scorecardresearch
 

सपा नेता दिनेश भाटी हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, तीन हत्यारों को किया गिरफ्तार

दादरी पुलिस ने इस हत्याकांड से जुड़े आरोपी सोनू, अमित सिंह और दीपक को नहर विभाग की कोठी से गिरफ्तार किया है. सपा नेता की 9 मई को लोहारली गेट के पास अज्ञात मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

दादरी पुलिस दादरी पुलिस
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पैसों के मामले में हुई दिनेश भाटी की हत्या
  • सपा नेता महेश भाटी के छोटे भाई थे दिनेश भाटी
  • कार से उतरते समय गोली मारकर कर दी गई थी हत्या

गौतम बुद्ध नगर की दादरी पुलिस ने सपा नेता दिनेश भाटी हत्याकांड का खुलासा कर दिया है पुलिस ने कत्ल करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है,. जिनकी निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल की गई पिस्तौल, एक मोटरसाइकिल, एक अवैध तमंचा और कारतूस बरामद किए गए हैं. दादरी पुलिस ने इस हत्याकांड से जुड़े आरोपी सोनू, अमित सिंह और दीपक को नहर विभाग की कोठी से गिरफ्तार किया है. गौरतलब है कि सपा नेता की 9 मई को लोहारली गेट के पास अज्ञात मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

बाइक बोट घोटाले की वजह से दोस्त ने सपा नेता के भाई की हत्या की, गिरफ्तार

इस हत्याकांड का गौतमबुद्ध नगर पुलिस कमिश्नरेट ने सनसनीखेज खुलासा किया है. दिनेश भाटी की हत्या बाइकबोट घोटाले के कारण हुई है. दरअसल, दिनेश के दोस्त ने उसके कहने पर बाइकबोट में पैसा लगाया था, मुनाफा नहीं मिला तो दोनों के बीच तकरार बढ़ती चली गई.

ग्रेटर नोएडाः दबंगों ने घर में घुसकर पिता-पुत्र को जमकर पीटा, वारदात CCTV में कैद

इस मामले पर ग्रेटर नोएडा के पुलिस उपायुक्त राजेश कुमार सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि दिनेश भाटी के कहने पर उसके दोस्त ने बाइकबोट में 50 हज़ार रुपये की रकम लगाई थी. मुनाफा नहीं मिलने पर दोस्त से तकरार हो गई. दोस्त और उसके दो साथियों ने सपा नेता महेश भाटी के भाई दिनेश भाटी की हत्या कर दी.

गिरफ्तारी के बाद मुख्य आरोपी सोनू ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया है "मेरे गांव के दिनेश भाटी ने मुझ से करीब 3 वर्ष पहले 50 हजार रुपये लिये थे. लेकिन न मुझे पैसे वापस दिये और न ही मुनाफा दिया, घटना से करीब तीन-चार दिन पहले मैं दिनेश की नर्सरी पर पेड़ लेने व पैसे मांगने गया था. तो दिनेश ने मुझसे गाली-गलौज दीं और मुझसे बदतमीजी की तथा तमंचा दिखाकर मुझे जान से मारने के लिये कहा था. मैंने उसी दिन इस घटना के बारे में दीपक को बताकर बदला लेने के लिये योजना बनाई.''

ग्रेटर नोएडा के डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि प्लान के मुताबिक दिनेश भाटी का कत्ल करने के लिए सोनू ने अपने साथ ही अमित को ग्रेटर नोएडा से बुलाया. प्लानिंग के मुताबिक 8 जून को सभी ने मिलकर दिनेश भाटी का कत्ल करने की योजना बना ली थी. 9 जून की शाम को यह सभी लोग दिनेश की नर्सरी पर गए थे लेकिन वहां पर दिनेश नहीं मिला, जिसके बाद यह तीनों दिनेश का इंतजार करने लगे. थोड़ी देर इंतजार के बाद इन दोनों को दिनेश एक गाड़ी में नजर आया. तभी कातिलों ने उसकी गाड़ी को रोककर, गोली मारकर हत्या कर दी. मृतक दिनेश भाटी पर पहले से डेढ़ दर्जन मुकदमे हैं. अभी हाल ही में अपने एक पारिवारिक मामले में भी मृतक जेल भी गया था.

आपको बता दें कि मृतक दिनेश भाटी, सपा नेता महेश भाटी का छोटा भाई है. इससे पहले महेश भाटी के बेटे मोहित की 27 नवंबर 2018 में हत्या कर दी गई थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें