scorecardresearch
 

पुण्यतिथि विशेषः एक छोटी सी मुलाकात सहित सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की 3 कविताएं

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना तीसरे सप्तक के महत्वपूर्ण कवियों में से एक हैं. साहित्य आजतक पर पढ़िए उनकी प्रेम में डूबी ये कविताएं

 सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का रेखाचित्र सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का रेखाचित्र

उत्तर प्रदेश के बस्ती ज़िले में 15 सितंबर, 1927 को जन्मे सर्वेश्वर दयाल सक्सेना तीसरे सप्तक के महत्वपूर्ण कवियों में से एक हैं. वाराणसी तथा प्रयाग विश्वविद्यालय से शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने अध्यापन तथा पत्रकारिता को अपनाया. आकाशवाणी में सहायक निर्माता; दिनमान की संपादकीय टीम के सदस्य तथा पराग के संपादक रहे. पर असली पहचान उन्हें बतौर साहित्यकार ही मिली.

दिनमान पत्रिका में छपने वाला उनका स्तंभ ‘चरचे और चरखे’ खासा लोकप्रिय हुआ. 24 सितंबर, 1983 को उनका निधन हुआ. पर इससे पहले ‘काठ की घाटियाँ’, ‘बाँस का पुल’, ‘एक सूनी नाव’, ‘गर्म हवाएँ’, ‘कुआनो नदी’, ‘कविताएँ-1’, ‘कविताएँ-2’, ‘जंगल का दर्द’ और ‘खूँटियों पर टंगे लोग’ जैसे काव्य संग्रहों और ‘उड़े हुए रंग’ नामक उपन्यास से साहित्य जगत में अपनी छाप छोड़ चुके थे. ‘सोया हुआ जल’ और ‘पागल कुत्तों का मसीहा’ नामक लघु उपन्यास, ‘अंधेरे पर अंधेरा’ संग्रह में उनकी कहानियां संकलित हैं.

साल 1983 में कविता संग्रह ‘खूँटियों पर टंगे लोग’ के लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला. उनका लिखा ‘बकरी’ नामक नाटक खासा लोकप्रिय हुआ. बालोपयोगी साहित्य में ‘भौं-भौं-खों-खों’, ‘लाख की नाक’, ‘बतूता का जूता’ और ‘महंगू की टाई’ नामक कृतियां खूब चर्चित रहीं. ‘कुछ रंग कुछ गंध’ शीर्षक से आपका यात्रा-वृत्तांत भी प्रकाशित हुआ. इसके अलावा ‘शमशेर’ और ‘नेपाली कविताएं’ नामक कृतियों का उन्होंने संपादन भी किया.

साहित्य आजतक पर पढ़िए उनकी प्रेम में डूबी ये कविताएं.

1.
देह का संगीत


मुझे चूमो
और फूल बना दो
मुझे चूमो
और फल बना दो
मुझे चूमो
और बीज बना दो
मुझे चूमो
और वृक्ष बना दो
फिर मेरी छाँह में बैठ रोम-रोम जुड़ाओ

मुझे चूमो
हिमगिरि बना दो
मुझे चूमो
उद्गम सरोवर बना दो
मुझे चूमो
नदी बना दो
मुझे चूमो
सागर बना दो
फिर मेरे तट पर धूप में निर्वसन नहाओ.

मुझे चूमो
खुला आकाश बना दो
मुझे चूमो
जल भरा मेघ बना दो
मुझे चूमो
शीतल पवन बना दो
मुझे चूमो
दमकता सूर्य बना दो
फिर मेरे अनंत नील को इंद्रधनुष सा लपेट कर
मुझमें विलय हो जाओ.

2.
कितना अच्छा होता है


कितना अच्छा होता है
एक-दूसरे को बिना जाने
पास-पास होना
और उस संगीत को सुनना
जो धमनियों में बजता है,
उन रंगों में नहा जाना
जो बहुत गहरे चढ़ते-उतरते हैं.

शब्दों की खोज शुरू होते ही
हम एक-दूसरे को खोने लगते हैं
और उनके पकड़ में आते ही
एक-दूसरे के हाथों से
मछली की तरह फिसल जाते हैं.

हर जानकारी में बहुत गहरे
ऊब का एक पतला धागा छिपा होता है,
कुछ भी ठीक से जान लेना
खुद से दुश्मनी ठान लेना है.

कितना अच्छा होता है
एक-दूसरे के पास बैठ खुद को टटोलना,
और अपने ही भीतर
दूसरे को पा लेना.

3.
एक छोटी सी मुलाकात

कुछ देर और बैठो-
अभी तो रोशनी की सिलवटें हैं
हमारे बीच.

शब्दों के जलते कोयलों की आँच
अभी तो तेज़ होनी शुरू हुई है
उसकी दमक
आत्मा तक तराश देनेवाली
अपनी मुस्कान पर
मुझे देख लेने दो

मैं जानता हूँ
आँच और रोशनी से
किसी को रोका नहीं जा सकता
दीवारें खड़ी करनी होती हैं
ऐसी दीवार जो किसी का घर हो जाए.

कुछ देर और बैठो -
देखो पेड़ों की परछाइयाँ तक
अभी उनमें लय नहीं हुई हैं
और एक-एक पत्ती
अलग-अलग दीख रही है.
कुछ देर और बैठो-
अपनी मुस्कान की यह तेज़ धार
रगों को चीरती हुई
मेरी आत्मा तक पहुँच जाने दो
और उसकी एक ऐसी फाँक आने दो
जिसे मैं अपने एकांत में
शब्दों के इन जलते कोयलों पर
लाख की तरह पिघला-पिघलाकर
नाना आकृतियाँ बनाता रहूँ
और अपने सूनेपन को
तुमसे सजाता रहूँ.

कुछ देर और बैठो -
और एकटक मेरी ओर देखो
कितनी बर्फ मुझमें गिर रही है.
इस निचाट मैदान में
हवाएँ कितनी गुर्रा रही हैं
और हर परिचित कदमों की आहट
कितनी अपरिचित और हमलावर होती जा रही है.

कुछ देर और बैठो -
इतनी देर तो ज़रूर ही
कि जब तुम घर पहुँचकर
अपने कपड़े उतारो
तो एक परछाईं दीवार से सटी देख सको
और उसे पहचान भी सको.

कुछ देर और बैठो
अभी तो रोशनी की सिलवटें हैं
हमारे बीच.
उन्हें हट तो जाने दो -
शब्दों के इन जलते कोयलों पर
गिरने तो दो
समिधा की तरह
मेरी एकांत
समर्पित
खामोशी !

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें