scorecardresearch
 

कविता

कवि कैलाश वाजपेयी [फाइल फोटो]

जयंती विशेषः ये सदी और कैलाश वाजपेयी की कविताएं

11 नवंबर 2021

भारत या विश्व के स्तर पर इन दिनों जो घट रहा था, वह कैलाश वाजपेयी की कविताओं में छन कर आ रहा था.

डॉ सुमन सिंह द्वारा चार खंडों में संचयित और संपादित काव्य संग्रह के आवरण-चित्र

प्रेम कविताओं की वसुंधरा है चार खंडों का यह संचयन

26 अक्टूबर 2021

हर पीढ़ी प्रेम को अपनी नजर से निरखती परखती है. डॉ सुमन सिंह के संचयन में सर्वभाषा ट्रस्ट से चार खंडों में प्रकाशित काव्य-संकलन 'सदानीरा है प्यार', 'प्रेम तुम रहना', 'प्रेम गलिन' और 'खिल गया जवाकुसुम' प्रेम को अनूठे रूप में व्यक्त करता है

प्रतीकात्मक इमेज [ Gettyimages]

अंधियारों को लिख दे क़ैदी... राकेश तूफ़ान की चार ग़ज़लें

18 अक्टूबर 2021

भूखा है घर का मुस्तक़बिल, मुझको आबो-दाना कर दे...वैसे तो उत्तर प्रदेश एसटीएफ़ में डिप्टी एसपी के पद पर तैनात डॉ राकेश मिश्र खांटी पुलिस वाले हैं. वर्दी ही उनका मान और ईमान है, पर उनका मन साहित्य की गलियों में, शब्दों और कविताओं में, ग़ज़लों और नज़्मों में भी रमता है.