scorecardresearch
 

UP: अखिलेश ने बदली मुलायम के 'MY' फॉर्मूले की परिभाषा, कहा- यही दिलाएंगे जीत

अखिलेश यादव (akhilesh yadav) ने कहा, 'भारतीय जनता पार्टी एक झूठी पार्टी है और वह झूठे सपने दिखाती है, लेकिन अब उसके दिन चले गए हैं और प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (File-PTI) पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (File-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'नेताजी के एम-वाई फॉर्मूले को हम लोगों ने बदल दिया'
  • 'बीजेपी एक झूठी पार्टी, लोगों को झूठे सपने दिखाती है'
  • हमने उत्तर प्रदेश में विकास किया थाः अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश में अगले कुछ महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं और सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) समेत सभी प्रमुख दल अपने अभियान में जुट गए हैं. इस बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी की चर्चित एम-वाई (M-Y) फॉर्मूले की परिभाषा बदलते हुए कहा कि यही दोनों प्रदेश में सपा की सरकार बनवाएंगे.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ में एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में एम-वाई फॉर्मूले को नया नाम दे दिया है. महिलाओं और युवाओं को रिझाने की कोशिश में जुटे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश ने कहा कि हम नेताजी के फॉर्मूले पर काम नहीं कर रहे हैं. नेताजी ने जो एम-वाई का फॉर्मूला बनाया था उसे हम लोगों ने बदल दिया है.

उन्होंने कहा कि अब एम का मतलब महिला और वाई का मतलब यूथ है. यही दोनों मिलकर आगामी विधानसभा चुनाव में सपा की सरकार बनाएंगे.

इसे भी क्लिक करें --- सपा के मुस्लिम वोट बैंक पर कांग्रेस की नजर, दंगों पर मुलायम से अखिलेश तक को घेरने की तैयारी

बीजेपी झूठी पार्टीः अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने आगे कहा, 'भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) झूठी पार्टी है और झूठे सपने दिखाती है, लेकिन अब बीजेपी के दिन चले गए हैं और प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है क्योंकि बीजेपी ने जितने झूठे सपने दिखाए उतने झूठे सपने किसी भी राजनीतिक पार्टी ने जनता को नहीं दिखाएं. इसीलिए अब जनता 2022 के चुनाव में बदलाव चाहती है.'

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी की चुनाव को लेकर रणनीति के बारे में कहा, 'हमने उत्तर प्रदेश में विकास कार्य किया था. आगरा एक्सप्रेसवे बनवाया. जिलों में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की और कम समय में कई विश्वविद्यालय भी बनवाए इसीलिए इस बार जो भी पार्टी जनता के सुख-दुख में सहभागी होगी और उन्हें साथ लेकर चलेगी, वही पार्टी 2022 में जीतकर यूपी में आएगी.'

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा, 'जब यूपी में बीजेपी 2017 में जीत कर आई थी तो बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स लगवाए गए थे. राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को बुलाया गया था और साथ ही साथ देश के कई बड़े उद्योगपतियों को भी इन्वेस्टमेंट समिट के नाम पर बुलाया गया था. मैं सरकार से पूछना चाहता हूं कि सरकार बताए कि आखिर यूपी में कितना इन्वेस्टमेंट किया गया.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें