scorecardresearch
 

गाय के गोबर से CNG बनवाएंगे, जरूरत पड़ी तो भैंस का भी खरीद लेंगे, योगी के कैबिनेट मंत्री का बयान

Yogi Govt Minister Dharmpal singh: यूपी के बांदा में योगी सरकार के पशुधन और दुग्ध विकास मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि बांदा की गौशालाएं समाज के सहयोग से आर्थिक संपन्न बनाना चाहते हैं. इसके लिए सीएनजी बनाने वाली कंपनी को गाय का गोबर बेचा जाएगा.

X
गोबर से CNG बनाने की बात बताते हुए मंत्री धर्मपाल सिंह. गोबर से CNG बनाने की बात बताते हुए मंत्री धर्मपाल सिंह.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • योगी सरकार के पशुधन और दुग्ध विकास मंत्री हैं धर्मपाल सिंह
  • गाय के गोबर से CNG बनवाना हमारी प्राथमिकता: पशुधन मंत्री

योगी सरकार के पशुधन और दुग्ध विकास मंत्री धर्मपाल सिंह का कहना है कि गाय के गोबर से CNG बनवाना उनकी प्राथमिकता में है. जरूरत पड़ी तो भैंस का गोबर भी खरीद लेंगे. CNG बनाने वाली कंपनी से बात हुई है, जिसने 1.5 रुपये किलो गोबर खरीदने का ऑफर दिया है, लेकिन हमने 2 रुपये किलो देने की बात कही है. कंपनी के लोग विचार कर रहे हैं. उन्होंने गोबर से सीएनजी बनाकर डेमो भी सरकार को दिखा दिया है. अभी शुरुआत के लिए बरेली मंडल को मॉडल के तौर पर चुना गया है.

बांदा दौरे पर पहुंचे कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह ने आगे कहा, सरकार प्रदेश की गौशालाओं को समाज के सहयोग से आर्थिक संपन्न बनाना चाहती है. जब मंत्री से सवाल किया गया कि गोबर खरीदने के बयान को लेकर आप सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रहे हैं, तो उन्होंने हंसते हुए कहा "अच्छा विषय उठा दिया. ये तो मैं भूल ही गया था. देखिए जब तक गौशालाओं की आर्थिक स्थिति से संपन्न नहीं किया जाएगा, तब तक नहीं चलेगा. एक कंपनी से बात हुई है. ट्रोल की कोई बात नहीं. हम ईमानदारी से कार्य करेंगे. 

अभी हमने गैस बनाने वाली कंपनी को बरेली मंडल को मॉडल के रूप में दिया है. बाद में झांसी, गोरखपुर, चित्रकूट और अन्य मंडलों में काम करेंगे. इन मंडलों में गाय के गोबर से हमें CNG बनाना है. बांदा की गौशालाओं को समाज के सहयोग से आर्थिक सम्पन्न बनाना चाहते हैं. 

ज्ञानव्यापी मस्जिद के सर्वे  को लेकर ओवैसी के बयान पर मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा, देखिए कानून अपना काम कर रहा है. विधायिका से बड़ी न्यायपालिका होती है. इसमें कोई तुष्टिकरण नहीं होना चाहिए. बता दें कि एआईएमआईएम के सांसद अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि हम बाबरी मस्जिद पहले ही खो चुके हैं, हम दूसरी मस्जिद नहीं खोने देंगे.  
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें