scorecardresearch
 

आचार्य धर्मेंद्र बोले-जहां-जहां दाग हैं, साफ करेंगे...काशी-मथुरा बाकी है

बाबरी विध्वंस केस में आरोपी रहे आचार्य धर्मेंद्र ने कहा कि सत्य की जीत हुई है. इस पर मैं प्रणाम करूंगा. हम सब मिलकर जितने भी पुराने दाग हैं, उनको धोएंगे. यह तो पहली झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है.

बाबरी विध्वंस मामले में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है. इस फैसले के बाद केस में आरोपी रहे आचार्य धर्मेंद्र ने कहा कि सत्य की जीत हुई है. इस पर मैं प्रणाम करूंगा. हम सब मिलकर जितने भी पुराने दाग हैं, उनको धोएंगे. यह तो पहली झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है.

आचार्य धर्मेंद्र ने कहा कि जहां-जहां भी दाग है, उनको धोकर साफ करेंगे. आचार्य धर्मेंद्र ने कहा कि जहां-जहां भी दाग है, उनको धोकर साफ करेंगे. बाबरी विध्वंस मामले में आचार्य धर्मेंद्र के अलावा  लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह प्रकाश शर्मा आरोपी थे. 

इसके अलावा विजय बहादुर सिंह, संतोष दुबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण शरण सिंह, कमलेश त्रिपाठी, रामचंद्र खत्री, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, सुधीर कुमार कक्कड़ और धर्मेंद्र सिंह गुर्जर आरोपी थे, जिन्हें कोर्ट ने बरी कर दिया है.

गौरतलब है कि अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल बाद अपना फैसला सुना दिया है. अदालत ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया है। अदालत ने ये भी कहा कि मस्जिद का विध्वंस सुनियोजित नहीं था. अदालत ने कहा कि किसी भी आरोपी के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिले।

अदालत ने सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है. मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह और सतीश प्रधान को छोड़कर सभी 26 अभियुक्त फैसले के वक्त अदालत में मौजूद थे. जज ने कहा कि आरोपियों के ऑडियो में आवाज साफ नहीं थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें