scorecardresearch
 

नोएडा में कार लूट, झांसी में ड्राइवर का मर्डर, ऐसे हुआ कत्ल का सनसनीखेज खुलासा

नोएडा पुलिस ने फेस 3 में रहने वाले कैब चालक हरवेश की हत्या के मामले में सनसनीखेज खुलासा करते हुए 7 लोगों को गिरफ्तार किया है. दरअसल 26 मई 2021 को रत्नेश सिंह ने पुलिस को सूचना देकर बताया था कि उनके भाई हर हरवेश अपनी स्विफ्ट डिजायर कार समेत गायब हैं.

पुलिस ने इस मामले की छानबीन करते हुए एक के बाद एक 7 आरोपियों को पकड़ लिया पुलिस ने इस मामले की छानबीन करते हुए एक के बाद एक 7 आरोपियों को पकड़ लिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इसी साल 26 मई से कार समेत लापता था हरवेश
  • झांसी के बबीना में मिली थी हरवेश की लाश
  • पुलिस ने एक बाद एक 7 आरोपी किए गिरफ्तार

यूपी के नोएडा से लापता हुए ओला कैब चालक की हत्या का मामला पुलिस ने आखिरकार सुलझा लिया है. पुलिस ने हरवेश हत्याकांड के सिलसिले में एक नहीं दो नहीं बल्कि सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है. हरवेश का कत्ल कार लूट के मकसद से किया गया था. आरोपियों ने मर्डर के बाद उसकी लाश को झांसी में फेंक दिया था. 

नोएडा पुलिस ने फेस 3 में रहने वाले कैब चालक हरवेश की हत्या के मामले में सनसनीखेज खुलासा करते हुए 7 लोगों को गिरफ्तार किया है. दरअसल 26 मई 2021 को रत्नेश सिंह ने पुलिस ने सूचना देकर बताया था कि उनके भाई हर हरवेश अपनी स्विफ्ट डिजायर कार समेत गायब हैं. इसी के कुछ दिन बाद हरवेश की लाश झांसी के बबीना में बरामद हुई थी. 

तभी से नोएडा पुलिस इस कत्ल के मामले की जांच कर रही थी. पुलिस तफ्तीश के दौरान इस मर्डर केस की कड़ियों को जोड़ती गई और एक-एक कर सात आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए. जिनकी पहचान झांसी निवासी राहुल, सोनू सिंह, शिवम, आबिद, ग़ाज़ियाबाद निवासी सुदामा, शमसुद्दीन और दिल्ली के उम्मीद नामक शख्स के तौर पर हुई है.

इसे भी पढ़ें-- दिल्ली में बच्चा चोर गैंग की 4 महिलाएं गिरफ्तार, तीन साल के बच्चे को बेचने की कोशिश में थीं

पूछताछ के दौरान आरोपी सोनू उर्फ सौरव, शिवम और आबिद ने पुलिस को बताया कि 26 मई को उन्होंने मिलकर हरवेश की ओला स्विफ्ट कार बुक की थी. इसके बाद उन्होंने रास्ते में हरवेश की हत्या कर दी थी और उसकी स्विफ्ट डिजायर कार नंबर- यूपी82-टी-9306 लूट ली थी. बाद में हरवेश की लाश झांसी के जंगल में फेंक दी थी. 

ज़रूर सुनें-- दिल्ली पुलिस से कोर्ट क्यों वसूलेगा 25 हज़ार का जुर्माना?

आरोपी राहुल ने हरवेश की कार गाजियाबाद में सुदामा दत्त, शमसुद्दीन और उम्मीद को महज 50,000 रुपये में बेच दी थी. इन तीनों ने लूटी गई कार को काटकर उसके अलग-अलग पार्टस करके बेच दिए. आरोपियों ने स्विफ्ट कार की बॉडी को स्क्रैप में बेच दिया था. अब पुलिस ने केवल स्विफ्ट कार का इंजन बरामद किया है.  

ये भी पढ़ेंः

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें