scorecardresearch
 

समीक्षा

हिंदी दिवस 2020 विशेष

हिंदी दिवस 2020: क्यों सूखती जा रही है हिंदी की सदानीरा?

14 सितंबर 2020

हिंदी की फसल को खाद पानी देने में भारत सरकार ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है किन्तु हिंदी की बेल अपने ही देश में सूखती नजर आती है. हिंदी दिवस पर एक विश्लेषण

अशोक चक्रधर के नए काव्य संकलन का कवर

गई दुनिया नई दुनिया: आपदा से जूझने का बल देती रचनाएं

06 सितंबर 2020

अशोक चक्रधर ने अपने नए कविता संग्रह 'गई दुनिया नई दुनिया' से कोरोना से जूझ रहे इनसानी जीवन में अलख जगाई है और इस व्‍याधि से मनुष्यता को बचाने के कुछ सूत्र दिए हैं.

कवि अशोक वाजपेयी और उनका काव्य संकलन

अप्रतिहत कवि-मन का निर्मल नैवेद्य अशोक वाजपेयी का 'कम से कम'

25 अगस्त 2020

कोरोना संक्रमण के इस दौर ने अशोक वाजपेयी की गतिविधि और यात्राओं पर विराम भले लगाया हो, उनकी कविताओं का करघा कभी मंद नहीं पड़ा

भाषा की खादी का कवर

पुस्तक समीक्षाः भाषा की खादी, हिंदी के रेशों का लेखा-जोखा

04 जून 2020

हिंदी अपने मूल चरित्र में अपने उत्स के हिसाब से एक खांटी भारतीय निष्पत्ति है, जो अपने आदिम स्वरूपों में बीते हज़ारों वर्षों के कालखण्ड में अपना अस्तित्व बनाती-बचाती और सजाती-संवारती आई है.

प्रतीकात्मक इमेज

जयंती विशेषः सावरकर ने किया था आंबेडकर के महाद सत्याग्रह का समर्थन

14 अप्रैल 2020

न्याय के लिए आंबेडकर की लड़ाई, जाति को सुदृढ़ करनेवाली नीतियों के पक्ष में, व्यवस्थित रूप से दरकिनार कर दी गई, जिसका परिणाम है वर्तमान भारतीय राष्ट्र, जो विश्वस्तर पर शक्तिशाली है, लेकिन आज भी जाति व्यवस्था में आकंठ डूबा है.

लमही पत्रिका का कवर

लमही का हमारा कथा समय-3: हिन्दी कहानी का ऐतिहासिक दस्तावेज

12 अप्रैल 2020

लमही का 'हमारा कथा समय 3' में 81 कहानीकारों के लेखन का मूल्यांकन किया गया है.

राहुल सांकृत्यायनः मेरी जीवन-यात्रा पुस्तक का कवर [सौजन्यः राजकमल प्रकाशन]

जयंती विशेषः नामवर सिंह की नजर में महापंडित की 'मेरी जीवन-यात्रा'

09 अप्रैल 2020

अपने जीवनकाल में 50 हजार से अधिक पन्ने लिखने वाले महापंडित राहुल सांकृत्यायन की जयंती पर जानिए उनकी जीवन-यात्रा के खास पहलुओं के बारे में

एक लड़की पानी पानी का कवर

पुस्तक समीक्षाः एक लड़की पानी पानी, नस्लों को चेताती पानी की यह कहानी

08 अप्रैल 2020

जितना मुश्किल पानी पर लकीर खींचना है उतना ही मुश्किल पानी विषय पर लिखना है पर लेखक रत्नेश्वर ने जल की उपादेयता को समझ कर 'पानी' जैसे वैश्विक मुद्दे पर संजीदगी से कलम उठाई है.

कथाकार निर्मल वर्मा [फोटो सौजन्यः वाणी प्रकाशन ]

निर्मल वर्मा की जयंती पर पढ़ें उनके उपन्यास रात का रिपोर्टर के अंश

03 अप्रैल 2020

निर्मल वर्मा की जयंती पर साहित्य आज तक पर पढ़िए उनके उपन्यास 'रात का रिपोर्टर' से एक अंश,

उपन्यास 'वाया मीडिया: एक रोमिंग कॉरस्पॉडेंट की डायरी' का कवर

पुस्तक समीक्षाः वाया मीडिया, पत्रकारिता में लड़कियों का खुरदरा यथार्थ

01 अप्रैल 2020

'वाया मीडिया: एक रोमिंग कॉरस्पॉडेंट की डायरी' में कवयित्री, पत्रकार व कथाकार गीताश्री ने लगभग डेढ़ दशक, 1990 से लेकर 2005 तक के कालखंड में पत्रकारिता में लड़कियों की कथा को समेटा है.

मनोहर श्याम जोशी [ फोटोः बंदीप सिंह ]

यादेंः मनोहर श्याम जोशी, जिन्हें 'वह' की जगह 'वो' तक बर्दाश्त न था

30 मार्च 2020

मनोहर श्याम जोशी की पुण्यतिथि पर साहित्य आजतक पर पढ़िए प्रभात रंजन की संस्मरणात्मक पुस्तक 'पालतू बोहेमियनः मनोहर श्याम जोशी एक याद' का एक अंशः