scorecardresearch
 

अर्थात

अर्थात‍्

अर्थातः कारवां गुजर गया...

22 नवंबर 2020

दुनिया इस मुगालते में थी कि ग्लोबलाइजेशन खत्म हो रहा है, तभी चीन विश्व व्यापार व्यवस्था का तख्ता पलट कर कमांडर की कुर्सी पर जा बैठा.

अर्थात‍्

अर्थातः जागत नींद न कीजै

16 नवंबर 2020

निष्पक्ष चिंतक इस बात से परेशान हैं कि सरकारों और लोकतांत्रिक संस्थाओं को इस विभाजक माहौल में ईमानदार व भरोसमंद कैसे रखा जाए?

अर्थात‍्

अर्थातः ध्यान किधर है?

08 नवंबर 2020

1950 से अब तक आठ असफल कोशिशों के बाद इसी जून में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने कानूनी नागरिक अधिकारों की समग्र संहिता को मंजूरी दे दी.

अर्थात‍्

अर्थातः एक अचंभा देखा भाई

30 अक्टूबर 2020

सरकारें सीधे सवालों से डरती हैं इसलिए जवाब इतना पेचीदा कर दिए जाते हैं कि पूछने वाला खुद को नासमझ मान ले.

अर्थातः सबसे बड़ी सेल

अर्थातः सबसे बड़ी सेल

23 अक्टूबर 2020

दिल थाम के बैठिए. भारत सरकार की महासेल की उलटी गिनती शुरू होने वाली है. संपत्ति बेचकर राजस्व जुटाने के अलावा सरकार के पास कोई रास्ता नहीं बचा है

अर्थातः बूझो तो जाने

अर्थात‍ः बूझो तो जानें !

17 अक्टूबर 2020

दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं में पैकेज का असर दिख रहा है लेकिन भारत में ऐसा क्यों नहीं हो रहा है?

अर्थातः डूबने से पहले

अर्थातः डूबने से पहले

10 अक्टूबर 2020

जीएसटी आपदा में अवसर है. इसका चोला बदलकर ही इसे डूबने से बचाया जा सकता है

अर्थातः राहत ऐसी होती है

अर्थात‍ः राहत ऐसी होती है !

03 अक्टूबर 2020

वास्तवि‍कता से कोसों दूर खड़ी सरकार बेकारी और महामंदी से परेशान लोगों को कर्ज लेने की राह दिखा रही है या कि भूखों को विटामिन खाने की सलाह दी जा रही है. सबको मालूम है, मांग केवल खपत से आएगी और हर महीने जब बेकारों की तादाद बढ़ रही हो तो कारोबार में नया निवेश कौन करेगा.

अर्थातः आबादी का अर्ध सत्य

अर्थातः आबादी का अर्ध सत्य

26 सितंबर 2020

आबादी बढ़ने का स्यापा कहीं वही लोग तो नहीं कर रहे जो इसे सबसे बड़ी ताकत या संभावनाओं का खजाना बता रहे थे

अर्थातः मगर हकीकत है

अर्थातः ...न मानो मगर हकीकत है

19 सितंबर 2020

90 फीसद किसान खेती के बाहर अतिरिक्त दैनिक कमाई पर निर्भर हैं. ग्रामीण आय में खेती का हिस्सा केवल 39 फीसद है जबकि 60 फीसद आय गैर कृषि कामों से आती है.

अर्थात

अर्थातः ईमानदार टैक्सपेयर की डायरी

12 सितंबर 2020

टैक्स के बोझ से लदा आम करदाता भारत का नया निम्न वर्ग है