scorecardresearch
 

'सरकार बचाने के लिए हम सड़कों पर खून बहा सकते हैं,' बोले गहलोत के करीबी मंत्री खाचरियावास

जब कांग्रेस के विधायकों ने रविवार को बगावत की तो उनका नेतृत्व करने वाले नेताओं में प्रताप सिंह खाचरियावास का नाम सबसे आगे था. गहलोत खेमे के विश्वसनीय नेताओं ने कांग्रेस विधायकों को फोन कर धारीवाल के आवास पर एकत्रित किया था. उसके बाद ही विधायकों के इस्तीफे देने पर सहमति बनी थी और बस से सभी विधायक स्पीकर के आवास पर पहुंचे थे.

X
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी और मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बयान दिया है.
4:53
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी और मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बयान दिया है.

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी मंत्री लगातार कांग्रेस नेतृत्व को चेलैंज कर रहे हैं. साथ ही हाईकमान की मुश्किलें भी बढ़ा रहे हैं. अब खुलकर बयानबाजी के जरिए धमकियां भी दी जाने लगी हैं. ताजा बयान गहलोत के करीबी और कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दिया है. उन्होंने कहा कि ED, CBI राजस्थान आ रही है. कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सड़कों पर लड़ना होगा. सरकार को बचाने के लिए कांग्रेस का हर विधायक और कार्यकर्ता एकजुट है. हम सड़कों पर खून बहा सकते हैं.

बता दें कि जब कांग्रेस के विधायकों ने रविवार को बगावत की तो उनका नेतृत्व करने वाले नेताओं में प्रताप सिंह खाचरियावास का नाम सबसे आगे था. गहलोत खेमे के विश्वसनीय नेताओं ने कांग्रेस विधायकों को फोन कर धारीवाल के आवास पर एकत्रित किया था. उसके बाद ही विधायकों के इस्तीफे देने पर सहमति बनी थी और बस से सभी विधायक स्पीकर के आवास पर पहुंचे थे. बागी विधायकों की बस के पीछे शांतिलाल धारीवाल कार लेकर पहुंचे थे. इन बागी विधायकों के लिए धारीवाल के घर नाश्ता और स्पीकर के घर डिनर का इंतजाम किया गया था.

बागी विधायक स्पीकर के घर इस्तीफे लेकर पहुंचे थे

गहलोत खेमे के बागी विधायकों ने पर्यवेक्षकों की बात को भी अनसुना कर दिया था. बताते हैं कि जब दोनों पर्यवेक्षक सीएम आवास पर विधायक दल की बैठक लेने पहुंचे थे तो उन्हें विधायकों के इस्तीफे के बारे में जानकारी मिली. इस पर पीसीसी चीफ गोविंद डोटेसरा को धारीवाल के घर भेजा गया और बात करने की पहल की गई, लेकिन बागी विधायकों ने किसी की नहीं सुनी और इस्तीफे लेकर सीधे स्पीकर के पास पहुंच गए.

पर्यवेक्षकों को दिल्ली तलब किया गया

जबकि पर्यवेक्षक अजय माकन का कहना था कि सीएम फेस का नाम फाइनल ही नहीं हुआ है. विधायकों के मशविरे के बाद ही कोई नाम फाइनल होगा. बिना बात और चर्चा किए विधायकों का इस तरह व्यवहार करना गलत है. बताया जा रहा है कि पार्टी ने भी इसे अनुशासनहीनता माना है. इसके साथ ही दोनों पर्यवेक्षकों को पहले रात में ही विधायकों से बात करने का निर्देश दिया था. मगर, विधायकों के वापस घर चले जाने से हाईकमान ने पर्यवेक्षकों को सोमवार को दिल्ली तलब कर लिया.

गहलोत ने भी हाथ खड़े कर दिए थे

बताते हैं कि जब विधायकों के बागी होने की खबर कांग्रेस हाईकमान को मिली तो पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को फोन किया और घटनाक्रम के बारे में जानकारी ली. बताते हैं कि गहलोत ने हाथ खड़े कर दिए और कह दिया कि मेरे बस में कुछ नहीं हैं. ये बात हाईकमान को ठीक नहीं लगी और इसका साइड इफेक्ट आने वाले दिनों में देखने को मिल सकता है.

गहलोत समर्थकों ने सीनियर लीडरशिप की परेशानी बढ़ाई

यही वजह है कि पार्टी के सीनियर नेता भी अब अध्यक्ष पद के चुनाव में गहलोत के समर्थन में नहीं देखे जा रहे हैं. कांग्रेस के सीनियर नेताओं का कहना है कि 'वह (गहलोत) कांग्रेस अध्यक्ष की दौड़ से बाहर हैं. अन्य नेता भी बाहर होंगे, जो 30 सितंबर से पहले नामांकन दाखिल करेंगे. अब मुकुल वासनिक, मल्लिकार्जुन खड़गे, दिग्विजय सिंह, केसी वेणुगोपाल अध्यक्ष पद की रेस में चल रहे हैं. सीडब्ल्यूसी सदस्य और पार्टी के एक नेता ने ये भी कहा कि गहलोत ने जिस तरह का व्यवहार किया वह पार्टी नेतृत्व के साथ अच्छा नहीं रहा. सीनियर लीडरशिप की परेशानी बढ़ाई है.

बागी विधायकों ने तीन शर्तें रखी हैं हाईकमान के सामने

गहलोत के करीबियों ने दावा किया कि 90 से ज्यादा विधायक स्पीकर जोशी के घर गए, लेकिन स्पष्ट संख्या की पुष्टि नहीं की जा सकी. 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 108 विधायक हैं. गहलोत के करीबी विधायकों ने हाईकमान के सामने तीन शर्तें रखी हैं. पहली- अगले सीएम पर फैसला कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव बाद लिया जाए. दूसरा- नए सीएम को चुनने में गहलोत की पसंद को प्राथमिकता दी जाए. तीसरा- 2020 में बगावत करने वाले पायलट गुट के समर्थकों को सीएम फेस के लिए नहीं चुना जाना चाहिए.

सोनिया गांधी ने मांगी रिपोर्ट, हम कल तक सौंप देंगे: अजय माकन

सोनिया गांधी के साथ बैठक के बाद राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन बाहर निकल आए हैं. राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर अजय माकन ने कहा कि पार्टी अध्यक्षा सोनिया गांधी ने एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है, जो आज रात या कल तक सौंप देंगे. मैंने और खड़गेजी ने सोनिया गांधी को सीएलपी बैठक की जानकारी दी, जिसके लिए हम राजस्थान गए थे. माकन ने कहा कि हमें हर विधायक से बात करनी थी और फिर वह रिपोर्ट सोनिया गांधी को देनी थी. विधायकों ने 3 शर्तें लगाई थी, जिसका हमने विरोध किया. हमने कहा कि यह कैसे संभव हो सकता है, क्योंकि यह हितों का टकराव है. माकन ने कहा कि कोई प्रस्ताव अगर पास किया जाता है तो उस पर शर्तें नहीं लगाई जातीं. कांग्रेस में यह परंपरा नहीं है. प्रथम दृष्टया यदि विधायक की बैठक उसी समय बुलाई जाती है जब सीएलपी बुलाई गई है, तो यह अनुशासनहीनता के दायरे में आती है.

2018 में तीसरी बार सीएम बने गहलोत

गौरतलब है कि दिसंबर 2018 में कांग्रेस के विधानसभा चुनाव जीतने के तुरंत बाद गहलोत और पायलट मुख्यमंत्री पद के लिए आमने-सामने थे. हालांकि, बाद में हाईकमान के निर्देश पर गहलोत को विधायक दल का चुना गया और गहलोत तीसरी बार मुख्यमंत्री बने. जबकि पायलट को डिप्टी बनाया गया. उसके बाद जुलाई 2020 में पायलट ने 18 पार्टी विधायकों के साथ गहलोत के खिलाफ बगावत कर दी थी.

प्रताप सिंह खाचरियावास का पूरा बयान...

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक,  'ED, CBI की टीमें राजस्थान की सड़कों पर उतरने वाली हैं. हमको ED, CBI और IT के नोटिस आते ही रहे हैं. उनका भी जवाब दे देंगे. परिवार के नोटिस का भी जवाब दे देंगे. नोटिस का कोई टेंशन है क्या? लेकिन अब केंद्रीय जांच एजेंसियों के नोटिस आने शुरू हो गए हैं. आईटी की टीम ने मंत्री राजेंद्र यादव के घर छापा मारा है. कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सड़कों पर लड़ना पड़ेगा. सड़कों पर बराबर का मुकाबला करेंगे. बीजेपी लाठी चलाएगी तो लाठी का जवाब देंगे. बीजेपी गोली चलाएगी तो गोली का जवाब देंगे. बीजेपी जुल्म करेगी तो जुल्म का जवाब देंगे. बीजेपी एजेंसी भेजेगी तो एजेंसी का जवाब देंगे. लेकिन, राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को बचाने के लिए एक-एक विधायक और कार्यकर्ता कल भी एक था, आज भी एक है. सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी के आह्वान पर खून बहा देंगे सड़कों पर, जब वो आवाज देंगे. लेकिन, लोकतंत्र है. अचानक विधायकों को पता चलता है कि मीटिंग हो गई और कोई अफवाह फैलती है तो क्लीयर कर दीजिए. परिवार का मामला है. बात क्लीयर हो जाएगी. लेकिन बीजेपी जो साजिश कर रही है सरकार गिराने की, उस षड्यंत्र से बचाने के लिए कोई बात करें तो वो बात सुनी जानी चाहिए.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें