scorecardresearch
 

'हिटलर की राह चलेगा तो, हिटलर की मौत मरेगा', PM मोदी पर कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय की विवादित टिप्पणी

कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय ने अग्निपथ स्कीम का विरोध करने के दौरान जर्मनी के तानाशाह हिटलर का नाम लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर विवादित बयान दिया है. सुबोध कांत सहाय ने कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम मोदी हिटलर की राह चल रहे हैं और वे हिटलर की मौत मरेंगे.

X
सुबोधकांत सहाय, नेता, कांग्रेस (फोटो- फेसबुक) सुबोधकांत सहाय, नेता, कांग्रेस (फोटो- फेसबुक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुबोधकांत सहाय की विवादित टिप्पणी
  • 'हिटलर की राह चलेगा, तो हिटलर की मौत मरेगा'

कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय ने जर्मनी के तानाशाह हिटलर का नाम लेकर पीएम मोदी पर विवादित बयान दिया है. सुबोध कांत सहाय ने अग्निपथ स्कीम के विरोध के दौरान कहा कि पीएम मोदी हिटलर की राह चल रहे हैं और वे हिटलर की मौत मरेंगे. उन्होंने कहा, "हिटलर ने भी ऐसा ही एक संस्था बनाया था उसका नाम था खाकी, सेना के बीच से उसने ये संस्था बनाया था, मोदी हिटलर की राह चलेगा तो हिटलर की मौत मरेगा. ये याद रख लो मोदी."

इससे पहले सुबोधकांत सहाय ने कहा कि भाजपा ने हमारी दो-दो तीन तीन चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम किया है. मोदी जो मदारी के रूप में आकर इस देश में पूरी तरह से तानाशाही के रूप में आ गया है. मुझे तो लगता है कि हिटलर का सारा इतिहास इसने पार कर लिया है. 

हालांकि सुबोधकांत सहाय ने तुरंत अपने बयान पर सफाई दी. उन्होंने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री है तो उन्हीं की नीतियों पर सवाल पूछा जाएगा. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हीं की नीतियों की वजह से देश में आज आग लगी है. सबसे दुर्भाग्यपूर्ण ये है कि सेना के तीनों चीफ को नरेंद्र मोदी जी की अग्निपथ योजना को डिफेंड करना पड़ रहा है. लेकिन सरकार सेना के चीफ को ढाल बना रही है. हिटलर वाले बयान पर सुबोधकांत सहाय ने कहा कि 'हिटलर ने खाकी वाला संगठन बनाया था और वे उसके नक्शे पर चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि ये कहावत है और कहावत ये है कि जो हिटलर की चाल चलेगा...'

कांग्रेस ने बयान से किया किनारा

वहीं कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने इस बयान से कांग्रेस को अलग किया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी मोदी सरकार की तानाशाही विचारधारा और जनविरोधी नीतियों के खिलाफ निरंतर लड़ती रहेगी. परंतु प्रधानमंत्री के प्रति किसी भी अमर्यादित टिप्पणी से हम सहमत नहीं हैं. हमारा संघर्ष गांधीवादी सिद्धांतों और तरीक़े से ही जारी रहेगा. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें