scorecardresearch
 

NASA को वापस चाहिए चांद की मिट्टी खाने वाले कॉकरोच के अवशेष, नीलामी रोकने को कहा

अमेरिका में हो रही एक नीलामी में चांद से लाई गई मिट्टी और उससे जुड़े एक्सपेरिमेंट के सैंपल भी बेचने के लिए रखे गए थे. नासा को जब इसकी जानकारी मिली तो उसने तुरंत नीलामी रोकने की अपील की है. जानिए क्या है पूरा मामला.

X
नीलामी में बेचने के लिए रखे गए थे एक्सपेरिमेंट के नमूने (Photo: NASA) नीलामी में बेचने के लिए रखे गए थे एक्सपेरिमेंट के नमूने (Photo: NASA)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • Apollo11 मिशन से लाई गई थी चंद्रमा की मिट्टी
  • एक प्रयोग में कॉकरोच को खिलाई गई थी मिट्टी

इस महीने की शुरुआत में, बॉस्टन (Boston) के एक ऑक्शन हाउस में दुर्लभ चीजों की नीलामी में की गई थी. इसमें एक खास सैंपल बेचने के लिए रखा गया था. अब नासा (NASA) चाहता है कि ये नीलामी रुक जाए. नासा का दावा है कि नीलामी में रखे गए आइटम संघीय सरकार (Federal government) के हैं.

जिस आइटम की यहां बात की जा रही है वह उन कॉकरोच के अवशेष हैं जिन्हें अपोलो 11 (Apollo 11) मिशन से लाई गई चंद्रमा की मिट्टी खिलाई गई थी. आपको बता दें कि 1969 में जब नील अर्मस्ट्रॉन्ग और बज़ एल्ड्रिन ने पहली बार चांद पर कदम रखा था, तो लौटते वक्त वे चंद्रमा से वहां की मिट्टी लेकर आए थे. चंद्रमा से 21.6 किलो मिट्टी पृथ्वी पर लाई गई थी.  

moon
चंद्रमा से लाई गई मिट्टी से वैज्ञानिकों ने कई प्रयोद किए (Photo: NASA)

यहां इस मिट्टी से वैज्ञानिकों ने कई प्रयोग किए. एक प्रयोग में, चंद्रमा की मिट्टी कॉकरोच को खिलाई गई थी. कॉकरोच को मिट्टी खिलाकर यह जानने की कोशिश की जा रही थी कि चंद्रमा की मिट्टी में कोई रोगजनक (Pathogen) तो नहीं था, जिससे पृथ्वी पर जीवन को खतरा हो. 

नीलामी में रखी गई चीजों में, 1970 में डॉ मैरियन ब्रूक्स द्वारा किए गए एक्सपेरिमेंट से चंद्रमा की बची हुई मिट्टी और कॉकरोच स्लाइड शामिल हैं. जिनके बारे में कहा जा रहा है कि इन्हें नीलामी में नहीं रखा जाना चाहिए था, क्योंकि वे अभी भी नासा की संपत्ति है. 

moon
चांद की मिट्टी कॉकरोच को खिलाई गई थी (Photo: NASA)

नासा ने आरआर ऑक्शन्स को पत्र लिखकर कहा है कि 'सभी अपोलो सैंपल जो इस कलेक्शन में रखे गए हैं, वे नासा के हैं और किसी भी व्यक्ति, यूनिवर्सिटी या अन्य संस्था को इनका विश्लेषण होने या खराब हो जाने के बाद किसी भी काम के लिए, खासकर बेचे जाने के लिए उन्हें रखने की अनुमति नहीं दी गई है'.

उन्होंने आगे लिखा कि हमारा अनुरोध है कि आप अपोलो 11 के लूनर सॉइल एक्सपेरिमेंट (कॉकरोच, स्लाइड, और टेस्टिंग स्पेसिमेन) से जुड़ी किसी भी नीलामी को तुरंत रोक दें. 

 

2010 में डॉ ब्रूक्स की बेटी ने इन आइटम को बेच दिया था. किसी और व्यक्ति ने इन्हें एक बार फिर बेचने के लिए नीलामी में रखा है. 22 जून को लिखे एक दूसरे पत्र में, नासा के एक वकील ने ऑक्शन हाउस और सैंपल के मौजूदा मालिक को, सैंपल संघीय सरकार को वापस करने के लिए कहा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें