिक शक्तिशाली व कम लागत वाले सौर मॉड्यूल्स का उत्पादन कर सकेगी. इस सौदे के लिए किसी नियामक के अनुमोदन की आवश्यकता नहीं होगी. इस डील के सितंबर 2022 के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है.

मुकेश अंबानी ने की ये टिप्पणी

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने इस निवेश के बारे में कहा, 'कैलक्स में निवेश विश्व स्तरीय हरित ऊर्जा निर्माण ईको सिस्टम बनाने की हमारी रणनीति के अनुरूप है. हमारा मानना है कि कैलक्स की पेरोव्स्काइट-आधारित सोलर टेक्नोलॉजी और क्रिस्टलीय सौर मॉड्यूल, हमें अगले चरण तक पहुंचने में मदद करेंगे. हम इसके उत्पाद विकास और इसकी प्रौद्योगिकी के व्यावसायीकरण में तेजी लाने के लिए कैलक्स टीम के साथ काम करेंगे.'

कैलक्स को इस डील से ये उम्मीदें

वहीं कैलक्स कॉरपोरेशन के सीईओ स्कॉट ग्रेबील ने रिलायंस के एक प्रमुख निवेशक के रूप में शामिल होने पर खुशी जताई. उन्होंने कहा, 'हम क्रिस्टलीय सौर मॉड्यूल को अधिक कुशल व किफायती बनाने और अपनी विनिर्माण क्षमताओं का विस्तार करने पर ध्यान देंगे. हम रिलायंस की वैश्विक विस्तार योजनाओं और प्रोडक्ट रोडमैप का सपोर्ट करते हैं.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें