scorecardresearch
 

राजस्थान: भीम आर्मी के सदस्य की पीट-पीटकर हत्या, दबंगों ने वारदात को दिया अंजाम

राजस्थान के हनुमानगढ़ में भीम आर्मी के एक सदस्य को पीट कर मार डालने की घटना हुई है. आरोप है कि दबंग जातियों के दो लड़के राकेश और अनिल ने हॉकी स्टिक से 25-30 मिनट तक विनोद की पिटाई की थी.

विनोद मेघवाल की पीट-पीटकर हत्या विनोद मेघवाल की पीट-पीटकर हत्या
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विनोद मेघवाल की पीट-पीटकर हत्या
  • परिजनों ने किया प्रदर्शन, आरोपी गिरफ्तार

राजस्थान के हनुमानगढ़ में भीम आर्मी के एक सदस्य को पीट कर मार डालने की घटना हुई है. हनुमानगढ़ जिले के रावतसर थाना क्षेत्र के गांव किंकरालिया में अम्बेडकर जयंती के दिन हुए झगड़े के बाद 21 साल के विनोद मेघवाल पर 5 जून को दो युवकों ने हमला किया. घायल विनोद कुमार मेघवाल की श्रीगंगानगर में उपचार के दौरान मौत होगई.

आरोप है कि दबंग जातियों के दो लड़के राकेश और अनिल ने हॉकी स्टिक 25-30 मिनट तक विनोद की पिटाई की थी. विनोद की मौत के बाद परिवार जनों व ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया. इसी आक्रोश को लेकर उन्होंने रावतसर पुलिस थाना में तीन जनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया और धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया था.

मृतक के परिजनों का आरोप है कि विनोद की हत्या की गई है, क्योंकि 24 मई को मकान पर अंबेडकर का लगा बैनर हटाने को लेकर विवाद में विनोद के साथ गांव के ही दबंगों ने मारपीट की थी, जिसके बाद उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. गौरतलब है कि इस मामले में पंचायत भी हुई थी और राजीनामा भी हो गया था.

पंचायत के बाद भी कुछ युवक विनोद से रंजिश रखने लगे थे. इसी रंजिश के चलते उन्होंने उससे मारपीट की, जिसमें उसकी मौत हो गई. मृतक विनोद के परिजनों का आरोप है कि पहले भी उन्होंने मामला दर्ज करवाया था, लेकिन पुलिस ने कोई सुनवाई नहीं की और विनोद की मौत हो गई, इसमें पुलिस की भी मिलीभगत है.

विनोद के भाई सतपाल ने बताया कि पहले भी स्कूलों में हनुमान चालीसा बांटने को लेकर जब विनोद ने आपत्ति जतायी थी, तब इसे जान से मारने की धमकी दी गई थी. एक बार और जब यह रोड ब्लॉक कर रहे थे, तब भी विनोद ने आपत्ति जतायी थी, तब भी उसे जान से मारने की धमकी दी गई थी, पुलिस को हमने कंप्लेन किया था, मगर पुलिस ने कुछ भी नहीं किया.

धरना प्रदर्शन कर रहे कामरेड जगदीश सिंह जग्गी का कहना है कि विनोद की हत्या मामले में पुलिस अभी तक कोई कार्रवाई नहीं कर रही है और उनकी मांग है कि मृतक के परिवार को 25 लाख की आर्थिक मदद दी जाए और जो खेत में जाने का रास्ता विवाद है, उसको भी निपटाया जाए. साथ ही मृतक के परिवार में से एक को सरकारी नौकरी दी जाए.

हनुमानगढ़ के ADM गुंजन सोनी ने कहा कि परिवार वालों से वार्ता के बाद सहमति बनी है, जो मुआवज़े की मांग कर रहे हैं, वह सरकार देने के लिए तैयार है. DSP रणवीर मीणा ने कहा कि विभागीय जांच के बाद घटना में शामिल अपराधियों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें