scorecardresearch
 

कोच्चि: मॉर्निंग वॉक के लिए ACP ब्लॉक करवा देते थे रोड, कारण बताओ नोटिस जारी

कोच्चि के ट्रैफिक पुलिस के आलाधिकारी सुबह टहलने के रोड ब्लॉक कर देते थे, जिससे लोगों को बहुत समस्या होती थी. साथ ही लोगों को रॉन्ग साइड से गाड़ी लेकर जाना पड़ता था. अब इस मामले में विभाग से नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा गया है.

X
हर दिन मॉर्निंग वॉक के दौरान ब्लॉक करवा देते थे रोड हर दिन मॉर्निंग वॉक के दौरान ब्लॉक करवा देते थे रोड
स्टोरी हाइलाइट्स
  • केरल के कोच्चि का है मामला
  • ट्रैफिक पुलिस में तैनात है एसीपी वेस्ट

दिल्ली के बाद अब केरल के कोच्चि में अफसरशाही के एक और वाकया सामने आया है. यहां ट्रैफिक पुलिस में तैनात एसीपी विनोद पिल्लई पर आरोप है कि वह वॉर्निंग वॉक के लिए एक सड़क को ब्लॉक करवा देते हैं. इससे लोगों को समस्या का समाना करना पड़ता है. हालांकि इस मामले के तूल पकड़ते ही उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है.

स्थानीय लोगों का आरोप है कि जब वह सुबह क्वींस वॉकवे आते हैं तो रास्ते को ब्लॉक कर दिया जाता है, जिससे गाड़ियों का आवागमन रुक जाता है. उनके खिलाफ यह भी शिकायत है कि वह रविवार को सुबह 6-7 बजे से बच्चों को साइकल चलाने और स्केटिंग की प्रैक्टिस करने के लिए भी सड़क ब्लॉक करवा देते हैं.

सड़क के बीच में स्टॉपर रखकर डायवर्ट कर दिया जाता था रूट

सैर के दौरान डायवर्ट रहता था रूट

मामले से जुड़ी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. इस तस्वीरों में देखा जा सकता है कि सुबह के समय सड़क को ब्लॉक कर दिया गया है. ट्रैफिक को डायवर्ट किया गया है. स्कूली बच्चे सड़क की दूसरी तरफ से बसों में चढ़ रहे हैं.

एक फोटो में देखा जा सकता है कि सड़क के बीच में एक स्टॉपर लगाया गया है, जबकि दूसरी तस्वीर में माता-पिता सड़क की दूसरी तरफ बच्चों को स्कूल बस में चढ़ा रहे हैं.

स्कूली बच्चों और आम लोगों को हो रही थी दिक्कत

आईएएस दंपती को अफसरशाही पड़ी थी भारी

पिछले महीने अफसरशाही का एक मामला दिल्ली में सामने आया है. दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में आईएएस पति-पत्नी कुत्ता घुमाने आते थे. इस दौरान स्टेडिय में ट्रेनिंग रोक दी जाती थी. इस बात का एक कोच ने विरोध किया था.

कोच का कहना था कि पहले वे रात 8 या 8.30 बजे तक ट्रेनिंग करते थे, लेकिन अब उनको 7 बजे ग्राउंड खाली करने को कह दिया जाता है, ताकि IAS अफसर वहां अपने कुत्ते संग टहल सकें.

कोच ने कहा कि इससे उनकी ट्रेनिंग और प्रैक्टिस रूटीन में दिक्कत पैदा हो रही है. बहरहाल मामला जब हाईकमान तक गया तो 26 मई को दोनों का ट्रांसफर कर दिया गया. IAS संजीव खिरवार को लद्दाख तो उनकी पत्नी रिंकू धुग्गा को अरुणाचल प्रदेश भेज दिया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें