scorecardresearch
 

India Today Conclave East 2022: 'मेरे लिए काली मांस और मदिरा स्वीकार करने वालीं' पोस्टर विवाद पर बोलीं महुआ मोइत्रा

India Today Conclave East 2022 के दूसरे महुआ मोइत्रा ने डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' और फैक्ट चेकर जुबैर की गिरफ्तारी जैसे पर मुद्दों पर बात की. इस दौरान उन्होंने कहा कि उनके लिए काली का मांस और मदिरा स्वीकार करने वाली देवी हैं.

X
महुआ मोइत्रा
महुआ मोइत्रा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' के पोस्टर को लेकर जारी है विवाद
  • यूपी, दिल्ली और मुंबई में FIR

डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' के पोस्टर को लेकर विवाद के बीच टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है.  India Today Conclave East 2022 के दूसरे दिन महुआ मोइत्रा ने डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' के पोस्टर पर कहा, ''काली के कई रूप हैं. मेरे लिए काली का मतलब मांस और शराब स्वीकार करने वाली देवी है. लोगों की अलग अलग राय होती है, मुझे इसे लेकर कोई परेशानी नहीं है.''

महुआ मोइत्रा ने कहा, आप अपने भगवान को कैसे देखते हैं. अगर आप भूटान और सिक्किम जाओ तो वहां सुबह पूजा में भगवान को व्हिस्की चढ़ाई जाती है, लेकिन यही आप उत्तर प्रदेश में किसी को प्रसाद में दे दो तो उसकी भावना आहत हो सकती है. मेरे लिए देवी काली एक मांस खाने वाली और शराब पीने वाली देवी के रूप में है. देवी काली के कई रूप हैं.

'मुझे मेरी काली को मेरे हिसाब से देखने की आजादी'

उन्होंने कहा, अगर आप तारापीठ जाएं तो काली के मंदिर के पास साधू आपको स्मोकिंग करते हुए मिलेंगे. और लोग ऐसी काली की पूजा भी करते हैं. हिंदू होते हुए भी मुझे मेरी काली को मेरे हिसाब से देखने की आजादी है और लोगों को भी होनी चाहिए. आपको अपने भगवान को अपने हिसाब से पूजने की आजादी होनी चाहिए. पूजा का अधिकार पर्सनल स्पेस में रहना चाहिए. जब तक मैं आपके क्षेत्र में हस्तक्षेप नहीं कर रही हूं. मुझे नहीं लगता कि इसकी आजादी होनी चाहिए. मुझे काली के इस रूप से कोई परेशानी नहीं है.

'काली के पोस्टर पर विवाद जारी'

दरअसल, डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' का एक पोस्टर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है. इसमें मां काली को सिगरेट पीते दिखाया गया था. इसके साथ ही उनके एक हाथ में एलजीबीटी समुदाय का सतरंगा झंडा भी नजर आ रहा है. ये डॉक्यूमेंट्री फिल्म फिल्ममेकर लीना मणिमेकलई की है.

मां काली के रूप का ऐसा पोस्टर सामने आने के बाद लोगों ने इसका जमकर विरोध किया और पोस्टर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया. कई लोगों ने फिल्ममेकर लीना मणिमेकलई को अरेस्ट करने की मांग भी की. ये पूरा मामला अब पुलिस तक पहुंच गया है. दिल्ली में, यूपी में और मुंबई में इस फिल्म के पोस्टर को धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाला बताकर एफआईआर दर्ज कराई गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें