scorecardresearch
 

रेस्तरां, पार्टियों में खड़े हो सकते हैं तो राष्ट्रगान के लिए क्यों नहीं- अनुपम खेर

अनुपम खेर ने राष्ट्रगान विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है. उन्होंने कहा कि लोग सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए 52 सेकंड तक खड़े क्यों नहीं हो सकते.

X
अनुपम खेर अनुपम खेर

हाल ही में FTII चेयरमैन बने बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर ने राष्ट्रगान विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है. उन्होंने कहा कि लोग सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए महज 52 सेकंड तक खड़े क्यों नहीं हो सकते.

वह हर मुद्दे पर विचारों को खुलकर लोगों के सामने रखने के लिए जाने जाते हैं. इस बहुचर्चित विवाद पर उन्होंने कहा, अगर लोग रेस्तरां में इंतजार कर सकते हैं, सिनेमाघरों में टिकट के लिए लंबी लाइन में खड़े हो सकते हैं, पार्टी में खड़े हो सकते हैं. तो फिर वे सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए महज 52 सेकंड तक खड़े क्यों नहीं हो सकते.

FTII में दो दिन गुजारने के बाद खाली हाथ लौटे अभिनेता अनुपम खेर

दरअसल, अनुपम खेर दिवंगत बीजेपी नेता प्रमोद महाजन मेमोरियल अवॉर्ड प्राप्त लेने के लिए आए थे. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर नेउन्हें यह पुरस्कार दिया. इस इवेंट में उन्होंने अपने भाषण के दौरान सिनेमाघरों के अंदर राष्ट्रगान को अनिवार्य रूप से बजाए जाने के विचार का विरोध करने वालों की आलोचना की. उन्होंने कहा, कुछ लोगों का मानना है कि राष्ट्रगान के समय खड़े होना जरूरी नहीं होना चाहिए. लेकिन मेरे लिए राष्ट्रगान के वक्त खड़े होना उस व्यक्ति की परवरिश को दिखाता है. खेर ने बताया, हम जिस तरह से अपने पिता या शिक्षक के सम्मान में खड़े होते हैं, ठीक उसी तरह राष्ट्रगान के लिए खड़ा होना अपने देश के प्रति सम्मान को दर्शाता है.

पिछले कुछ दिनों से बॉलीवुड गलियारों में राष्ट्रगान विवाद पर कई सेलेब्स ने अपनी राय रखी. सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान के मुद्दे पर सोनू निगम ने कहा, यह हमारे लिए सम्मान की बात है. इसे आप रेस्टोरेंट, मूवी हॉल में बजाकर छोटा ना करिए. मैं अपने मां-बाप को वहां ले जाऊंगा जहां उनकी इज्जत होगी. मेरे हिसाब से थिएटर में राष्ट्रीय गान नहीं बजना चाहिए और अगर बज रहा है तो सबको खड़ा होना चाहिए. मैं पाकिस्तान के राष्ट्रगान का भी सम्मान करूंगा. मैं दूसरों के राष्ट्रगान के लिए भी खड़ा होऊंगा. उन्होंने आगे कहा कि मैं लेफ्टिस्ट नहीं हूं ना राइट विंग में हूं. मैं बीच में हूं.

राष्ट्रगान पर सोनू से अलग है सनी लियोनी की राय, कहा- सम्मान में खड़ा होना जरूरी

बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोनी ने कहा, मुझे लगता है देशभक्ति की फीलिंग आपके दिल से निकलती है. सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला हो, मेरा मानना है राष्ट्रगान बजते वक्त आपको खड़ा होना चाहिए, मैं भी खड़ी होती हूं. अरबाज खान ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, सुप्रीम कोर्ट ने चाहे कहा हो कि सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान बजने पर खड़ा होना जरूरी नहीं है, लेकिन मैं हमेशा खड़ा होता हूं. यह मेरे लिए एक प्रैक्टिस की तरह है. इसलिए जब भी नेशनल एंथम बजता है, मैं ऑटोमैटिकली खड़ा हो जाता हूं.

अनुपम खेर बने FTII के चेयरमैन, शोभा डे बोलीं- मिल गया 'चमचागिरी' का फल

पब्लिक प्लेस में राष्ट्रगान बजने पर बॉलीवुड से जावेद अख्तर, अदनान सामी, अनूप सोनी, अपूर्व असरानी, मधुर भंडारकर, रघुराम, कमल हसन ने ट्वीट पर अपने विचार रखे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें