scorecardresearch
 

गुजरात: कोरोना काल में गरबा का मजा न हो कम, बचाव के लिए पीपीई किट में बनाई ट्रेडिशनल ड्रेस

कोरोना वायरस से बचाव के लिए अस्पताल में डॉक्टर्स के जरिए पीपीई कीट का इस्तेमाल किया जाता है. कई बार आम लोगों को भी पीपीई किट पहने हुए देखा गया है.

कोविड प्रोटेक्टिव गरबा ड्रेस कोविड प्रोटेक्टिव गरबा ड्रेस
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लगातार बढ़ रहा कोरोना वायरस का कहर
  • गरबा के लिए पीपीई किट से बनाया ड्रेस
  • गुजरात में छात्रों ने बनाया ड्रेस

कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना वायरस के संकट के कारण कई त्योहारों का मजा भी किरकिरा हो रहा है. कोरोना के कारण इस बार नवरात्रि में गुजरात में गरबा भी नहीं खेला जाएगा. हालांकि इसके बावजूद सूरत की एक संस्था के छात्रों ने कोविड प्रोटेक्टिव गरबा ड्रेस जरूर बना दी है.

कोरोना वायरस से बचाव के लिए अस्पताल में डॉक्टर्स के जरिए पीपीई कीट का इस्तेमाल किया जाता है. कई बार आम लोगों को भी पीपीई किट पहने हुए देखा गया है. वहीं अब पीपीई किट से ही मिलती एक ड्रेस सूरत की संस्था के छात्रों ने बनाई है, जो खास तौर पर गरबा खेलने के लिए डिजाइन की गई है.

आईडीटी इंडिया के प्रथम वर्ष के छात्रों ने हाथ से पेंटिंग और दर्पण के सहारे ड्रेस में पॉलिप्रोपिलीन फैब्रिक का इस्तेमाल कर ड्रेस को गरबा की डिजाइन देकर आकर्षक बनाने का प्रयास किया है. लेयरिंग भी इस तरह से की गई है कि लोग गरबा खेलते समय सोशल डिस्टेसिंग बनाए रख सकें. 

देखें: आजतक LIVE TV

इसके अलावा मास्क और डांडिया स्टिक का डिस्पोजेबल कवर भी बनाया गया है. वहीं ड्रेप दुपट्टा भी डिजाइन किया गया है, जिसे पीपीई फैब्रिक से भी बनाया जा सकता है. फिलहाल छात्रों ने गरबा आउटफिट्स के 2 पूर्ण जोड़े तैयार किए. इन कोविड गरबा आउटफिट्स को सिविल हॉस्पिटल के कोविड केयर कार्यकर्ताओं को उपहार स्वरूप दिया जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें