scorecardresearch
 

BJP प्रवक्ता बोले- फांसी की सजा से भी रेप रुकने वाला नहीं

अश्वनी उपाध्याय का कहना है कि सरकार को तुरंत इसको लेकर कानून बनाना चाहिए जिसमें ब्रेन मैपिंग, नार्को टेस्ट और पॉलीग्राफ टेस्ट को बलात्कार मामले को लेकर जरूरी बनाने की बात कही है.

बीजेपी के प्रवक्ता अश्वनी उपाध्याय बीजेपी के प्रवक्ता अश्वनी उपाध्याय

  • जांच प्रक्रिया में ब्रेन मैपिंग, नार्को टेस्ट और पॉलीग्राफ टेस्ट हो शामिल
  • कम से कम 25 साल पुराने कानूनों को रिव्यू किया जाए-अश्वनी उपाध्याय

हैदराबाद से लेकर उन्नाव को लेकर लोगों में जबरदस्त आक्रोश है तो वहीं राजनीति भी जारी है. तो दूसरी तरफ दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता अश्वनी उपाध्याय ने अपनी ही सरकार से फिर से कड़ा कानून बनाने की बात कही है. अश्वनी उपाध्याय ने कहा, 'बलात्कार की घटना यहीं रुकने वाली नहीं है. भले ही इसको लेकर एक या दो लोगों को फांसी की सजा हो भी जाए, लेकिन देश में बलात्कार की घटना रुकने वाली नहीं है.

बने सख्त कानून

अश्वनी उपाध्याय का कहना है कि अभी सही समय है. सरकार को तुरंत इसको लेकर कानून बनाना चाहिए जिसमें ब्रेन मैपिंग, नार्को टेस्ट और पॉलीग्राफ टेस्ट को बलात्कार मामले को लेकर जरूरी बनाने की बात कही है. उनका कहना है कई देशों में इसको कानून बनाया गया है लेकिन अभी तक हमारे देश में ये जरूरी नहीं है.

इन टेस्ट के जरिए बेकसूर को फंसाया नहीं जा सकता है वहीं अपराधी भी इससे बच नहीं सकते हैं. साथ ही इससे रेप मामले में जांच मे तेजी आएगी और जल्द ही उसको सजा भी मिल सकेगी.

नए कानून बनाने की मांग

साथ ही अश्वनी उपाध्याय ने दया याचिका को भी खत्म करने की मांग की भी मांग की है. उन्होंने कहा कि जब लोवर कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट इस मामले में सजा देती है तो फिर दया याचिका का मतलब क्या है इसलिए इसको तुरंत खत्म कर देना चाहिए. वैसे उपाध्याय कई बार कह चुके हैं कि कम से कम 25 साल पुराने कानूनों को रिव्यू किया जाए और अंग्रेजों के समय में बनाए गए कानूनों को तो तत्काल फेंकने की जरूरत है.

देश में तीन करोड़ मुकदमे पेंडिंग

बीजेपी नेता अश्वनी उपाध्याय ये बात कहते रहे हैं. अंग्रजों के जमाने के कानूनों के कारण वर्तमान समय में देश में तीन करोड़ मुकदमे पेंडिंग हैं तो अगर एक परिवार में छह लोगों का परिवार मानते हैं तो 21 करोड़ लोग तनाव में हैं. उनका मुकदमा सही है या गलत ये अलग बात है. इसलिए जब तक भारत में टोटल जुडीशियल रिफॉर्म नहीं होगा तब तक वो रामराज्य नहीं आ सकता, जिसकी हम कल्पना करते हैं. उन्होंने कहा कि जब तक ब्रेन मैपिंग, नार्को टेस्ट और पॉलीग्राफ टेस्ट को कानून के जरिए जरूरी नहीं बनाया जाए तब तक इस तरह के मामले रूक नहीं सकते.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें