scorecardresearch
 

सपा से आईं रितु सिंह कांग्रेस के लिए 'संजीवनी' हैं! क्या है प्रियंका गांधी का प्लान?

कभी समाजवादी पार्टी में रहीं रितु सिंह ने शनिवार को प्रियंका गांधी वाड्रा की मौजूदगी में कांग्रेस ज्वॉइन कर ली. माना जा रहा है कि प्रियंका गांधी रितु सिंह के साथ महिलाओं के अत्याचार और सम्मान के नारे साथ विधानसभा चुनाव की रैली में नजर आएंगी.

रितु सिंह ने शनिवार को कांग्रेस ज्वॉइन कर ली. (फोटो- PTI) रितु सिंह ने शनिवार को कांग्रेस ज्वॉइन कर ली. (फोटो- PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सपा में रहीं रितु सिंह कांग्रेस में शामिल
  • प्रियंका के साथ रैलियों में दिख सकती हैं
  • चुनाव में उतारने की गुंजाइश कम

उतर प्रदेश दौरे पर आईं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) दो दिन से पार्टी कार्यालय पर संगठन के नेताओं के साथ मीटिंग कर रहीं हैं. मीटिंग का ये दौर देर रात तक चालू रहा. इस दौरान लखीमपुर जिले से समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की ब्लॉक प्रमुख रहीं रितु सिंह (Ritu Singh) ने प्रियंका गांधी से मिलकर कांग्रेस ज्वॉइन कर ली.

प्रियंका गांधी जब मीटिंग ले रही थीं उसी दौरान अचानक रितु सिंह ने अपने परिवार के साथ पहुंचकर कांग्रेस ज्वॉइन कर ली. पार्टी में शामिल होने के बाद रितु सिंह ने कहा कि केवल प्रियंका गांधी वाड्रा ही महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार और उत्पीड़न पर खड़ी नजर आती हैं. जबकि समाजवादी पार्टी ऐसी जगह दूर तक नजर नहीं आ रही. इसलिए वो कांग्रेस के साथ खड़ी हैं क्योंकि जब उनके साथ कोई नहीं था तब प्रियंका उनके सम्मान के लिये खुद मौजूद थीं, जो बड़ी बात है.

रितु सिंह कांग्रेस के लिए संजीवनी बूटी की तरह है क्योंकि महिला संगठन को धार देने के लिए कांग्रेस के पास कोई चेहरा नहीं है और अब रितु सिंह के आ जाने से कांग्रेस को नई दिशा मिल गई है. कांग्रेस अपनी आगामी यात्रा में रितु सिंह को महिलायों के उत्पीड़न और अत्याचार के खिलाफ हथियार की तरह प्रयोग कर सकती है. प्रियंका जनसंपर्क यात्रा में रितु सिंह को सामने लाकर घर-घर महिलाओं के सम्मान का नारा पहुंचाने की तैयारी कर रहीं हैं.

ये भी पढ़ें-- प्रियंका गांधी चुनावी मंथन में जुटीं, कांग्रेस 403 सीटों पर वॉर रूम बनाकर लड़ेगी चुनाव

कांग्रेस के पास मौजूदा हालात में 5 महिला विंग है जिसमें ईस्ट, वेस्ट, नार्थ, साउथ और सेंट्रल है. माना जा रहा है कि रितु सिंह महिला संगठन में बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है, क्योंकि महिलाओं के नाम पर कांग्रेस के पास कोई चेहरा नहीं है. रितु सिंह को कांग्रेस इसलिए भी सबसे अहम मान रही है क्योंकि वो सपा और बीजेपी दोनों पार्टियों से पीड़ित हैं. इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि प्रियंका गांधी ने मीटिंग रोक कर रितु सिंह से मिलकर काफी देर बात की और आगे आने को कहा.

रितु सिंह को विधानसभा चुनाव भी लड़ाया जा सकता है, लेकिन इसकी गुंजाइश काफी कम है. क्योंकि कांग्रेस रितु सिंह को चुनाव लड़वाने के लिए इस्तेमाल नहीं करेगी, बल्कि वो सिर्फ उनको महिलाओं के लिए एक पहचान और महिलाओं के प्रति कांग्रेस के सम्मान को दिखाना चाहती है.

कांग्रेस नेता और प्रवक्ता विकास श्रीवास्तव के मुताबिक, 'रितु सिंह को काफी समय बाद ये एहसास हुआ कि महिलाओं के सम्मान में सिर्फ प्रियंका गांधी खड़ी हैं और कोई मौजूद नहीं. हालांकि, चुनाव लड़ने की बात अलग है. अगर पार्टी उनकी योग्यता को देखेगी और पाएगी कि ठीक है तो चुनाव लड़ेंगी. नहीं तो महिला का सम्मान सिर्फ कांग्रेस पार्टी ही जानती है. रितु सिंह को पता था उन्हें किस पार्टी में सम्मान मिलेगा. इस वजह से रितु सिंह आज कांग्रेस में हैं.'

रितु सिंह साड़ी कांड के बाद चर्चा में आई थीं. उस वक्त सिर्फ प्रियंका गांधी ही एकमात्र थीं, जिन्होंने उन्हें घर पहुंचकर सांत्वना दी थी. दरअसल, सेमरा जानीपुर थाना पसगवां की रहने वालीं रितु सिंह ने पुलिस में तहरीर दी थी कि जब वो नामंकन करने जा रही थीं, तब बीजेपी समर्थकों ने उनकी और उनकी प्रस्तावक की साड़ी खींची थी और उनके साथ बदसलूकी की थी. उन्होंने ये भी आरोप लगाया था कि बीजेपी कार्यकर्ता ब्रज सिंह और यश वर्मा ने उनका बैग छीन लिया था, जिसमें 7500 रुपये थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें