scorecardresearch
 

Chardham Yatra 2022: दो लाख से अधिक भक्तों ने किए दर्शन, 10 लाख रजिस्ट्रेशन... टूट रहे सब रिकॉर्ड

Chardham Yatra 2022: एक सप्ताह पहले शुरू हुई चारधाम की यात्रा कर अब तक 2 लाख से अधिक भक्त दर्शन कर चुके हैं. वहीं यात्रा के लिए 10 लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. श्रद्धालुओं की बढ़ रही संख्या को देखते हुए पुलिस सख्ती लागू करने की तैयारी में है.

X
दर्शन करने के लिए कतार में लगे श्रद्धालु. दर्शन करने के लिए कतार में लगे श्रद्धालु.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • केदारनाथ धाम में पहुंच रहे सबसे ज्यादा श्रद्धालु
  • भीड़ को देखते हुए सख्ती बरतने जा रही पुलिस
  • अब तक 19 से ज्यादा लोगों की चली गई जान

Chardham Yatra 2022: चारधाम यात्रा की शुरुआत में ही बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं. दर्शन के लिए आने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. केदारनाथ धाम में सबसे ज्यादा लोगों का आना जारी है. चारधाम यात्रा शुरू होने के पहले सप्ताह में ही करीब 2 लाख श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं. केदारनाथ में बढ़ रही भीड़ को देखकर पुलिस ने भी सख्ती बरतनी शुरू कर दी है. यात्रा के लिए अब तक 10 लाख से अधिक लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है.

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा शुरू हुए मात्र एक सप्ताह का समय ही हुआ है. अब तक 2 लाख के करीब लोग यहां दर्शन कर चुके हैं. इस एक सप्ताह में लगभग 10 लाख लोग यात्रा के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं. दूसरी तरफ बड़ी संख्या में यात्रियों के पहुंचने से व्यवस्थाएं फेल होती नजर आ रही हैं. हालांकि प्रशासन कई तरह के दावे कर रहा है.

यह भी पढ़ेंः चारधाम की यात्रा से पहले जान लें स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी, श्रद्धालुओं का फिट होना जरूरी

पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर की मानें तो उन्हें उम्मीद थी कि इस बार इसी तरह से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचेंगे. उसी तरह से प्रशासन ने भी व्यवस्था की हुई है. पर्यटन सचिव जावलकर ने कहा कि धाम के कपाट खुलते समय हमेशा की तरह श्रद्धालु अपेक्षा से ज्यादा पहुंचते हैं, लेकिन फिर बीतते समय के साथ-साथ यात्रियों की संख्या कम होने लगती है. यात्रियों को लेकर पर्यटन सचिव ने कहा कि यात्रा मार्ग से लेकर धामों तक व्यवस्था सुदृढ़ हो सके, इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः केदारनाथ: चार दिन में चार तीर्थ यात्रियों की मौत, उठे सवाल

चारधाम यात्रा पर अब मौत का आंकड़ा भी बढ़ रहा है. जानकारी के अनुसार, अब तक 23 लोगों की मौत हो चुकी है. चारों धामों में सबसे ज्यादा भीड़ केदारनाथ धाम में उमड़ रही है. हेलीपैड से ही मंदिर के लिए लाइन में लोग खड़े हो रहे हैं. पैदल रास्तों में भीड़ अधिक होने से कभी कोई भी अनहोनी की आशंका रहती है. इसके लिए अब पुलिस सख्ती करने जा रही है.

उत्तराखंड पुलिस के डीजीपी अशोक कुमार ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि सभी अपना रजिस्ट्रेशन जरूर करवाएं, क्योंकि बिना रजिस्ट्रेशन उनको दिक्कत हो सकती है. खासतौर पर केदारनाथ यात्रा के लिए. उन्होंने कहा कि केदारनाथ में भीड़ बढ़ने पर यात्रियों को सोनप्रयाग में ही रोक दिया जाएगा. पुलिस सोनप्रयाग में रजिस्ट्रेशन पर सख्ती दिखाएगी. बिना रजिस्ट्रेशन के किसी को भी ऊपर नहीं जाने दिया जाएगा.

यमुनोत्री और गंगोत्री धाम में भारी जाम, यात्री परेशान

यात्रियों की संख्या में भारी बढ़ोत्तरी को देखते हुए यमुनोत्री और गंगोत्री धाम में लगातार वाहनों का जाम लगने लगा है. इससे यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कोरोना के कारण पिछले वर्ष बंद पड़ी यात्रा में इस बार रिकॉर्ड यात्री आ रहे हैं. गंगोत्री धाम से यमुनोत्री धाम तक वाहनों की कतारें लग रही हैं. यमुनोत्री धाम पैदल मार्ग में भी जाम लगने से यात्रियों को  परेशानी हो रही है.

रात में अतिरिक्त समय तक खुला रहेगा मंदिर

केदारनाथ यात्रा पर आने वाले यात्रियों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है. यात्रियों को बाबा केदारनाथ के दर्शन में परेशानी न हो, इसके लिए रात में मंदिर खुलने का समय बढ़ा दिया गया है. अब सायंकालीन आरती के बाद भी रात 10 बजे तक बाबा के दर्शन भक्त कर सकते हैं. भक्तों की संख्या को कंट्रोल करने के लिए भक्तों को सोनप्रयाग, गौरीकुंड, गुप्तकाशी, फाटा, रुद्रप्रयाग आदि स्थानों पर रोका जा रहा है.

भीड़ को बैरियर लगाकर किया जा रहा कंट्रोल

केदारनाथ यात्रा इस बार रिकॉर्ड तोड़ रही है. यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखकर प्रशासन के सामने चुनौतियां खड़ी हो गईं, अब प्रशासन ने यात्रा को कुछ हद तक कंट्रोल किया है. रात के समय मंदिर खोलने का समय बढ़ा दिया गया है. पहले सायंकालीन आरती के बाद मंदिर को बंद किया जाता था, लेकिन अब रात 10 बजे तक मंदिर खुला रहेगा.

यात्रियों की भीड़ को कंट्रोल करने के लिए अब यात्रियों को सोनप्रयाग और गौरीकुंड के अलावा रुद्रप्रयाग, गुप्तकाशी आदि स्थानों पर रोका जा रहा है. जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि अधिक से अधिक भक्तों को बाबा केदार के दर्शन कराने के लिए सुविधा के अनुसार यात्रियों को केदारनाथ भेजा जा रहा है. जगह-जगह बैरियर लगाकर यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर रोका जा रहा है.

चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 23 मौतें

यमुनोत्री - 11
गंगोत्री - 3 
केदारनाथ - 6 
बद्रीनाथ - 3

चारधाम यात्रा पर पहुंचे पौने तीन लाख से अधिक श्रद्धालु

उत्तराखंड चारधाम पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या तीन लाख से अधिक पहुंच गई है. तीर्थयात्रियों ने चारधाम यात्रा के प्रति अति उत्साह देखा जा रहा है. पंजीकरण काउंटरों पर लंबी लाइनें हैं. आज शाम तक तक 288464 तीर्थयात्री चारधाम पहुंचे.
कुछ देर में यह संख्या तीन लाख से अधिक  हो जाएगी. तीर्थयात्रियों को हर स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया हों, इसके लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने एडवाइजरी जारी कर दी है.

बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मुताबिक, बदरीनाथ धाम के कपाट 8 मई को खुले. आज 11 मई की शाम तक 63337 तीर्थयात्री दर्शन कर चुके हैं. श्री केदारनाथ धाम में कपाट 6 को खुले थे. आज 11 मई की शाम तक 111538 तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए. बद्रीनाथ धाम में 4 बजे शाम तक 9365 तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए. श्री गंगोत्री धाम में तीन मई से 10 मई तक 60630 और यमुनोत्री धाम में 52959 तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए हैं.

चारधाम यात्रा 2022 के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखंड के स्वास्थ्य विभाग ने यात्रियों के स्वास्थ्य के लिए हेल्थ एडवाइजरी जारी की है. चारधाम यात्रा में तीर्थ स्थल उच्च हिमालयी क्षेत्र में हैं, जिनकी ऊंचाई समुद्र तल से 2700 मीटर से भी अधिक है. उन स्थानों में अत्यधिक ठंड, कम आद्रता, अत्यधिक अल्ट्रा वॉयलेट रेडिएशन, कम हवा का दबाव और कम ऑक्सीजन की मात्रा का प्रभाव हो सकता है. 

विभाग की ओर से कहा गया है कि बीमार व्यक्ति अपने डॉक्टर का परामर्श पर्चा और डॉक्टर का संपर्क नंबर, डॉक्टर द्वारा लिखी गईं दवाइयां अपने साथ रखें. अति वृद्ध एवं बीमार व्यक्तियों और पूर्व में कोविड से ग्रसित व्यक्तियों के लिए यात्रा पर न जाना या कुछ समय के लिए स्थगित करना उचित होगा. किसी तरह की समस्या होने पर 104 हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें