scorecardresearch
 

कोस-कोस शब्दकोश: हर विसंगति पर पैनी नजर

कुछ लोग कम लिखते हैं, लेकिन धारदार लिखते हैं. राकेश कायस्थ उन्हीं लेखकों में हैं, जो ज्यादा लिखने में यकीन नहीं रखते, लेकिन लिखते हैं तो उसके मर्म को पकड़ते ही पाठक कह उठते हैं, 'वाह क्या बात है'.

कोस-कोस शब्दकोश कोस-कोस शब्दकोश

किताब: कोस-कोस शब्दकोश
लेखक: राकेश कायस्थ
प्रकाशक: हिंदी युग्म
कीमत: 100 रुपये (पांच डॉलर)
पेज: 144

कुछ लोग कम लिखते हैं, लेकिन धारदार लिखते हैं. राकेश कायस्थ उन्हीं लेखकों में हैं, जो ज्यादा लिखने में यकीन नहीं रखते, लेकिन लिखते हैं तो उसके मर्म को पकड़ते ही पाठक कह उठते हैं, 'वाह क्या बात है'.

राकेश कायस्थ व्यंग्य अरसे से लिख रहे हैं लेकिन उनका पहला व्यंग्य संग्रह अब आया है. इस व्यंग्य संग्रह 'कोस कोस शब्दकोश' को भी उन्होंने सलीके से तैयार किया है. दरअसल, बॉस, मीटिंग, आम आदमी, विकल्प, फेसबुक समेत तमाम शब्दों और विषयों को उन्होंने जिस अंदाज में परिभाषित किया है, वो न केवल हास्य पैदा करता है, बल्कि नई विसंगतियों पर धारदार प्रहार करता है.

किताब के पहले ही व्यंग्य 'बॉस' में लेखक लिखता है, 'बॉस अक्सर परफेक्शनिस्ट होते हैं, क्योंकि अगर वर्तनी में थोड़ी सी गलती हो जाए, तो बॉस से बास आने लगेगी. अगर कॉन्वेंट में पढ़े छात्र हिन्दी में लिखें, तो बॉस का बांस भी हो सकता है. लेकिन कॉन्वेंट में पढ़े छात्र भला हिन्दी में बॉस लिखेंगे क्यों?' इसी तरह मातृभाषा नामक व्यंग्य की पहली ही पंक्ति है, 'व्यक्ति जिस भाषा में दूसरों की मां-बहनों को याद रखता है, वही उसकी मातृभाषा होती है.'

मीटिंग व्यंग्य में राकेश लिखते हैं, 'मीटिंग एक नित्यकर्म है. जैसे सूरज रोज डूबता है. जैसे चांद रोज निकलता है. जैसे चिड़िया रोज पंख खुजाती है. जैसे गाय रोज जुगाली करती है. जैसे दिग्विजय सिंह रोज ट्वीट करते हैं. जैसे मोदी रोज नई घोषणाएं करती हैं. और जैसे राहुल अब रोज मौनव्रत रखते हैं. ठीक वैसे ही मीटिंग हर रोज होती है...इस देश के बड़े लोगों की चिंता सिर्फ और सिर्फ मीटिंग ही है.'

नए जमाने की नई विसंगतियां हैं और दिक्कत यही है कि कई व्यंग्यकार आज भी भ्रष्टाचार-सांप्रदायिकता जैसे पुरातन विषयों में अटके हैं और दुनिया ट्विटर-पिंटरेस्ट तक पहुंच गई. 140 अक्षरों में अपनी बात कहने की होड़ है, क्योंकि पाठक ज्यादा पढ़ना नहीं चाहता. इस बीच में राकेश कायस्थ के व्यंग्य संग्रह की यह कामयाबी है कि उनके व्यंग्य पूरा पढ़े बिना छोड़ा नहीं जाता.

दरअसल, व्यंग्यकार के लिए जरुरी है कि वो हर बात को उल्टी दिशा से सोचना शुरू करे और फिर उस तार को पकड़े, जो सामान्य तौर पर दिखायी नहीं दे रहा. राकेश कायस्थ इस कला में पारंगत हैं. वो बात करते हैं, तब भी व्यंग्य के ऐसे बाउंसर उछालते हैं कि साथ खड़ा शख्स उनकी सोच से बोल्ड होता रहता है.

परोपकार नामक व्यंग्य में वो बड़ी बात पहली ही लाइन में कह देते हैं, 'परोपकार वह काम है, जो दूसरों पर उपकार की नीयत से किया जाता है. लेकिन परोपकार के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें दूसरों का भला करते करते अपना भी भला हो जाता है.'

इंटरनेट के युग में हर व्यंग्य लेखक के लिए जरूरी है कि हर दूसरी लाइन में पंच हो और राकेश इस कला में माहिर हैं. मसलन मूर्खता पर उनका व्यंग्य देखें,

'मूर्खता शाश्वत है. मूर्खता सर्वव्यापी है. विद्वत्ता का लोहा मनवाने के लिए विद्वान होना जरूरी होता है. मूर्खता के साथ ऐसी कोई शर्त नहीं है. विद्वत्ता में बनावट होती है, मूर्खता नैसर्गिक होती है. विद्वत्ता अकसर साबित करनी पड़ती है. लेकिन मूर्खता अपने आप साबित हो जाती है. विद्वत्ता के साथ ब्राह्मणवादी अहंकार जुड़ा हुआ है, तो मूर्खता के साथ खांटी जनवाद.'

इसी तरह आम आदमी शीर्षक के व्यंग्य में राकेश कायस्थ पहली लाइन में ही छक्का मारते हैं. वह लिखते हैं, 'चुसा होना आम आदमी होने की पहली और एकमात्र शर्त है. जो चुसा हुआ न हो, वह आम आदमी नहीं है. आम का सीजन साल में एक बार आता है और चला जाता है. लेकिन चूसे जाने के लिए आम आदमी साल भर के लिए उपलब्ध होता है. चूसनेवाले कहते हैं, आम न सही तो आम आदमी तो है.'

तो सवाल यह नहीं है कि राकेश कायस्थ का व्यंग्य संग्रह क्यों पढ़ा जाए. बल्कि सवाल यह है कि क्यों न पढ़ा जाए? इसमें लेखक का नया अंदाज है, नए विसंगतियों पर नए अंदाज का प्रहार है और युवा व्यंग्यकारों के लिए तो यह किताब व्यंग्य लेखन की तमीज सिखाने वाली किताब है. 'कोस-कोस शब्दकोश' सिर्फ पठनीय ही नहीं है, संग्रहणीय भी हैं. यकीन न हो तो खरीदकर देखिए...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें